SPONSORED

पत्नी से परेशान युवक ने की आत्महत्या, पत्र पढ़कर उड़े घरवालों के होश 

सुसाइड नोट से हुआ यह खुलासा। 

पत्नी से परेशान युवक ने की आत्महत्या, पत्र पढ़कर उड़े घरवालों के होश 
SPONSORED

अक्सर ही खबरों में महिला उत्पीड़न या घरेलू हिंसा से सम्बंधित खबरों की भरमार रहती है। इसी वजह से कई महिलायें अपनी जीवनलीला समाप्त कर लेती हैं। पर हाल ही के एक नए मामले में एक पत्नी ने अपने पति को इतना प्रताड़ित किया कि तंग आकर उसने आत्महत्या ही कर ली। ब्रजेश श्रीवास नामक यह युवक इंदौर के एक कॉलेज में लैब असिस्टेंट के पद पर कार्यरत था। उसने कॉलेज परिसर में ही आत्महत्या कर ली।

आइये जानते हैं घटना के बारे में विस्तार से। 

SPONSORED

कॉलेज परिसर में की आत्महत्या

कॉलेज परिसर में की आत्महत्या

30 वर्षीय ब्रजेश श्रीवास इंदौर के धार रोड स्थित जगत गुरु दत्तात्रय कॉलेज ऑफ टेक्नोलॉजी में तीन वर्ष से लैब असिस्टेंट था। सितम्बर महीने की 19 तारीख को उसने कॉलेज की तीसरी मंजिल पर जाकर फांसी लगा ली। उसने कॉलेज के सीसीटीवी कैमरा भी बंद करवा दिए थे। पुलिस ने उसकी जेब से दो पन्नो का एक पत्र भी बरामद किया है।

RELATED STORIES

घरवालों से नहीं शिकायत

घरवालों से नहीं शिकायत
via

इस पत्र में ब्रजेश ने अपनी पत्नी व ससुरालवालों पर कई गंभीर आरोप लगाए हैं। इस पत्र में उसने लिखा है कि वह 19 सितम्बर को अपनी जीवनलीला समाप्त कर रहा है। उसने सभी लोगों से माफ़ी मांगी है। उसने घरवालों से कहा कि वह उन सबसे बहुत प्यार करता है और अपनी जिंदगी से खुश था।

पत्नी का बर्ताव था बुरा

पत्नी का बर्ताव था बुरा
via

आगे उसने लिखा है कि 2013 में उसकी शादी निशा से हुई थी। शादी के बाद से ही निशा ब्रजेश के घरवालों से बुरा बर्ताव करती थी। ब्रजेश ने इसका विरोध किया और निशा के घरवालों से भी बात की, पर उन्होंने निशा का ही साथ दिया।

पत्नी का परिवार भी था प्रताड़ना में शामिल

पत्नी का परिवार भी था प्रताड़ना में शामिल
via

वे चाहते थे ब्रजेश घरवालों से अलग हो जाये और मना करने पर वे सब मिलकर ब्रजेश के परिवार को दहेज प्रताड़ना और घरेलू हिंसा के मामले में फंसाने की धमकी देने लगे। उसका परिवार अब मानसिक रूप से बहुत प्रताड़ित हो चुका है इसलिए वह जीना नहीं चाहता।

SPONSORED

पत्नी को मिले सजा

पत्नी को मिले सजा
via

साथ ही उसने अंत में लिखा है कि अगर महिलाओं के लिए घरेलू हिंसा के मामले में कोई कानून हो तो निशा, उसकी माँ और भाई को जरूर सजा मिले। वह चाहता है कि मरने के बाद निशा उसके घर में न रहे और उसकी अंतिम इच्छा है कि उनकी बेटी की कस्टडी ब्रजेश की माँ को मिलें।

परिवार सदमे में

परिवार सदमे में
via

इस दुर्घटना से ब्रजेश का परिवार काफी सदमे में हैं। उसके पिता को समझ नहीं आ रहा हैं कि जवान बेटे की अर्थी को कन्धा देने की हिम्मत कहाँ से लाए। ब्रजेश की बहन का कहना है कि निशा दो साल से उसके भाई पर अत्याचार कर रही है। उसने तो भाई पर हाथ भी उठाया था और मोबाइल भी फेंक दिया था। इससे ब्रजेश को काफी धक्का लगा था। वह चाहती हैं कि मुजरिमों को कड़ी से कड़ी सज़ा मिले। 

SPONSORED