SPONSORED

पत्नी के शव को 12 किलोमीटर तक उठाकर ले जाना पड़ा इस पति को, शर्मसार कर देगी वजह

पत्नी के शव को 12 किलोमीटर तक उठाकर ले जाना पड़ा इस पति को, शर्मसार कर देगी वजह
SPONSORED

वो कहा जाता है ना 'जीते जी किसी का साथ न मिला, मरने पर उमड़ पड़ा हुजूम।' ऐसा ही कुछ ओडिशा के कालाहांडी के एक आदमी के साथ हुआ है। जिस खबर को हम आपको बता रहे हैं उसको पढ़कर आपका दिल रो पड़ेगा और आप सोचने पर मजबूर हो जाओगे की हमारे समाज में किस तरह के लोग रहते हैं।

SPONSORED

इन्सानियत हुई शर्मसार।

इन्सानियत हुई शर्मसार।

यह हमारे देश की तस्वीर है जो हम देख रहे हैं जब की लोग कहते हैं की भारत बदल रहा है। यह इन्सानियत को शर्मसार करने वाली घटना है। दरासल, एक व्यक्ति की पत्नी टीबी की मरीज़ थी। पैसों की कमी की वजह से वह उसका इलाज़ ना करा सका और उसकी पत्नी की मौत हो गयी।

RELATED STORIES

उसकी पत्नी का शव ले जाने के लिए उसने अस्पताल से वाहन की व्यवस्था करने के लिए कहा। 

उसकी पत्नी का शव ले जाने के लिए उसने अस्पताल से वाहन की व्यवस्था करने के लिए कहा। 
via

लेकिन पैसे ना होने की वजह से अस्पताल वालों ने उस आदमी को वाहन देने से इंकार कर दिया।

शव उठाकर पैदल चलना पड़ा 12 किलोमीटर।

शव उठाकर पैदल चलना पड़ा 12 किलोमीटर।
via

आदमी के पास दूसरा कोई विकल्प ना बचने के कारण उस आदमी को अपनी पत्नी का शव लेकर 12 किलोमीटर तक पैदल चलना पड़ा।

पुलिस प्रशासन ने की वाहन की व्यवस्था।

पुलिस प्रशासन ने की वाहन की व्यवस्था।
via

आस पास के लोगे ने जब उस आदमी को शव ले जाता देखा तो उन्होंने स्थानीय प्रशासन को इसकी सूचना दी। प्रशासन ने अस्पताल से वाहन की व्यवस्था की।

SPONSORED

पुलिस ने की पूछताछ।

पुलिस ने की पूछताछ।
via

पुलिस के पूछे जाने पर मांजी ने कहा की उसने अस्पताल से काफी समय तक वाहन को लेकर चलने के लिए प्रार्थना की मगर पैसों की कमी की वजह से किसी ने उसकी बात को गंभीरता से नहीं लिया।

अस्पताल वालों ने किया अपना बचाव।

अस्पताल वालों ने किया अपना बचाव।
via

अस्पताल वालों ने अपने बचाव करने के लिए कहा की एम्बुलेंस के आने में थोड़ा समय लग गया जिस कारण वह मांजी को एम्बुलेंस की सुविधा नहीं प्राप्त करा सके।

मांजी कालाहांडी के मेलघर का रहने वाला है।

मांजी कालाहांडी के मेलघर का रहने वाला है।
via

SPONSORED