SPONSORED

'द ग्रेट वॉल ऑफ़ चाइना' की अनोखी कहानी  

'द ग्रेट वॉल ऑफ़ चाइना' के चौका देने वाले तथ्य।

'द ग्रेट वॉल ऑफ़ चाइना' की अनोखी कहानी  
SPONSORED

, 7 ' '

किसने बनवाया था? 

किसने बनवाया था? 

इस विशाल दीवार का निर्माण चीन के प्रथम सामंत सम्राट चिन शहुंग के शासन काल में किया गया था। यह किलेनुमा दीवार मिट्टी और पत्थरों से बनी है, जिसे 5वीं शताब्दी ईसा पूर्व से लेकर 16वीं शताब्दी तक चीन के विभिन्न शासकों के द्वारा बनवाया गया। इसे बनवाने के पीछे का मकसद उत्तरी हमलावरों से अपनी रक्षा करना था।

RELATED STORIES

SPONSORED
SPONSORED

इस दीवार को अन्तरिक्ष से भी आसानी से देखा जा सकता है! 

इस दीवार को अन्तरिक्ष से भी आसानी से देखा जा सकता है! 
via

यह कितनी विशाल है इस बात का अंदाजा आप इस बात से लगा सकते हैं कि इसे अंतरिक्ष से भी आसानी से देखा जा सकता है। यह दीवार 6,400 किलोमीटर के क्षेत्र में फैली हुई है, जिसका विस्तार पूर्व में शानहाइगुआन से पश्चिम में लोप नुर तक है और कुल लंबाई लगभग 4,160 मील है। हालांकि हाल के सर्वेक्षण के अनुसार, यह दीवार अपनी सभी शाखाओं सहित 8,851.8 कि.मी. (5,500.3 मील) तक फैली है।

अखंड चाइना का निर्माण किया।

अखंड चाइना का निर्माण किया।
via

8वीं शताब्दी में कुई, यान और जाहो राज्यों ने दुश्मनों के तीर एवं तलवारों के हमलों से बचने के लिए मिट्टी और कंकड़ के सांचे में दबा कर बनाई गई ईटों से दीवार का निर्माण किया था। ईसा से लगभग 221 वर्ष पूर्व चीन किन (Qin) साम्राज्य के अनतर्गत आ गया। इस साम्राज्य ने सभी छोटे राज्यों को एक कर के एक अखंड चीन की रचना की।

5वीं शताब्दी के बाद बनी ढेरों दीवारें

5वीं शताब्दी के बाद बनी ढेरों दीवारें
via

5वीं शताब्दी से बहुत बाद तक ढेरों दीवारें बनीं, जिन्हें मिलाकर चीन की दीवार कहा गया। 220-226 ई.पू. में चीन के प्रथम सम्राट किन शी हुआंग द्वारा बनवाई गई दीवार सभी दीवारों में सबसे ज्यादा प्रसिद्ध थी लेकिन अब इस दीवार के कुछ ही अवशेष बचे हैं। यह मिंग वंश द्वारा बनवाई हुई वर्तमान दीवार के सुदूर उत्तर में बनी थी।

चीन की दीवार को बनाने के लिए 20 से 30 लाख लोगों ने अपना पूरा जीवन लगा दिया

चीन की दीवार को बनाने के लिए 20 से 30 लाख लोगों ने अपना पूरा जीवन लगा दिया
via

चीन में कहा जाता है कि मिंग वंश की सुरक्षा के लिए यहां 10 लाख से ज़्यादा लोग नियुक्त थे और इस महान दीवार के निर्माण परियोजना में लगभग 20 से 30 लाख लोगों ने अपना पूरा जीवन लगा दिया था। आज यह दीवार विश्व में चीन का नाम ऊंचा करती है और इसे युनेस्को द्वारा 1980 से विश्व धरोहर घोषित किया गया है।

चीनी गर्व करते हैं अपनी दीवार पर

चीनी गर्व करते हैं अपनी दीवार पर
via

चीन में बच्चों को यह पढ़ाया जाता रहा है कि धरती पर चीन की दीवार ही एकमात्र ऐसी मानवनिर्मित चीज है जो अंतरिक्ष में दिखाई देती है लेकिन सब ओर निराशा तब फैल गई जब अंतरिक्ष में गए चीन के पहले यात्री ने यह कहा कि उसे अंतरिक्ष से दीवार नहीं दिखी।

अन्तरिक्ष की खिंची तस्वीर को देख कर निराशा दूर हुई।

अन्तरिक्ष की खिंची तस्वीर को देख कर निराशा दूर हुई।
via

चीन को इसका बहुत बुरा सदमा लगा लेकिन यह निराशा तब दूर हुई जब सरकारी अखबार ने चीनी मूल के अमरीकी अंतरिक्ष यात्री द्वारा खींची तस्वीरों का प्रकाशन कर दिया।

मगर भले ही अंतरिक्ष में चाइना की दीवार दिखाई देती है लेकिन चीनी गर्व की इस महान दीवार का भाव लोगों में थोड़ा कम हो गया है क्योंकि मिस्र के पिरामिड और कई हवाई अड्डों को भी अंतरिक्ष से देखे जाने की बात सामने आई है। मगर फिर भी चाइना की दिवार अपने आप में एक इतिहास है।

SPONSORED