SPONSORED

जिस रावण के सिर को 'श्री राम' नहीं काट पाए उस सिर को चोरी कर के ले गए लोग

फरीदाबाद में हुई रावण के साथ ज्यादती। 

जिस रावण के सिर को 'श्री राम' नहीं काट पाए उस सिर को चोरी कर के ले गए लोग
SPONSORED

- - ,

रावण करता रहा इंतजार मगर नहीं आये श्री राम 

रावण करता रहा इंतजार मगर नहीं आये श्री राम 

दशहरे के दिन फरीदाबाद के न्यू टाउन में रावण के पुतले के साथ कुछ ऐसा हुआ जिसके बारे में सुनकर हर कोई हैरान रह गया। रावण का पुतला जलने का इंतजार करता रहा लेकिन जलाने के लिए कोई राम नहीं पहुंचा।

RELATED STORIES

SPONSORED
SPONSORED

रावण करता रहा इंतजार मगर नहीं आये श्री राम 

रावण करता रहा इंतजार मगर नहीं आये श्री राम 
via

स्थानीय राजनीति के चलते पुतले का सिर गायब कर दिया गया था जिसके चलते प्रशासन को यह ऐलान करना पड़ा कि सिर कटे रावण को नहीं जलाया जाएगा। हालांकि एक अन्‍य कमेटी द्वारा बनाए गए रावण का दहन हुआ।

कुंभकर्ण जला मगर रावण बच गया 

कुंभकर्ण जला मगर रावण बच गया 

हुआ यह कि मैदान में दो पुतले तैयार कर रखे गए थे। एक रावण व दूसरा कुम्भकर्ण का पुतला था। कुम्भकर्ण के पुतले को जलाया गया लेकिन रावण नहीं जल सका। आपसी राजनीति के चलते किसी ने रावण के सिर को गायब कर दिया।

पुरानी जगह पर पुतला खड़ा करने के लिए हुआ झगड़ा 

पुरानी जगह पर पुतला खड़ा करने के लिए हुआ झगड़ा 
via

फऱीदाबाद न्यू टाऊन के एनआईटी 1 हनुमान मंदिर और वैष्‍णव देवी मंदिर से जुड़े लोग पुतलों को पुरानी जगह खड़े करने पर अड़ गए। विवाद के साथ ही भीड़ भी बढ़ी और परिणाम यह निकला कि मंदिर कमेटी ने पुतला खड़ा नहीं किया।

सर ले कर ही चले गए पदाधिकारी 

सर ले कर ही चले गए पदाधिकारी 

दूसरी तरफ पदाधिकारी मैदान में वापस नहीं आ सके और पुतले का सिर भी उनके साथ ही चला गया। 

दूसरी कमेटी के रावण का हुआ दहन 

दूसरी कमेटी के रावण का हुआ दहन 
via

बाद में पुलिस को घोषणा करनी पड़ी कि इन पुतलों का दहन नहीं किया जाएगा। हालांकि एक दूसरी कमेटी द्वारा बनाए गए पुतलों का दहन किया गया।

लावारिसों की तरह मैदान में पड़ा रहा रावण 

लावारिसों की तरह मैदान में पड़ा रहा रावण 
via

तो फऱीदाबाद में इस तरह से इस बार दशहरे में रावण तो जला लेकिन उसका एक पुतला मैदान में बिना सिर यूँ ही पड़ा रहा। हालांकि बाद में एनआईटी 1 में रावण के इस पुतले की शवयात्रा निकाली गई।

जिस रावण को आतंक का पर्याय माना जाता है उसके साथ भी ऐसी ज्यादती होने लग गई यह सूचक है इस बात का कि "मेरा देश बदल रहा है आगे बढ़ रहा है।"

SPONSORED