SPONSORED

रात के अँधेरे में भी सूरज की रोशनी होती है, सोचा है कभी?

ज़िंदगी जीने का सकारात्मक नज़रिया। 

रात के अँधेरे में भी सूरज की रोशनी होती है, सोचा है कभी?
SPONSORED

यह तो सभी जानते हैं कि जीवन में उतार-चढ़ाव या फिर कहें कि सुख और दुःख दोनों का ही आना तय है। हम दोनों में से किसी को रोक नहीं सकते। पर अक्सर ही यह होता है कि हम दुःख आने पर उसमे इतना डूब जाते हैं कि सुख आने पर भी उसे देख ही नही पाते। बल्कि हमे करना यह चाहिए कि दुःख या परेशानी में भी कुछ अच्छा सोचने की कोशिश करनी चाहिए।

सवाल यह है कि आखिर किसी बुरी परिस्थिति में किस तरह अच्छा सोचा जाये? तो आइये हम साथ में जानने की कोशिश करते हैं कि किस तरह की परिस्थिति में किस तरह अच्छा सोचा जा सकता है। 

SPONSORED

परीक्षा में कम अंक आने पर

परीक्षा में कम अंक आने पर

परीक्षा में कम अंक आने या अनुत्तीर्ण हो जाने का मतलब यह हुआ कि यह हमारे लिए एक मौका है जिसमें हम अपनी कमजोरियों और कम अंक आने की वजह पहचान सकते हैं और उन पर काम करके उत्तम परिणाम ला सकते हैं। परंतु इसके विपरीत हम निराश होकर बैठ जाते हैं, जिससे केवल हमारी परेशानियाँ ही बढ़ती हैं। 

RELATED STORIES

नौकरी ना मिलने पर

नौकरी ना मिलने पर
via

नौकरी ना मिलने का मतलब यह हुआ कि दुनिया में जॉब्स खत्म नहीं हुए हैं। एक जॉब नहीं मिला तो क्या हुआ, जो मेरे लिए सही होगा वो मिलेगा ही। मुझे हमेशा बस 100% देना है।

प्यार में धोखा

प्यार में धोखा
via

प्यार में धोखा मिले तो उसे भी एक अच्छे नजरिये से देखा जा सकता है। यह एक तरह से अच्छा है कि सही वक़्त पर सच पता चल गया। जो हुआ इतना भी बुरा नही हुआ। बेशक ही हमारे लिए उस इंसान से भी बेहतर कोई इंसान बना है जो सही समय आने पर हमारी ज़िंदगी में आ जायेगा। 

दुर्घटना होने पर

दुर्घटना होने पर
via

यदि हमारे साथ कोई बड़ी दुर्घटना हो जाती है और हम अक्षम हो जाते हैं तो इसका मतलब हुआ हमने सबकुछ खोया नहीं है, बल्कि हमारे पास ज़िन्दगी अभी भी बची हुई है। हमारे पास जो है हमें उसे खुद की सबसे बड़ी ताकत बनाना है।

काम ज्यादा वक़्त कम

काम ज्यादा वक़्त कम
via

यह परिस्थिति कॉलेज से लेकर नौकरी तक जिंदगी के हर मोड़ पर आती है। ऐसी परिस्तिथि में होने का मतलब है कि हमारे पास एक मौका है खुद को साबित करने का और यह सीखने का कि किस तरह टाइम को मैनेज किया जा सकता है।

SPONSORED

अपनों से मतभेद 

अपनों से मतभेद 
via

अपनों से झगड़ने का मतलब रिश्ता खत्म करना नही होता है। यह तो एक मौका है जानने का और विचार करने का कि आप दोनों के बीच क्या मतभेद हो सकते हैं और उन्हें किस तरह ठीक किया जा सकता है।

सीमित आय होना

सीमित आय होना
via

अगर हमारी आय सीमित है तो यह हमें एक अवसर देती है, छोटी-छोटी बातों में खुशियाँ ढूंढने की।  सारी खुशियाँ पैसों से ही नही होती है। होटल में खाना खाने में मजा है तो घर पर सबके साथ मिलकर कोई नयी डिश बनाना भी खुशियाँ देता है।

ख्वाहिशें अधूरी रह जाना

ख्वाहिशें अधूरी रह जाना
via

अगर आज कोई सपना या ख्वाहिश किसी वजह से अधूरी रह जाती है तो उसे खत्म मानकर दिल में जिन्दा रखने से अच्छा है कि उसे भविष्य में पूरी करने के मकसद से जिन्दा रखा जाये।

इन छोटी बातों का गहरा है मतलब 

इन छोटी बातों का गहरा है मतलब 
via

यह तो कुछ ही उदाहरण हैं, पर ऐसा हर एक छोटी-बड़ी परेशानी में संभव है। बस जरुरत है खुद पर विश्वास रखने की और सकारात्मक सोचने की। बहुत सी मुश्किलें यूँ ही चुटकियों में आसान लगने लगेगी।

SPONSORED