SPONSORED

कई लोग कर चुके हैं टाइम ट्रेवल, यह रहा सबूत 

मौजूद हैं कई 

कई लोग कर चुके हैं टाइम ट्रेवल, यह रहा सबूत 
SPONSORED

'टाइम मशीन' या समय यात्रा का सिद्धांत वैज्ञानिक क्षेत्र के सबसे विवादस्पद विषयों मे से एक रहा है। एक समय से दूसरे समय में जाने की बात को लेकर वैज्ञानिकों में कई सारे मतभेद हैं।
हालांकि टाइम ट्रेवल को लेकर कई सारी किताबें भी आ चुकी हैं और स्टीफेन हॉकिंग जैसे बड़े भौतिकशास्त्री भी कह चुके हैं कि टाइम ट्रेवल मुमकिन है।
इन सारी बातों के इतर दुनिया की कई जगहों पर ऐसी घटनाएं हो चुकी हैं जिससे ये कहा जाता रहा है कि लोग एक समय से दूसरे समय में जा सकते हैं, आइये देखते हैं कुछ ऐसी ही तस्वीरें जिसे देखकर आपको भी टाइम ट्रेवल पर यकीन हो जाएगा।

SPONSORED

1. शांगसी प्रांत, चीन, 2008

1. शांगसी प्रांत, चीन, 2008

टाइम ट्रेवल किया जाता रहा है, इसका सबसे समकालीन सबूत चीन के शांगसी प्रांत में मिला। जहां चीन के भूगर्भ वैज्ञानिकों को करीब 400 साल पुराना एक ताबूत मिला। उस ताबूत में कुछ ऐसा था जो वाकई चौंकाने वाला था। आखिर क्या थी वह चीज?

RELATED STORIES

स्विस घड़ी, टाइम ट्रेवल का सबूत

स्विस घड़ी, टाइम ट्रेवल का सबूत
via

जैसे ही वैज्ञानिकों ने उस ताबूत से मिट्टी हटाई, उन्हें वहां से अब के जमाने की स्विस घड़ी मिली। वैज्ञानिक दंग रह गए और उन्हें ये मानना पड़ा कि जरूर कोई टाइम ट्रेवल करके उस समय में पहुंचा होगा।

2. न्यूयॉर्क, संयुक्त राज्य अमेरिका, 2003

2. न्यूयॉर्क, संयुक्त राज्य अमेरिका, 2003
via

2003 में न्यूयॉर्क के वॉल स्ट्रीट में एंड्रयू कार्लसन नाम का शख्स चर्चा में आया। कार्लसन ने महज दो हफ्तों में ट्रेडिंग के धंधे में पैसे लगाकर अरबों डॉलर की कमाई कर ली। शेयर बाजार में कार्लसन का हर एक अनुमान सही होता था। पुलिस ने कार्लसन को इनसाइड ट्रेडिंग के आरोप में जेल में डाल दिया। 

क्या एंड्रयू कार्लसन एक टाइम ट्रैवेलर था?

क्या एंड्रयू कार्लसन एक टाइम ट्रैवेलर था?
via

1 महीने बाद किसी शख्स ने कार्लसन की बेल कराई, लेकिन तब से लेकर आज तक ना तो कार्लसन का कुछ पता चला औऱ ना ही बेल कराने वाले शख्स का। मजे की बात यह है कि कार्लसन खुद को साल 2256 यानी करीब 250 साल भविष्य का बताता था। अब तो आपका भरोसा हो गया होगा कि समय की यात्रा की जा सकती है।

3. लास वेगास, संयुक्त राज्य अमेरिका, 1995

3. लास वेगास, संयुक्त राज्य अमेरिका, 1995
via

माइक टायसन को तो सभी जानते ही हैं। लेकिन माइक टायसन तो इतने फेमस निकले कि उनके मैच को देखने के लिए एक शख्स टाइम ट्रेवल करके आया था। साल 1995 में टायसन और पीटर मेक्निली के बीच हुए मुकाबले में वैसे तो हर चीज सामान्य थी, लेकिन जब मैच के फुटेज देखे गए तो उसमें कुछ अजीबोगरीब चीज नजर आई। आखिर ऐसा क्या नज़र आया उस मैच के फुटेज में? आइए जानते हैं। 

सन 1995 में एक स्मार्टफोन?

