SPONSORED

चीन के लिए काफी है बस हमारा एक शहर, जिसका होता है 5000 करोड़ का बिजनेस

आँखें फट जाएगी इस शहर की आय देख कर। 

SPONSORED

, , -

शिवकाशी पटाखा बाज़ार की राजधानी 

शिवकाशी पटाखा बाज़ार की राजधानी 

तमिलनाडु शिवकाशी को पटाखा बाज़ार की राजधानी कहा जाता है। अगर दीपावली के समय में चीन से पहले कोई शहर सुर्खियाँ बटोरता दिखता है तो वह है शिवकाशी। दूसरे विश्व युद्ध के समय से यहाँ पर पटाखे बन रहे हैं।  

RELATED STORIES

SPONSORED
SPONSORED

यहाँ 5000 करोड़ का सालाना व्यापर होता है 

यहाँ 5000 करोड़ का सालाना व्यापर होता है 
via

हाँ जी, दिल की धड़कनों को थाम लो क्योंकि बात एकदम चौंकाने वाली है, शिवकाशी का सालाना व्यापार 5000 करोड़ का है। मगर यह पटाखे बनाने की कहानी भी बहुत रोचक है, आपको जान कर हैरानी होगी कि पटाखे बनाने की प्रेरणा माचिस बनाने से मिली थी, जिस की शुरुआत शिवकाशी में न हो कर कलकत्ता में हुई थी। आइये जानते हैं इसका पूरा राज..  

पटाखे का मतलब गन पाउडर 

पटाखे का मतलब गन पाउडर 
via

20 वी शताब्दी तक हमारे लिए पटाखों का मतलब या तो गन पाउडर से था या आयरन बोरिंग से। इससे ज्यादा हम उसके बारे में और कुछ नहीं जानते थे। 20 वी शताब्दी में दास गुप्ता नाम के एक जाने-माने व्यापरी ने माचिस की फैक्ट्री की शुरुआत की थी।  

उसी दौरान दो व्यापारी घूमने आये यहाँ 

उसी दौरान दो व्यापारी घूमने आये यहाँ 
via

उसी दौरान दो व्यापारी शानमुगा नाडर और इया नाडर व्यापर के सिलसिले में कलकत्ता घूमने आये थे। यह महज़ संयोग की बात है कि जिस लॉज में वे ठहरे थे, उसी के पास दास बाबू की माचिस की फैक्ट्री थी। वो फैक्ट्री इतनी आकर्षक थी कि यह दोनों व्यापारी इससे मोहित हुए बिना रह नहीं पाए।     

कलकत्ता से शिवकाशी पहुँचा तरीका 

कलकत्ता से शिवकाशी पहुँचा तरीका 
via

शानमुगा नाडर और इया नाडर को माचिस बनाने का व्यापार इतना भाया कि उन्होंने दास बाबू से प्रेरणा ले कर शिवकाशी में भी माचिस बनाने की फैक्ट्री डाल ली। ईश्वर की दया से व्यापार कामयाब हो गया और जल्द ही वे सफलता की सीढ़ी चढ़ने लगे।  

जर्मन के पटाखे फटते थे हिंदुस्तान की दीवाली में 

जर्मन के पटाखे फटते थे हिंदुस्तान की दीवाली में 
via

इससे पहले हिंदुस्तान में पटाखे नहीं बनते थे, हिंदुस्तान में पटाखे जर्मनी और इंग्लैंड से इंपोर्ट किये जाते थे। आसमान तो देशी होता था मगर उसमें रंग विदेशी होता था। मगर इसके बाद माचिस के व्यापार में सफलता मिलने के बाद दोनों व्यापारियों ने पटाखे की फैक्ट्री भी डाल ली।

दूसरे विश्व युद्ध के बाद पनपने लगा पटाखा कारोबार 

दूसरे विश्व युद्ध के बाद पनपने लगा पटाखा कारोबार 
via

द्वितीय विश्व युद्ध के अंत के समय स्टैंडर्ड फायरवर्क, कालिसवारी फायरवर्क और नेशनल फायरवर्क देश में बड़े पटाखा कारोबारी बन गए थे। शिवकाशी बड़ी पटाखा इंडस्ट्री के तौर पर डेवलप होने लगा। देश में दिवाली के समय अधिकतम पटाखे बिकने लगे। अब तो पटाखे बनाने के लिए लगने वाला रॉ मटेरियल भी देश में ही बनने लगा।

क्यों चुना गया शिवकाशी को 

क्यों चुना गया शिवकाशी को 
via

शिवकाशी में कम बारिश होने और ड्राई क्लाइमेट के कारण शिवकाशी पटाखा बनाने के लिए बेस्ट डेस्टिनेशन बन गया। यहां का मौसम भी पटाखे बनाने के लिए बेहतर है। इसी वजह से इसके आसपास के एरिया में पटाखों का प्रोडक्शन बढ़ने लगा। आज शिवकाशी का व्यापार चीन के व्यापर को टक्कर दे रहा है। 

SPONSORED