जीवन की 10 महत्वपूर्ण बातें जो हमें बच्चों से सीखनी चाहिए

बच्चे मन के सच्चे सारे जग के आँख के तारे।



जीवन की 10 महत्वपूर्ण बातें जो हमें बच्चों से सीखनी चाहिए
SPONSORED

बेशक एक गुरु या शिक्षक के बिना हर किसी का जीवन अधूरा होता है। शिक्षक वह हस्ती होती है जो कच्ची मिट्टी को एक सुन्दर रूप देती है और उस मिट्टी के जीवन को मूल्य प्रदान करती है। हर बड़ा व्यक्ति किसी न किसी रूप में अपने से छोटों का शिक्षक होता है। पर गौर करने वाली बात यह है कि इस बड़े होने की प्रक्रिया में हम अक्सर छोटी-छोटी बातों को भूल जाते हैं जो एक छोटा सा बच्चा भी हमे सीखा सकता है। तो कहने का सार यह है कि बच्चे भी बड़ों को ऐसी कई बातें सिखाते हैं जिस पर वो गौर भी नहीं करते। तो आईए सीखते हैं ऐसी ही कुछ बच्चों वाली बातें।

1. बिंदास मुस्कुराना।

1. बिंदास मुस्कुराना।

आपने किसी बच्चे को मुस्कुराते हुए तो देखा ही होगा। कितनी मासूम, प्यारी, बेशर्म सी हँसी होती है उनकी। साथ ही उन्हें मुस्कुराने के लिए कोई बड़ी वजह भी नहीं लगती। सोचिये हम कितनी दफ़ा कर पाते हैं ऐसा?

RELATED STORIES

2. हँसी बाँटना।

2. हँसी बाँटना।
via

बच्चे केवल खुद ही नहीं मुस्कुराते, बल्कि वह दूसरों को हँसाने का मौका भी नहीं छोड़ते। आपने देखा होगा कि बच्चे अक्सर उसी काम को बार-बार दोहराते हैं जिसको देखकर दूसरे हँसने लगें। हम शायद ही कभी इतनी आसानी से किसी को हँसा पाते होंगे।

3. बीती बातों को भूल जाना।

3. बीती बातों को भूल जाना।
via

चाहे वो आपसे रूठे हों या आपने उन्हें डांट लगाई हो कुछ देर मुँह फुलाने के बाद वो सबकुछ भुलाकर आपके पास लौट ही आते हैं।लेकिन हम तो बड़े होते-होते छोटी-छोटी बातों को भी दिल पर लगाने लगते हैं।

4. खुलकर रोना।

4. खुलकर रोना।
via

वैसे बच्चे अक्सर कुछ ज्यादा ही रोते हैं पर साथ ही उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता कि कोई उनका मजाक तो नहीं बनाएगा। खैर हम बच्चों की तरह तो नहीं रो सकते पर हमेशा ही अपने आँसू छुपाना गलत होता है।

5. दिल की बातें कह देना।

5. दिल की बातें कह देना।
via

बच्चे अपनी हर छोटी सी चोट को लेकर भी माँ के पास पहुँच जाते हैं। साथ ही वो हर बात भी अपनों से कह देते हैं। पर जैसे ही हम बड़े होते हैं बड़ी-बड़ी बातें भी दिल में रखकर घुटने लगते हैं। अपनों से बच्चों की तरह दिल की बाते कह देना गलत नहीं होता।

6. प्यार करना।

6. प्यार करना।
via

हम बड़े तो प्यार को कई परिभाषाएँ दे देते हैं। बच्चों को तो इसका मतलब भी नहीं पता होता फिर भी वो बिना स्वार्थ के जो पसंद हो उससे प्यार करते हैं। वो तो अपने खिलौनों (जो उन्हें बदले में कुछ नही दे सकते) से भी इतना प्यार करते हैं जितना अपने माँ-पापा से।

7. कोशिश न छोड़ना।

7. कोशिश न छोड़ना।
via

कोई भी बच्चा एक बार में चलना नहीं सीख सकता। वह तब तक कोशिश नहीं छोड़ता जब तक सीख न जाए। साथ वह यह कोशिश पूरे दिल से खुश होकर करता है। वही हम तो एक कोशिश करने पर नाकामयाबी मिलने पर ही निराश होने लगते हैं।

8. बेफिक्र होना।

8. बेफिक्र होना।
via

बच्चे जो दिल में आए वो ही करते हैं। उन्हें अपने आस पास कौन है इससे फर्क नहीं पड़ता। पर हम शायद बहुत सी चीज़ें लोग क्या सोचेंगे यह सोचकर ही नही कर पाते।

9. जिद्दी होना।

9. जिद्दी होना।
via

बच्चे यूँ तो बहुत ही जिद्दी होते हैं। उनकी हर जिद पूरी भी नहीं की जा सकती। वो कुछ गलत चीज़ों की जिद इसीलिए करते हैं क्योंकि वो नासमझ होते हैं। पर हम तो समझदार होते हैं फिर भी जायज़ चीज़ों के लिए भी जिद नहीं करते।

10. नादानी।

10. नादानी।
via

बच्चे बहुत मासूम होते हैं। उन्हें दुनियादारी जैसी बड़ी बातें नहीं समझ आती। इसीलिए वह ज्यादा परेशान भी नहीं होते हैं। आपको नहीं लगता कभी-कभी हमे भी कुछ बातों के लिए नादान बन जाना चाहिए।