मदर टेरेसा पर लगे थे बहुत आरोप जिन्हें जानकार आप अचंभित रह जायेंगे 

विवाद और मदर टेरेसा का साथ अटूट था।  

मदर टेरेसा पर लगे थे बहुत आरोप जिन्हें जानकार आप अचंभित रह जायेंगे 
SPONSORED

मदर टेरेसा का नाम सुनते ही एक एसी देवी की छवि आँखों के सामने आती है, जिसने अपना सम्पूर्ण जीवन गरीबों के हक़ के लिए लड़ने में बिता दिया। 

मगर जैसे हर सिक्के के दो पहलु होते हैं, मदर टेरेसा की कहानी के भी दो हिस्से थे। पहला हिस्सा यह जहाँ उन्हें उनके कार्य के लिए "नोबेल" प्राइज़ दिया गया और दुसरे हिस्से में उनकी कड़ी आलोचना भी की गई।

आइये जानते हैं, क्या-क्या इल्जाम लगे मदर टेरेसा पर?

गटर की संत 

गटर की संत 

शहर की गन्दी बस्तियों में काम करने की वजह से उन्हें "गटर की संत" कहा जाता है। 

RELATED STORIES

धार्मिक रुढिवादी 

धार्मिक रुढिवादी 
via

ब्रिटेन के एक लेखक क्रिस्टोफर हिंचेक ने मदर टेरेसा के बारे में टिप्पणी करते हुए कहा "वह एक धार्मिक रुढ़िवादी, एक राजनीतिक गुप्तचर, एक कट्टर उपदेशक, और दुनिभर की धर्मनिरपेक्ष ताकतों की साथी थी।    

सिरिंज में एक ही सुई का बार-बार इस्तेमाल 

सिरिंज में एक ही सुई का बार-बार इस्तेमाल 
via

लन्दन के डॉक्टर अरुण चेटर्जी ने मिशनरीज ऑफ चैरिटी संस्था के 100 लोगों का इन्टरव्यू करने के बाद आरोप लगाए उन्होंने कहा उनके द्वारा बनाये घरों में बाकी चीजों के अलावा स्वच्छता की भी बदत्तर हालात, सिरिंज में एक ही सुई का बार-बार स्तेमाल तथा देखभाल की घटिया व्यवस्था होती है।   

मिशनरीज ऑफ़ चैरिटी संस्था किसी भयानक लापरवाही के साथ काम करती है

मिशनरीज ऑफ़ चैरिटी संस्था किसी भयानक लापरवाही के साथ काम करती है
via

कलकत्ता में गरीबों के लिए बनवाये गए मकान में दो महीने करने वाले मियानी के हेमली गोंदालेथ के अनुसार मिशनरीज ऑफ़ चैरिटी संस्था किसी भयानक लापरवाही के साथ काम कर रहा है, यह लोगों के मन में चैरिटी के प्रति जो विचार था यह उसके ठिक विपरि था।  

उन चमत्कारों पर ही सवाल उठाये गए जिनकी वजह से वे संत बनी थी 

उन चमत्कारों पर ही सवाल उठाये गए जिनकी वजह से वे संत बनी थी 
via

भारतीय रेशनलिस्टो सनल एदमारुकु ने तो उन चमत्कारों को ही सवालों के घेरे में खड़ा कर दिया जिनकी वजह से वे संत बनी थी। 

म्रत्यु के बाद दो चमत्कार होने के बाद ही संत की उपाधि 

म्रत्यु के बाद दो चमत्कार होने के बाद ही संत की उपाधि 
via

मदर टेरेसा को संत घोषित करने पर हल्ला इस बात पर भी है कैथोलिक चर्च की यह मान्यता है, कि संत बन्ने म्रत्यु के बाद दो चमत्कार होना आवश्यक है। लेकिन मदर टेरेसा का सिर्फ एक ही चमत्कार स्वीकार हुआ है।    

पैसे दे कर बनाया जाता था इसाई 

पैसे दे कर बनाया जाता था इसाई 
via

मदर टेरेसा और उनकी संस्था पर हमेशा से यह आरोप भी लगे हैं, कि वह गरीबों को पैसों का लालच दे कर उनका धर्म परिवर्तन कर उन्हें इसाई बना देते थे। 

चैरिटी फंड का गलत उपयोग होता था 

चैरिटी फंड का गलत उपयोग होता था 
via

गरीब से गरीब लोगों की सहायता करने का दावा करने वाली मदर टेरेसा पर यह भी आरोप लगा के वह उनके चैरिटी फंड का गरीबो की सहायता के लिए एकत्रित किये गए धन। 

जनसँख्या का खुलकर विरोध 

जनसँख्या का खुलकर विरोध 
via

मदर टेरेसा ने अपने सम्पूर्ण जीवन में जनसँख्या का खुल कर विरोध किया, मगर वहीँ कई अर्थशास्त्री मानते थे की देश की उन्नति के लिए युवाओं का भारी संख्या में होना अत्यंत आवश्यक है।    

मगर वह अब भी जिन्दा हैं 

मगर वह अब भी जिन्दा हैं 
via

कहने वाले बहुत कुछ कहते हैं। हाँ यह बात अलग है कुछ अच्छा होता है और कुछ बुरा। मगर असल मायनें में व्यक्ति का व्यक्तित्व पूजा जाता है। और जिसके दुनिया भर में इतने चाहने वाले हों उसमें कोई तो बात होगी न।