सन 1995 में एक स्मार्टफोन?
via

एक दर्शक स्मार्टफोन से टायसन की तस्वीरें उतारता नजर आया। उस समय आकार में काफी बड़े फोन हुआ करते थे, जिसमें एंटीना लगा हुआ होता था। ऐसे में किसी शख्स के पास स्मार्टफोन होने को टाइम ट्रेवल ना माना जाए तो और क्या कहें?

SPONSORED

4. न्यूयॉर्क, संयुक्त राज्य अमेरिका, 1950

4. न्यूयॉर्क, संयुक्त राज्य अमेरिका, 1950
via

साल 1950 में न्यूयॉर्क में रुडोल्फ फेंट्ज नाम का शख्स विक्टोरियन जमाने के ड्रेसिंग स्टाइल में सड़कों पर दिखाई पड़ा। वो सड़क पर लोगों को और गाड़ियों को ऐसे घूर रहा था जैसे पहली बार देख रहा हो। कुछ ही देर बाद एक गाड़ी से टकराकर रुडोल्फ की मौत हो गई। पुलिस को रुडोल्फ की जेब से साल 1876 का लिखा पत्र और उसी जमाने के सिक्के बरामद हुए।

रूडोल्फ फेंट्ज टाइम ट्रेवल कर के आया था?

रूडोल्फ फेंट्ज टाइम ट्रेवल कर के आया था?
via

पुलिस ने जब अपना पुराना रिकॉर्ड खंगाला तो पता चला कि साल 1876 में इसी नाम का शख्स संदिग्ध परिस्थितियों में अपने घर से गायब हो गया था। है न चौंकाने वाली बात!

5. ब्रिटिश कोलंबिया, 1941

5. ब्रिटिश कोलंबिया, 1941
via

टीशर्ट और धूप के काले चश्मे लगाए दिख रहे इस शख्स की तस्वीर टाइम ट्रेवल की सबसे पुख्ता तस्वीर मानी जाती है। ये साल 1941 की तस्वीर है। तस्वीर में बाकी सभी लोगों की ड्रेस काफी अलग है। और इस एक शख्स की ड्रेस आधुनिक दिखाई पड़ती है। इस शख्स के हाथ में डीएसएलआर कैमरे जैसी कोई चीज है। आपको बता दें कि चश्मे, टीशर्ट और डीएसएलआर का निर्माण इस समय तक नहीं हुआ था। इस तस्वीर की जांच भी कराई गई जिसमें ये बिल्कुल सही पाई गई।

6. चार्ली चैप्लिन की फिल्म सर्कस, 1928

6. चार्ली चैप्लिन की फिल्म सर्कस, 1928
via

चार्ली चैप्लिन की सर्कस फिल्म 1928 में आई थी। चैप्लिन की इस फिल्म को लोगों ने जब गौर से देखा तो पाया कि इस फिल्म में एक महिला मोबाइल जैसे किसी डिवाइस पर बात करती नजर आ रही है। फुटेज को काफी जांचा परखा गया लेकिन फुटेज बिल्कुल ठीक पाई गई। टाइम ट्रेवल पर विश्वास करने वाले लोगों ने इसे टाइम ट्रेवलर्स का संदेश बताया।

ऐसी ही कई और अविश्वसनीय और अकल्पनीय घटनाएं हैं जो साबित करती हैं कि टाइम ट्रेवल मुमकिन है। 

SPONSORED

क्या आप टाइम ट्रेवल पर यकीन करते हैं?