SPONSORED

आखिर क्यों हिन्दू धर्म में ब्रह्माजी की आराधना नहीं की जाती?

क्यो हैं ब्रह्माजी अपूजनीय? जानें वजह। 

आखिर क्यों हिन्दू धर्म में ब्रह्माजी की आराधना नहीं की जाती?
SPONSORED

हिन्दू धर्म में ब्रह्मा, विष्णु, महेश या कहें कि त्रिदेव ही इस पूरी सृष्टि के कर्ता-धर्ता माने जाते हैं। इन तीनों देवताओं को सबसे पूजनीय माना जाता है। इनमें से ब्रह्माजी तो इस सृष्टि के रचयिता भी माने जाते हैं। पर क्या आपने कभी गौर किया है कि सभी हिन्दू भाई बंधू शिवजी और विष्णु जी की पूजा तो बड़ी श्रद्धा से करते हैं पर कभी इस सृष्टि के रचयिता ब्रह्माजी की आराधना नही करते।

क्या आपने कभी इसकी वजह जानने की कोशिश की है? तो चलिए आज हम ही आपको बता देते हैं कि आखिर हिन्दू धर्म में ब्रह्माजी की पूजा क्यों नही की जाती है। 

SPONSORED

विष्णुजी ब्रह्माजी में हो गई बहस

विष्णुजी ब्रह्माजी में हो गई बहस

इस सम्बन्ध में दो कथाएं या कहें कि सिद्धान्त प्रचलित हैं। पहली कथा यह है कि एक बार विष्णुजी और ब्रह्माजी में इस  बात को लेकर बहस हो गई कि उन दोनों में श्रेष्ठ कौन है। किसी निष्कर्ष पर न पहुँच सकने की स्थिति में उन्होनें शिवजी से अनुरोध किया कि अब वो ही इस बात का फैसला करें। 

RELATED STORIES

शिवजी ने ली उनकी परीक्षा

शिवजी ने ली उनकी परीक्षा
via

उनकी परीक्षा लेने के लिए भगवान शंकर ने शिवलिंग का रूप धारण कर लिया और उन दोनों से कहा कि इस शिवलिंग का अंत ढूंढें। जो ऐसा पहले कर देगा वह विजेता होगा। बहुत समय बीत गया पर वो दोनों शिवलिंग का अंत नही ढूंढ पाये। अंत में विष्णु जी समझ गए कि त्रिदेव में भगवान शंकर ही श्रेष्ठ हैं।

ब्रह्माजी ने चली चाल

ब्रह्माजी ने चली चाल
via

ब्रह्माजी ने अब भी हार नही मानी और एक चाल चलने की सोची। उन्होंने केतकी के फूल को शिवलिंग पर चढ़ाते हुए कहा कि वह शिवजी से कह दे कि ब्रह्माजी को शिवलिंग का अंत मिल गया है। केतकी के फूल ने भी ऐसा ही किया।

क्रोधित शिव ने दिया श्राप

क्रोधित शिव ने दिया श्राप
via

शिवजी अच्छी तरह जानते थे कि केतकी के फूल ने असत्य बात कही है। वे क्रोधित हो गए और उन्होनें ब्रह्माजी को श्राप दिया कि कोई भी इंसान उनकी पूजा नही करेगा। साथ ही केतकी के फूल को भी श्राप दिया कि उसका उपयोग किसी भी तरह के धार्मिक कार्य में नही किया जाएगा।

SPONSORED

ब्रह्मा हुए सरस्वती पर मोहित

ब्रह्मा हुए सरस्वती पर मोहित
via

इस सम्बन्ध में दूसरी कथा यह है कि ब्रह्माजी के प्रकट होने के बाद उन्होंने सरस्वतीजी का सृजन किया। वे सरस्वतीजी की ख़ूबसूरती की ओर आकर्षित हो गए।

सरस्वतीजी हो गईं नाराज़ 

सरस्वतीजी हो गईं नाराज़ 
via

सरस्वतीजी ब्रह्माजी की इस तरह की किसी भी काम इच्छा से नही जुड़ना चाहती थी। इसलिए उन्होंने अपना रूप बदल लिया। ब्रह्माजी फिर भी नही माने तो क्रोधित होकर उन्होंने ब्रह्माजी को श्राप दे दिया कि कोई भी इंसान उनकी आराधना नही करेगा।

SPONSORED