SPONSORED

चमत्कार या विज्ञान: 550 साल पुरानी ममी के बढ़ रहे हैं नाख़ून और बाल, करती है मुरादें पूरी

550 साल पुरानी ममी के नाख़ून और बाल बढ़ रहे हैं जाने पूरी कहानी क्या है इसके पीछे का राज।



चमत्कार या विज्ञान: 550 साल पुरानी ममी के बढ़ रहे हैं नाख़ून और बाल, करती है मुरादें पूरी
SPONSORED

550 -

भारत – तिब्बत के बिच बसा हिमालय प्रदेश 

भारत – तिब्बत के बिच बसा हिमालय प्रदेश 

यहाँ एक गाँव आज कल हर जगह चर्चा में है और लोग ममी को देखने जाने लगे है, गाँव वालो का कहना है की ये ममी 550 साल पुरानी है और इसके नाख़ून और बाल अपने आप बढ़ रहें है। साल में 5 से 8 महीने ये गाँव बर्फ में ही दबा रहता है पर इस ममी का रहस्य अभी तक रहस्य ही बना हुआ हैं और लोगो का कहना है की ये कोई चमत्कारी शक्ति है।

RELATED STORIES

SPONSORED
SPONSORED

लोग मानते है भगवान

लोग मानते है भगवान
via

सुनने में अजीब लगता है पर यहाँ के लोग इस ममी को भगवान मानते है और हर रोज इसकी पूजा करते है यहाँ के लोगो का कहना है की ये ममी उनकी हर मुराद पूरी करती है।

हिमाचल के लाहौल स्पीति के गयू गाँव में मिली

हिमाचल के लाहौल स्पीति के गयू गाँव में मिली
via

 आपको बताना चाहूँगा की यह ममी हमाचल के गयू गाँव में मिली है बहुत से वैज्ञानिकों ने इस गाँव का दौरा किया है पर अभी तक नाख़ून और बाल बढ़ने का रहस्य नहीं खुला है।

विदेशी लोग आते है देखने

विदेशी लोग आते है देखने
via

 जैसे ही ये ममी चर्चा में आई लोग इसे देखने के लिए दौड़े आते है और यहाँ आकर इसकी फोटो निकालते है तो कुछ अपनी मुराद लेकर आते है। जैसा की गाँव वाले मानते है ये ममी हर किसी की मुराद पूरी करती हैं।

ममी बनाने के लिए एक ख़ास लेप का उपयोग

ममी बनाने के लिए एक ख़ास लेप का उपयोग
via

 यहाँ के लोग किसी मृत शरीर को ममी बनाने के लिए एक ख़ास प्रकार के लेप का उपयोग करते है इस लेप में किसी प्रकार का कैमिकल मिक्स नहीं होता है।

अजीब बात है ये – इस गाँव में अनेक ममी है और सभी लेटी हुई अवस्था में है पर ये एक ही ममी है जो बैठी हुई है और इस ममी के निरंतर बाल और नाख़ून बढ़ रहे हैं।

दफन होने के बाद फिर मिली वापिस

दफन होने के बाद फिर मिली वापिस
via

 गाँव वालों ने बताया की ये ममी पहले गाँव एक स्तूप में स्थापित थी पर 1974 भूकंप में ये कहीं दफन हो गई थी और 1995 में सड़क बनाते वक्त खुदाई में इसे निकला था। कहते हैं की जब इस ममी को खुदाई के वक्त कुदाल लगा तो इस ममी के खून तक निकला था और उसका निशान आज भी मौजूद हैं।

बिच्छुओं के प्रोकोप से बचाती है ममी 

बिच्छुओं के प्रोकोप से बचाती है ममी 
via

गाँव वालो का  कहना है की 550 साल पहले गाँव में बिच्छुओं का प्रकोप इतना बढ़ गया था की गाँव वालों ने गाँव के एक संत से इस प्रोकोप के अंत के लिए विनती की थी और संत ने कहा की अगर गावं वाले उसे जमीन में दफन कर देंगे तो अच्छे से भगवान को खुश कर पाउँगा और गाँव को बिच्छुओं से मुक्त करवा पाउँगा।

वही संत है ममी

वही संत है ममी
via

माना जाता है की जब उस संत को जमीन में दफन किया गया और जैसे ही उनके प्राण निकले गाँव में इन्द्रधनुष निकला और गाँव बिच्छू मुक्त हो गया और वो संत ममी के रूप में आ गये।

SPONSORED