जानवरों पर बनी कुछ बहुत ही मज़ेदार कहावतें

आप इनमे से बहुत कहावतें तो सुन चुके होंगे।

जानवरों पर बनी कुछ बहुत ही मज़ेदार कहावतें
SPONSORED

हम भारतीय हर बात डंके की चोट पर करते हैं. और जब बात कहावतों की हो तो हमें टक्कर देने वाला कोई नही. वैसे तो ये कहावतें बहुत छोटी होतीं हैं, लेकिन इनका मतलब बहुत ही गहरा और सटीक होता है.

यहाँ पेश है जानवरों पर बनी कुछ मज़ेदार कहावतें जिन्होंने अपना दबदबा कायम किया हुआ है -

ऊंट के मुंह में जीरा –

ऊंट के मुंह में जीरा –

वैसे तो ऊंट अपने शांत स्वभाव और सूझ-बूझ के लिए जाने जाते हैं, लेकिन ये इल्ज़ाम शायद ही अपने सर लें.

RELATED STORIES

बंदर क्या जाने अदरक का स्वाद – 

बंदर क्या जाने अदरक का स्वाद – 
via

वैस आदमी का भी विकास बंदर ही से हुआ है, उनकी काबिलियत पर संदेह करना उचित नही.

गई भैस पानी में –

गई भैस पानी में –
via

भैस की चमड़ी काफी मोटी होती है और उसे इसके कारण काफी गर्मी होती है. इसीलिए वह पोखर, तालाब या नदी के पानी में जा कर बैठ जाती है. उसे क्या पता उसके पानी में जाने से आपको इतना ऐतराज़ है.

नौसो चूहे खाकर बिल्ली चली हज को –

नौसो चूहे खाकर बिल्ली चली हज को –
via

वैसे बिल्ली कहीं भी चली जाए, वो वहां चूहे ही पकड़ेगी. 

कुत्ते को घी हज़म नही होता –

कुत्ते को घी हज़म नही होता –
via

वैसे बात दरअसल ये है कि इंसानों की संगत में रहकर वह भी हाई ब्लड प्रेशर का मरीज़ हो गया है.

अब आया ऊंट पहाड़ के नीचे –

अब आया ऊंट पहाड़ के नीचे –
via

ऊंट भले ही पहाड़ के नीचे हो या ऊपर, हमेशा सर उठाकर चलतें हैं. स्वाभिमान के साथ चलना तो कोई इनसे सीखे.

हांथी के दांत - देखने के कुछ और खाने के कुछ

हांथी के दांत - देखने के कुछ और खाने के कुछ
via

सफ़ेद और मज़बूत दांत ख़ूबसुरती और जवानी की निशानी है. क्या इंसानों को हाथियों की इस विशेषता से जलन हो रही है?