SPONSORED

यहां शादी के बाद ससुराल वाले खुद बेच देते हैं अपनी बहू, जानिए क्यों

यहां दुल्हन की मुंह दिखाई नहीं होती बल्कि लगती है बोली। 

यहां शादी के बाद ससुराल वाले खुद बेच देते हैं अपनी बहू, जानिए क्यों
SPONSORED

एक तरफ भारत जहां आधुनिकता की ओर बढ़ रहा है। वहीं दूसरी तरफ भारतीय समाज का एक चेहरा ऐसा भी है जिसे देखकर कोई भी हैरान हो सकता है। और बात यदि महिलाओं की हो रही हो तो फिर हालात बेहद दयनीय हो जाते हैं। हालांकि ये सही है कि हमारे देश में ही महिलाओं ने कई बड़े मुकाम भी हासिल किए हैं। राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री और लोकसभा अध्यक्ष जैसे पदों की गरिमा भी महिलाओं ने बढ़ाई हैं।  

बावजूद इसके आम महिलाओं की स्थिति चिंताजनक ही बनी हुई है। आपको ये जानकर हैरानी होगी कि आज के जमाने में भी एक ऐसा समुदाय है, जहां बेटियों का पालन-पोषण कर उन्हें बेचा जाता है। इतना ही नहीं शादी के बाद ससुराल वाले भी उसे ये शर्मसार कर देने वाला काम करने के लिए मजबूर करते हैं। आखिर क्या है वो काम। कौन सा है यह समुदाय। आइए जानते हैं इस बारे में विस्तार से।

SPONSORED

कोई आपको वेश्यावृति में धकेल दे तो?

कोई आपको वेश्यावृति में धकेल दे तो?

जरा सोचकर देखिए। शादी के बाद जब आप अपने ससुराल जाए तो आपकी मुँह दिखाई उन लोगों से करवाई जाए जो आपको दुआएं देने नहीं बल्कि खरीदने आए हैं तो आप क्या करेंगी? लेकिन ऐसा इस समुदाय में हो रहा है। आइये जानते हैं पूरी कहानी।

RELATED STORIES

कहां है ये समुदाय?

कहां है ये समुदाय?
via

दिल्ली के नजफगढ़ में एक ऐसा समुदाय है, जहाँ पर ससुराल वाले खुद अपनी बहुओं से वेश्यावृति करवाते हैं। इस समुदाय का नाम "परना" है। खबरों के अनुसार प्रेमनगर बस्ती में रहने वाले "परना" समुदाय को काफी समय हो गया है। ये धंधा "परना" समुदाय वाले लोग पीढ़ियों से करवा रहे हैं।

बहुत समय से है ये समुदाय

बहुत समय से है ये समुदाय
via

इस समुदाय में लड़कियों की शादी 12-15 साल की उम्र में करवा दी जाती है। वेश्यावृत्ति के साथ ये लड़कियां घर का काम भी करती हैं। अपने पति और बच्चों के लिए खाना बनाने के बाद वो रात को वेश्यावृति के लिए निकल जाती हैं। ये तो हुई आधी बात। इसका दूसरा पहलू जानकर आप हैरान रह जाएंगे।

होता है अत्याचार

होता है अत्याचार

जो बहू वेश्यावृति करने से इनकार कर देती है, उस पर अत्याचार किया जाता है। कभी-कभी तो उनको जान से भी मार दिया जाता है। यही कारण है कि कई महिलाओं को न चाहते हुए भी इस धंधे में आना पड़ता है।

माता-पिता भी करते हैं ऐसा काम

माता-पिता भी करते हैं ऐसा काम
via

हैरान करने वाली बात है कि माता-पिता खुद अपनी बेटी को इस धंधे में डालते हैं। वो अपनी बेटी को पढ़ाई नही करवाते बल्कि छोटी उम्र में ही उनकी शादी कर देते हैं। जी हां। आगे की बात तो आपको और भी ज्यादा चौंकाएगी।

बचपन से सिखाया जाता है सब 

बचपन से सिखाया जाता है सब 

बताया तो ये भी जाता है कि लड़कियों के पैदा होते ही उनकी ट्रेनिंग के लिए उन्हें दलालों को सौंप दिया जाता है।इसके बदले लड़कियों के माँ-बाप को पैसे दिए जाते हैं। 

SPONSORED

लड़कियों को बेच दिया जाता है

लड़कियों को बेच दिया जाता है
via

इस समुदाय में लड़कियों की शादी नहीं होती बल्कि उन्हें बेच दिया जाता है। लड़के वाले अच्छा ऑफर देकर लड़कियों को खरीद लेते हैं। ऐसे में जो लड़के वाले सबसे ज्यादा पैसे देते हैं, लड़की उनकी हो जाती है। बाद में ऐसी लड़कियों के साथ क्या करते हैं ससुराल वाले। यह जानिए आगे।

शादी नहीं सौदा 

शादी नहीं सौदा 

असल में ये शादी, शादी न होकर एक सौदा होता है। वहीं ससुराल जाने के बाद भी लड़कियों को इस चीज से छुटकारा नहीं मिलता। वहां तो ससुराल वाले खुद अपनी बहुओं के लिए ग्राहक ढूंढते हैं। 

कुछ महिलाओं ने किया विरोध 

कुछ महिलाओं ने किया विरोध 
via

सभी महिलाएं इस रीति-रिवाज से खुश नहीं हैं। बहुत सारी महिलाओं ने इसके खिलाफ आवाज उठाई है। बहुत सारी महिलाओं को अपनी जान से हाथ भी धोना पड़ा है। क्या कोई इस विषय को लेकर जागरूक है? आइये जानते हैं।

महिलाएं पढ़ना चाहती हैं

महिलाएं पढ़ना चाहती हैं
via

इस दलदल में फंसी कुछ महिलाएं पढ़ना चाहती हैं। लेकिन, ये जाल इतना गहरा है कि महिलाओं पर अत्याचार के खिलाफ आवाज उठाने वाले संगठनों की आवाज भी इस समुदाय तक नहीं पहुंच पाती हैं।

कोई ध्यान नहीं दे रहा 

कोई ध्यान नहीं दे रहा 
via

देश के नेताओं के अनुसार उन्हें देश की चिंता है। लेकिन महिलाओं पर जो अत्याचार हो रहे हैं उन पर कोई ध्यान नहीं दे रहा। अगर सरकार इन मुद्दों पर ध्यान दे तो बहुत सारी महिलाओं की ज़िन्दगी बच जाएगी। देश को आजाद हुए कई दशक बीत गए हैं। लेकिन ऐसा लगता है कि इन महिलाओं के लिए अभी भी देश आज़ाद नहीं हुआ है। 

SPONSORED

क्या आप मानते हैं कि इस तरह की स्थिति को बदलने के लिए सरकार को कदम उठाना चाहिए?

-->