SPONSORED

इस दिवाली पटाखों के प्रदूषण से बचें, इन आसान तरीकों से मनाएं इको-फ़्रेंडली दिवाली 

दिवाली में पटाखों से होने वाले प्रदूषण से ऐसे बचा जा सकता है। 

SPONSORED

I - I , I -

बेशक दिवाली में दीप जलाने चाहिए

बेशक दिवाली में दीप जलाने चाहिए

दिवाली पर दीप जलाना बहुत ही अच्छी बात है, दीपक घर की सुन्दरता बढ़ाते हैं और दीपों से घरों में रौनक भी रहती हैI

RELATED STORIES

SPONSORED
SPONSORED

दिवाली पर पटाखों का प्रयोग वातावरण और स्वास्थ्य के लिए बहुत ही हानिकारक है

दिवाली पर पटाखों का प्रयोग वातावरण और स्वास्थ्य के लिए बहुत ही हानिकारक है
via

लोगों ने दिवाली का अलग ही मतलब निकाल लिया है, दीपक की जगमगाहट की जगह पटाखों की आवाज सुनाई देती हैI

दिवाली का सेलिब्रेशन बुरा नहीं है

दिवाली का सेलिब्रेशन बुरा नहीं है
via

दिवाली को सेलिब्रेट करने में कोई बुराई नहीं है लेकिन जो पटाखे वातावरण के अनुकूल हों उन्ही का प्रयोग करना चाहिएI

पटाखों का कुछ पल का मजा वातावरण में ज़हर घोल देता है

पटाखों का कुछ पल का मजा वातावरण में ज़हर घोल देता है
via

पटाखों में मौजूद नाइट्रोजन डाईऑक्साइड, सल्फर डाईऑक्साइड जैसे हानिकारक तत्व अस्थमा, ब्रानकाइटिस जैसी सांसों की समस्या को जन्म देती हैं। हमें अपने स्वास्थ्य को सही बनाये रखने के लिए इन सब से बचना चाहिएI

अस्थमा रोगियों को खास ध्यान रखना चाहिए

अस्थमा रोगियों को खास ध्यान रखना चाहिए
via

अंग्रेजी में एक बहुत अच्छी बात कही जाती है " This Diwali burst your ego not crackers" जिसपर हम सभी को अमल करना चाहिएI

दिवाली के कारण हर साल कई स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का खतरा बढ़ जाता है, जिनमें दिल का दौरा, रक्त चाप, दमा, एलर्जी, निमोनिया और अस्थमा मुख्य हैंI स्थमा रोगी ख़ास ध्यान रखें कि वो दिवाली के दौरान घरों से बाहर न निकलेंI

साफ सफाई के दौरान भी कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए

साफ सफाई के दौरान भी कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए
via

साफ-सफाई के दौरान हम सभी घर का बेकार सामान इधर-उधर फेंक देते हैं जो गलत है। हमारी फेंकी हुई कुछ चीज़े वातावरण को दूषित भी कर सकती हैंI

पटाखों की आवाज से बढ़ता है ध्वनि प्रदूषण 

पटाखों की आवाज से बढ़ता है ध्वनि प्रदूषण 
via

दीपावली में सबसे ज्यादा चलने वाले लक्ष्मी बम से 100 डेसिबल की आवाज आती है, जबकि मानव शरीर के लिए 50 डेसिबल से अधिक की आवाज हानिकारक हैI

क्लीन और सेफ दिवाली मनाएं 

क्लीन और सेफ दिवाली मनाएं 
via

चिकित्सकों का मानना है कि पटाखों की तेज आवाज और रोशनी, अंधापन और बहरापन जैसी शारीरिक तकलीफें भी पैदा करती हैंI

आप सभी से आशा है कि सभी Eco- Friendly Diwali मनाएंगे, दीप जलाएं, खुशिया फैलाएं, पटाखों से दूर रहें और सेफ रहेंI अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें और वातावरण को सुरक्षित बनाने में मदद करेंI

सभी को दिवाली की हार्दिक सुभकामनाएँI

SPONSORED