SPONSORED

इस दीपावली कुछ इस तरह करें नकली मिठाइयों की पहचान  

दीपावली पर नकली मिठाइयों की पहचान करने का रामबाण तरीका। 

इस दीपावली कुछ इस तरह करें नकली मिठाइयों की पहचान  
SPONSORED

दीपावली मतलब मिठाई, फटाके, कपड़े, चारो तरफ साज़ सज्जा, घर के आँगन में बनी हुई रंग रंगीली रंगोली। हर तरफ बस खुशियाँ ही खुशियाँ होती हैं। ऐसे में फिर हमें और किसी चीज़ की याद रहती ही कहाँ है! हमारी यही लापरवाही हमारे और हमारे परिवार के स्वास्थ्य के साथ एक बहुत बड़ा खिलवाड़ कर सकती है।

त्यौहार की आड़ में अपनी कालाबाजारी करने वालों के लिए यह त्यौहार आपार धन संपदा कमाने का ज़रिया मात्र होता है। ऐसे में वे लोगों की जान से खेलने पर भी नहीं हिचकिचाते। मगर स्वास्थ्य आपका है तो सावधानी भी आपको ही रखनी पड़ेगी, और वो आप कैसे रखोगे यह हम बताते हैं।

SPONSORED

ऐसे बनाते हैं यह नकली मावा 

ऐसे बनाते हैं यह नकली मावा 

नकली मावा बनाने वालों के लिए यह दाएं हाथ का खेल होता है। नकली दूध बना लो, नकली मावा यूँ ही बन जाएगा। नकली दूध बनाने के लिए यह दूध में कास्टिक सोडा, यूरिया, रिफ़ाइन्ड ऑइल सबको मिलाकर उबाल लेते हैं। नकली मावे में आलू भी मिलाया जाता है।

RELATED STORIES

घी भी होता है नकली 

घी भी होता है नकली 
via

जिस दुनिया में सब चीज़ नकली हो फिर उस दुनिया में घी कहाँ से असली हो सकता है। नकली देसी घी बनाने के लिए घटिया दर्जे का वनस्पति घी, जानवरों की चर्बी और देसी घी की सुगन्ध का इस्तेमाल होता है ताकि नकली देसी घी से असली देसी घी जैसी खुशबू आए।

ऐसे पहचानें कौनसी असली मिठाई है और कौनसी नकली 

ऐसे पहचानें कौनसी असली मिठाई है और कौनसी नकली 
via

यूँ तो कालाबाजारी करने वाले नकली चीजों को असली बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ते मगर इन 6 आसान तरीकों को अगर हम नकली मिठाई खाने से बच सकते हैं।

1. असली चीजें आसानी से नहीं टूटती 

1. असली चीजें आसानी से नहीं टूटती 
via

कोई भी चीज़ हो अगर असली है तो वह आसानी से नहीं टूटेगी ऐसा ही मिठाई के मामले में भी है। असली मिठाई आसानी से नहीं टूटती नकली मिठाई को छूते ही उससके दो टुकड़े हो जाती है।   

2. असली मिठाई मुँह में जाते ही घुल जाती है 

2. असली मिठाई मुँह में जाते ही घुल जाती है 
via

नकली या मिलावटी मावे की मिठाईयों में चिपचिपाहट होती है जिसकी वजह से यह दातों में फंस जाती है लेकिन असली मिठाई मुंह में डालते ही घुलने लगती है और दांतों में चिपकती नहीं है। 

3. बेसन की मिठाइयों में मिलावट की संभावना कम होती है 

3. बेसन की मिठाइयों में मिलावट की संभावना कम होती है 
via

बेसन की मिठाई में मिलावट की संभावना नहीं रहती है। सोन पापड़ी और पताशा जैसी मिठाईयों की खरीदारी की जा सकती है।

SPONSORED

4. मावा बर्फी में होती है मिलावट की संभावना ज्यादा 

4. मावा बर्फी में होती है मिलावट की संभावना ज्यादा 
via

मावा बर्फी और मिल्कशेक में मिलावट की संभावना अधिक है। ग्राहक इससे परहेज करें।

5. नकली रसगुल्लों में स्पंज नहीं होता 

5. नकली रसगुल्लों में स्पंज नहीं होता 
via

बाज़ार के नकली रसगुल्ले में स्पंजी एहसास नहीं आएगा जबकि इसके विपरीत असली रसगुल्ले आपको स्पंजी मिलेंगे। इससे भी आप नकली-असली की पहचान कर सकते हैं।

6. असली मिठाई होती है सफ़ेद 

6. असली मिठाई होती है सफ़ेद 
via

नकली मिठाई का रंग मटमैला होता है मगर असली मिठाई दूध की तरह सफ़ेद होती है। 

इस दीपावली कहें मिलावट को ना!

इस दीपावली कहें मिलावट को ना!
via

तो इस दीपावली मिलावट को ना करें और शुद्धता को हाँ। ध्यान रहे सस्ते के चक्कर में अपने स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ करना समझदारी नहीं है।

SPONSORED