SPONSORED

लगभग 2500 किलोमीटर चलकर और 73000 रूपए खर्च कर बचाया 100 कुत्तों को लोगों का खाना बनने से  

सुना होगा कुत्ते ने इंसान को नहीं छोड़ा, पर यह नहीं सुना होगा की इंसान भी कुत्तो को नहीं छोड़ते।

लगभग 2500 किलोमीटर चलकर और 73000 रूपए खर्च कर बचाया 100 कुत्तों को लोगों का खाना बनने से  
SPONSORED

कुत्ता इंसान को काट खाया, बहुत दर्द है इस बात में... पर असली दर्द तो यह है कि अपनी भूख मिटाने के लिए इंसान ने कुत्तों को भी खाना शुरू कर दिया।
लेकिन एक 65 वर्षीय यांग सियाओयुन ने ऐसा काम किया जिसे सोचना भी मुश्किल है।

SPONSORED

1. इंसान दया शब्द भूल गया।

1. इंसान दया शब्द भूल गया।

हर साल 10,000 कुत्तों को बेरहमी से मार कर खाया जाता है। इन बेज़ुबान का कसूर सिर्फ इतना है की ये कुत्ते है।

RELATED STORIES

2. बिमारी, दर्द, घाव, ये सब तो सहन करना ही है।

2. बिमारी, दर्द, घाव, ये सब तो सहन करना ही है।

कितने ही कुत्तो को बीमारियों के, घाव के, मार के दर्द सहन करना पड़ते है। इनकी पुकार सिर्फ एक शोर है, और कुछ भी नहीं।

3. मदद का हाथ 

3. मदद का हाथ 

इन सब बेरहम इंसानो के बीच एक बूढी औरत ने हिम्मत और साहस भरा काम कर दिखाया। पैसा और समय देकर इस महिला ने कुत्तो को ख़रीदा और उन्हें बचा लिया।

4. प्रेम भाव 

4. प्रेम भाव 

इंसानो द्वारा ऐसा भद्दा काम करने के बाद भी, इन कुत्तो के मन में इंसानो के प्रति वही प्रेम भाव है, ऐसा सिर्फ एक जानवर ही हो सकता है क्योंकि इंसान तो बददिमाग हो चला है।

5. वो सुकून के पल 

5. वो सुकून के पल 

सुकून, उन कुत्तो को जो बच गए। ज़िंदा रहकर हम इंसानो की रखवाली में ये जानवर भी जान गए कि इन दरिंदो के बीच कोई तो है जो हमारे साथ है।

6. दर्द की दवा भी इन्होंने दी 

6. दर्द की दवा भी इन्होंने दी 

जो दर्द दे, वही दवा लगाए। इंसान होता तो वही हमला कर देता, पर ये जानवर इतने समझदार होते है की मदद करने वालो को बदले में मदद ही देते है।

SPONSORED

7. वो अपनापन इन बाहो में 

7. वो अपनापन इन बाहो में 

जिन हाथो में चाक़ू हो सकते थे, जिन कंधो पे खून, उन्ही हाथो में अपनापन और प्यार है, उन्ही कंधो पर आराम की नींद।

8. माँ के हाथ का खाना 

8. माँ के हाथ का खाना 

माँ तो माँ है, खाना तो माँ के हाथो का ही भूख मिटाता है, इसी माँ ने इन कुत्तो के लिए बचे हुए पैसो से खाना बनाया।

9. जिन्हें लोग खा जाते वो खुद खाने के इंतज़ार में है 

9. जिन्हें लोग खा जाते वो खुद खाने के इंतज़ार में है 

अपने हाथो से फिर इन कुत्तो को खाना खिला कर मन में शांति का सुकून, माँ के भी और इन कुत्तो के भी।

10. अब थोड़ा प्यार आपके लिए 

10. अब थोड़ा प्यार आपके लिए 

जान बचाई, खाना दिया, और नया जीवन, तो एक जादू की झप्पी आपके लिए।थैंक यू माँ।

11. चलो अब अपने नाम बताओ 

11. चलो अब अपने नाम बताओ 

SPONSORED
-->