SPONSORED

यहाँ होती है Big B के जूतों की पूजा और मनाया जाता है 2 अगस्त को जन्मदिन 

अमिताभ बच्चन का जन्मदिन 11 अक्टूबर मनाया जाता है, 2 अगस्त को नहीं। 

यहाँ होती है Big B के जूतों की पूजा और मनाया जाता है 2 अगस्त को जन्मदिन 
SPONSORED

- , , , " " , ,

कोलकाता में है यह मंदिर 

कोलकाता में है यह मंदिर 

यह मंदिर अमिताभ बच्चन के एक फैन संजय पाटोदिया ने स्थापित किया है। संजय कोलकाता के रहने वाले हैं और अमिताभ बच्चन को भगवान मानते हैं। 

RELATED STORIES

SPONSORED
SPONSORED

अमिताभ की मूरत भी है 

अमिताभ की मूरत भी है 

संजय रोज़ इस मंदिर में पूजा करते हैं लेकिन पूजा किसी देवी देवता की नहीं, एक जीते जागते इंसान की, और वो भी इस सदी के महानायक अमिताभ बच्चन की। 

और भी लोग हैं इसमें शामिल 

और भी लोग हैं इसमें शामिल 
via

संजय ने इस मंदिर को 2003 में बनवाया था और इस मंदिर में अमिताभ की पूजा करने, आसपास के लोग और बच्चे भी आते हैं। संजय के अनुसार उन्हें अमिताभ का फैन कहा जाना बिलकुल पसंद नहीं है, वह अपने आपको अमिताभ का भक्त मानते हैं। 

हनुमान चालीसा ओह नहीं "अमिताभ चालीसा"

हनुमान चालीसा ओह नहीं
via

इस मंदिर में अमिताभ चालीसे का जाप भी होता है। संजय ने अमिताभ बच्चन के नाम पर पूरा चालीसा लिखा है और किसी भी दुविधा के समय, संजय इस चालीसा का जाप करते हैं।  

अमिताभ का जन्मदिन मनाते हैं 2 अगस्त को 

अमिताभ का जन्मदिन मनाते हैं 2 अगस्त को 

संजय हर साल 11 अक्टूबर को अमिताभ बच्चन के वास्तविक जन्मदिन पर मुम्बई जाते हैं। लेकिन संजय खुद अमिताभ का जन्मदिन 2 अगस्त को मानाते हैं। कूली की शूटिंग के दौरान जब अमिताभ बच्चन बुरी तरह ज़ख़्मी हो गए थे, 2 अक्टूबर को वे पूरी तरह सेहतमंद होकर शूट करने लौटे थे। तभी से संजय 2 अक्टूबर को मानाते हैं, अमिताभ बच्चन का जन्मदिन। 

दिया मिर्ज़ा भी देखकर हुई हैरान 

दिया मिर्ज़ा भी देखकर हुई हैरान 

दिया मिर्ज़ा भी देखने पहुँची थी अमिताभ जी का मंदिर। और यह जगह देखकर, दिया भी आश्चर्यचकित हो गई। दिया ने भी फैन तो बहुत देखे होंगे लेकिन ऐसा भक्त पहली बार देखा है। 

हर-हर अमिताभ 

हर-हर अमिताभ 

मंदिरों में आपने देखा होगा हर जगह मन्त्र लिखे होते हैं और लोग भगवान के नाम का उच्चारण करते हैं। लेकिन इस मंदिर में कुछ अलग है, यहाँ आपको  हर हर अमिताभ और जय जय अमिताभ के कई सारे पोस्टर  मिल जाएंगे। 

अमिताभ की मूरत 

अमिताभ की मूरत 
via

अमिताभ बच्चन की बड़ी सी फोटो भी लगी हुई है इस मंदिर में। केसरिया रंग के कपड़ो में, अमिताभ ऐसे लगते हैं मानो सच में कोई महान सन्त हो। खैर इसमें कोई दो राय नहीं की अमिताभ महान संत ना सही लेकिन एक महान कलाकार ज़रूर हैं। 

अमिताभ ने लिखा पत्र 

अमिताभ ने लिखा पत्र 
via

हालाँकि अमिताभ भी इस कार्य का बहिष्कार करते हैं। अमिताभ को स्वयं नहीं पसंद कि उनका कोई मंदिर बनाया जाए लेकिन अपने फैन को दुखी भी नहीं कर सकते, इसलिए अमित जी ने संजय को अपने जूते भेज दिए।  

SPONSORED