दिल्ली में जलजला: देखिए कांस्टेबल स्वाम की बहादुरी के वो डेढ़ घंटे, जिसमे बचाई 16 मासूम जानें 

यह दास्ताँ एक सच्चे पुलिस ऑफिसर और इंडिया के नए हीरो की हैI

दिल्ली में जलजला: देखिए कांस्टेबल स्वाम की बहादुरी के वो डेढ़ घंटे, जिसमे बचाई 16 मासूम जानें 
SPONSORED

भारतीय पुलिस की अपने बहुत सारी कहानियां सुनी व देखी होंगी, कहीं किसी के साथ रिश्वत लेते हुए तो कहीं पुलिस की गुंडागर्दी, कहीं नशा करते हुए तो कहीं गलियां देते हुएI
हम आपको बता दें की जैसे हाथ की पांचो उँगलियाँ एक समान नहीं होती हैं वैसे ही दिल्ली पुलिस के सभी कर्मचारी सामान नहीं हैं, आज हम दिल्ली पुलिस के ऐसे ही कर्मचारी की बहादुरी की कहानी बयां करने जा रहे हैं जिसे सुनकर आपको भी हमारी दिल्ली पुलिस को सलाम करने का दिल करेगाI

इस साल दिल्ली में बाढ़ का कहर दिखाI

इस साल दिल्ली में बाढ़ का कहर दिखाI

2016 बारिश का  मौसम दिल्ली के लिए सुहाना नहीं बीता, इस साल बाढ़ का कहर बर्पा तो समस्या आम नागरिकों को हुईI कई जगह तो हालात इतने बत्तर होगये की पानी खतरे के निशान के ऊपर आगया और लोगों का रोड पर चलना तो दूर कार और बस का भी निकलना दुस्बर हो गयाI

RELATED STORIES

2 सितम्बर 2016 को बाढ़ में फसी स्कूल बसI

2 सितम्बर 2016 को बाढ़ में फसी स्कूल बसI
via

2 सितम्बर के दिन हालत बहुत ही नाजुक होगये, साउथ दिल्ली की स्कूल बस एक पिलर से टकरा गई बस में 70 बच्चे और कुछ टीचर्स भी थे जो की वहीँ फस गएI

पानी का स्तर बढ़ता ही जा रहा था, जिससे बच्चों को बस की छत का सहारा लेना पड़ाI

पानी का स्तर बढ़ता ही जा रहा था, जिससे बच्चों को बस की छत का सहारा लेना पड़ाI
via

पानी का स्तर खतरनाक ढंग से ऊपर आराहा था जिससे बच्चों को बस की छत का सहारा लेना पड़ा, टीचर ने इस बात की सूचना फ़ौरन पुलिस को दीI

पुलिस वैन फ़ौरन मदद के लिए पहुंचीI

पुलिस वैन फ़ौरन मदद के लिए पहुंचीI
via

पुलिस की वैन जल्द से जल्द वहां पहुंचीI वैन में ASI चोखे लाल जी के साथ कांस्टेबल मुरलीलाल जी थे दोनों ने बस को डूबते हुए देखा तो अपनी टीम को सूचना दी और और जल्द से जल्द मदद भेजने को कहाI लेकिन मुरलीलाल जी ने देखा कि बच्चों की जिन्दगी खतरे में है, उन्होंने बिना समय जाया किये पानी में कूद गए और हर एक बच्चे को अपने कंधे पर रख कर सुरक्षित जगह पर पहुँचाया उन्होंने इस बात की भी परवाह नहीं की कि वह तैर नहीं सकते हैंI

तैरने के लिए तैराक होना आवश्यक नहींI

तैरने के लिए तैराक होना आवश्यक नहींI
via

मुरलीलाल जी ने यह साबित कर दिया के बच्चो की जिन्दगी बचाने के लिए तैरना आवश्यक नहीं बस होंसला ही काफी हैI

डेढ़ घंटे बिना डरे

डेढ़ घंटे बिना डरे

मुरलीलाल जी पुरे डेढ़ घंटे कंधे के ऊपर तक सीवेज के गंदे पानी में रहेI और 16 बच्चों को खुद ही बहार निकालाI

दिल्ली के रियल हीरो 

दिल्ली के रियल हीरो 

सीवेज के पानी में रहने के बाद उन्हें स्किन इन्फेक्शन भी होगया लेकिन वो दिल्ली के और उन बच्चों के रियल हीरो बन गएI दिल्ली के डिप्टी कमिशनर आर.के बंसल ने उन्हें बहादुरी के लिए पुरुस्कारीत करने की घोषणा की हैI

दिल्ली के इस सिपाही को हमारी पुरी Wittyfeed की टीम सलाम करती हैI