SPONSORED

समाज को हर रोज़ आइना दिखाते हैं 'पिंक' के ये दमदार संवाद

समाज की सच्चाई दर्शाते यह डायलॉग्स। 

SPONSORED

' ' , , ,

टच करने का दिया है लाइसेंस

टच करने का दिया है लाइसेंस

ऐसी स्थिति का सामना हर लड़की या महिला को अक्सर ही करना होता है। पहली बात तो आप अकेली किसी लड़के के साथ या लड़कों के साथ दिख जाएं तो सारी नज़रे आपकी तरफ ही होती हैं। इसके साथ यह भी सोच लिया जाता है कि इस लड़की के साथ कुछ हुआ तो यही जिम्मेदार होगी।

RELATED STORIES

SPONSORED
SPONSORED

घड़ी की सुई और चरित्र

घड़ी की सुई और चरित्र
via

पहली बात तो लड़कियों को सुरक्षा का हवाला देकर देर रात घर से बाहर निकलने ही नहीं दिया जाता है। फिर अगर कोई लड़की बाहर दिख गई तो वजह जाने बिना ही उस पर सवाल उठाये जाते हैं।

शराब पी ली तो लड़की सेट है

शराब पी ली तो लड़की सेट है
via

हमारे देश के महानगरों में कल्चर बदला तो है पर वहां के लोगो की सोच अब भी छोटी है। इन शहरों के लड़के कहते तो हैं कि लड़कियों के शराब पीने में हर्ज़ क्या है, पर ऐसी लड़कियों को लेकर सोच छोटी ही रखते हैं।

जगह भी मायने रखती है

जगह भी मायने रखती है
via

आप मंदिर या घर के किसी आयोजन में लड़कों से बात करें तो दिक्कत नहीं है। पर पब में कर ली तो भाई उनके लिए तो चांस ही है।

 लडकियां नहीं कर सकती लड़कों के साथ पार्टी

 लडकियां नहीं कर सकती लड़कों के साथ पार्टी

लडकियां अगर लड़कों के साथ पार्टी कर रही हैं तो इसका मतलब हुआ वो कुछ भी कर सकती हैं।

ना मतलब ना 

ना मतलब ना 
via

लड़कियों पर लड़कों का हक़ समझा जाता है और वैसे भी उनकी ना में तो हाँ होती है।

अलग-अलग मापदंड

अलग-अलग मापदंड
via

सिर्फ इसी मामले में नहीं ऐसा कई मामलों में होता है।

हक़ है आपका

हक़ है आपका
via

उन्हें होश ही नहीं तो आप कुछ भी कर लें। कोई जिम्मेदारी तो है ही नहीं। यही मानसिकता आज के समाज को कर रही है खराब। 

शब्द से कुछ ज्याद है ना 

शब्द से कुछ ज्याद है ना 
via

ना को कोई महत्व नहीं दिया जाता है। ना के पीछे कई सवाल होते हैं। क्यों 'ना'? कैसे 'ना'? क्या सोच कर बोला 'ना'? आदि।

यह सबसे तगड़ा है

यह सबसे तगड़ा है
via

लड़का आवारा है तो उसे कुछ नहीं कह सकते हैं। लड़कियों को उससे बचकर रहना है बस।

SPONSORED