मेडिकल साइंस भी है हैरान, 5 फ़ीट की महिला तीसरे बेटे को जन्म देने के बाद हो गई 3 फ़ीट की

60 साल की महिला तीसरे बेटे को जन्म देने के बाद 2 फ़ीट सिकुड़ गई। 

मेडिकल साइंस भी है हैरान, 5 फ़ीट की महिला तीसरे बेटे को जन्म देने के बाद हो गई 3 फ़ीट की
SPONSORED

अभी कुछ दिनों पहले की ही तो बात थी 60 वर्ष की शांति देवी 5 फ़ीट लंबी एक सामान्य सी महिला थी। मगर अचानक कुछ ऐसा हुआ जिसने पुरे मेडिकल साइंस को ही उलट-पुलट कर दिया। यह सामान्य सी महिला अपने तीसरे बेटे को जन्म देने के बाद सामान्य नहीं रही। 5 फुट की शांति देवी 2 फ़ीट सिकुड़ गई हैं। अब वह 3 फ़ीट की हो गई है और अब केवल एक खटिया पर लेटी रहती है। दिन रात अकेले भजन गाया करती है, शांति देवी के साथ हुए इस चमत्कार ने उनके गाँव को दार्शनिक स्थल बना दिया है। रोज़ सैकड़ों लोग दूर-दूर से शांति देवी को देखने आते हैं।

शांति देवी ने कहा उब चुकी हूँ मैं 

शांति देवी ने कहा उब चुकी हूँ मैं 

शान्ति देवी लगभग दो दशक से इसी तरह खटिया पर लेटी हुई है, वह अपने हाथों को खोल नहीं सकती पैरों को फैला नहीं सकती यहाँ तक की छोटी से छोटी बातों के लिए भी उन्हें अपने बेटों का सहारा लेना पड़ता है। जब शांति देवी से बात की तो उन्होंने कहा "मैं 25 सालों से ऐसे ही खटिया पर लेटी हूँ, मैं उब चुकी हूँ ऐसी जिंदगी से। मैं अपने दम पर कुछ नहीं कर सकती। मुझे अपने दोस्तों, अपने खेत, नदियों की बहुत याद आती है।"

RELATED STORIES

यह सब शुरू हुआ तीसरे बच्चे को जन्म देने के बाद 

यह सब शुरू हुआ तीसरे बच्चे को जन्म देने के बाद 
via

यह सब उनके तीसरे बच्चे के पैदा होने के बाद हुआ। उनके पति गंगाचरण कुशवाह का कहना है वह "शादी के बाद 35 सालों तक एक स्वस्थ्य और हष्ट पुष्ट महिला थी। समस्या बस तीसरे बेटे को जन्म देने के बाद आई वह बेटे के जन्म के बाद कमजोर हो गई।"

तीन महीने बाद दर्द होने लगा 

तीन महीने बाद दर्द होने लगा 
via

तीन महीने बाद उन्होंने अपनी हड्डियों में दर्द होने की शिकायत की और कुछ ही दिनों में उनके शरीर में भी अज़ीब किस्म का बदलाव आने लगा।

दूर-दूर से आते हैं लोग देखने के लिए 

दूर-दूर से आते हैं लोग देखने के लिए 
via

उनकी इस दयनीय हालत ने उनके परिवार वालों को व्यथित करके रखा है। मगर उत्तर प्रदेश के कानपुर गाँव वालों के लिए वह एक आकर्षण का केंद्र बनी हुई हैं। दूर-दूर से लोग उसको एक झलक देखने के लिए उसकी छोटी सी झोपड़ी में आते हैं।

नहीं दिखाया किसी डॉक्टर को 

नहीं दिखाया किसी डॉक्टर को 
via

एक दशक से शांति देवी किसी डॉक्टर के पास नहीं गई शांति देवी के घर वालों के लिए उनकी यह हालत एक रहस्य है।  लेकिन एक स्थानीय डॉक्टर पंकज श्रीवास्तव के अनुसार यह लक्षण भंगुर हड्डी रोग के हैं।  

यह एक अनुवांशिक बीमारी है 

यह एक अनुवांशिक बीमारी है 
via

डॉक्टर पंकज के अनुसार "मैं बिना जांच के तो कुछ भी नहीं कह सकता लेकिन देखने में यह एक अनुवांशिक बीमारी लग रही है, जहाँ हड्डी कमजोर हो जाती है और आसानी से सिकुड़ जाती है। लेकिन जब तक जांच न हो जाए कुछ भी कहना गलत होगा।"

यह सच मुच में एक चमत्कार है 

यह सच मुच में एक चमत्कार है 

यह सच मुच एक चमत्कार है। कई बार प्रकृति हमारे इस झूठे तकनीकी ज्ञान के गुरुर को मिट्टी में मिला कर हमारे सामने एक ऐसा सवाल खड़ा कर देती है जिसका जवाब हम सदियों तक नहीं दे पाते।