अदानी ग्रुप के वाईस प्रेसीडेन्ट ने की आत्महत्या, सुसाइड नोट में लिखा कारण

भारतीय कारोबार जगत समेत पूरा देश सकते में।

अदानी ग्रुप के वाईस प्रेसीडेन्ट ने की आत्महत्या, सुसाइड नोट में लिखा कारण
SPONSORED

अदानी ग्रुप के वाइस प्रेसीडेन्ट, दीपक रश्मि त्रिपाठी की आत्महत्या से पूरा देश स्तब्ध है। दीपक 61 साल के हो चुके थे और अदानी ग्रुप के वाईस प्रेसीडेन्ट का पद इन्होंने 11 जून 2010 को ग्रहण किया था। 

लेकिन यह भी एक कटु सत्य है कि बड़े नाम के साथ बड़ी ज़िम्मेदारियां भी आती हैं और उन ज़िम्मेदारियों पर खरा उतरने की कोशिश करने में व्यक्ति जीवन से हार भी जाया करता है। 32 साल काम का अनुभव ले चुके त्रिपाठी की आत्महत्या का कारण हालांकि स्पष्ट नहीं है, लेकिन उन्होंने अपने सुसाइड नोट में लिखा है कि वे जीवन से परेशान थे।

दीपक रश्मि त्रिपाठी 

दीपक रश्मि त्रिपाठी 

दीपक रश्मि त्रिपाठी, अडानी ग्रुप के वाईस प्रेसीडेन्ट थे। अंग्रेजी अख़बार टाइम्स ऑफ़ इण्डिया के अनुसार दीपक जयपुर के एक होटल में बिज़नेस दौरे पर गए हुए थे और वहीं उन्होंने अपना जीवन अन्त कर लिया। 

RELATED STORIES

जयपुर के इस होटल में मिला शव 

जयपुर के इस होटल में मिला शव 
via

दीपक जयपुर के होटल फॉर्च्यून में रुके हुए थे। इसी होटल में उनका शव मिला। यह घटना बाइस गोदाम स्थित इस होटल की है। 

ज़हर खाकर किया जीवन समाप्त 

ज़हर खाकर किया जीवन समाप्त 
via

दीपक की मृत्यु ज़हर खाने से हुई। जनरल मैनेजर रजनीश लगातर दीपक को संपर्क करने की कोशिश कर रहे थे ऐसे में जब लगातार संपर्क नहीं हो पाया तो रजनीश ने होटल के कमरे में जाकर देखा। वहाँ दीपक मृत पाए गए। 

लिखा सुसाइड नोट 

लिखा सुसाइड नोट 
via

इतनी बड़ी कंपनी का वाईस प्रेसीडेन्ट होना कोई मामूली बात नहीं है। कारण कुछ भी हो सकता है और मुमकिन है कि काम के प्रेशर में यह कदम उठाया गया हो। फिर भी दीपक ने अपने नोट में लिखा है कि "इसके लिए कोई भी जिम्मेदार नहीं है। बेवजह किसी को परेशान ना किया जाए।"

जीवन से परेशान थे दीपक 

जीवन से परेशान थे दीपक 
via

61 साल के दीपक ने अपने नोट में आत्महत्या का कारण, जीवन से परेशानी बताया है। दीपक ने स्पष्ट रूप से यह भी लिखा है कि "मैं जिंदगी से परेशान होकर आत्महत्या कर रहा हूँ।"

गौतम अदानी के 'अदानी पॉवर लिमिटेड' के थे सदस्य 

गौतम अदानी के 'अदानी पॉवर लिमिटेड' के थे सदस्य 
via

अदानी ग्रुप के नाम से पूरा भारत परिचित है और हो भी क्यों ना। 'अदानी ग्रुप्स' भारत की जानी-मानी मल्टीनेशनल कंपनी में से एक है। इस ग्रुप के मालिक एवं चेयरपर्सन गौतम अदानी ने इस कंपनी की स्थापना 1988 में राष्ट्र विकास के उद्देश्य से की थी।

दुनिया को कहा अलविदा 

दुनिया को कहा अलविदा 
via

अदानी ग्रुप के मालिक गौतम अदानी से इस मामले कोई भी जानकारी सामने नहीं आई है। लेकिन यह अदानी ग्रुप के लिए एक बड़ा नुकसान साबित हो सकता है। हमारी आत्मीय श्रद्धान्जली दीपक रश्मि त्रिपाठी के साथ है। ईश्वर आपकी आत्मा को शांति दे।