'राष्ट्रीय एकता दिवस' में जानें सरदार वल्लभ भाई पटेल की ज़िन्दगी से जुड़ी कुछ अहम् बातें 

राष्ट्रीय एकता दिवस 31 अक्टूबर। 

'राष्ट्रीय एकता दिवस' में जानें सरदार वल्लभ भाई पटेल की ज़िन्दगी से जुड़ी कुछ अहम् बातें 
SPONSORED

'राष्ट्रीय एकता दिवस' सरदार वल्लभ भाई पटेल की 140 वीं जयंती पर भारत सरकार द्वारा 31 अक्टूबर 2014 से मनाया जा रहा है। राष्ट्रीय एकता दिवस किसी भी देश की एकता और अखंडता के लिए बेहद ज़रुरी है जो देश के नागरिकों को एकता का महत्व समझा सके 

आइये जानते है राष्ट्रीय एकता दिवस से जुड़े और भी तथ्य। 

आखिर क्यों मनाया जाता है राष्ट्रीय एकता दिवस 

आखिर क्यों मनाया जाता है राष्ट्रीय एकता दिवस 

सरदार वल्लभ भाई पटेल की सालगिरह के उपलक्ष्य में राष्ट्रीय एकता दिवस मनाया जाता है।सरदार पटेल स्वतंत्र भारत के पहले होम मिनिस्टर थे। आज़ादी के बाद भारत 500 से ज़्यादा अलग-अलग रियासतों में बटा हुआ था। सरदार पटेल के विशेष योगदान की वजह से इन रियासतों को एक देश में सम्मिलित किया गया और भारत एक राष्ट्र बना.

RELATED STORIES

सरदार पटेल और उनका जन्मदिवस 

सरदार पटेल और उनका जन्मदिवस 
via

सरदार पटेल का जन्म 31 अक्टूबर 1875 को हुआ था और उनके 140 वें जन्मदिवस से राष्ट्रीय एकता दिवस की शुरुआत हुई। सरदार पटेल के सम्मान में उन्हें ट्रिब्यूट देने के लिए राष्ट्रीय एकता दिवस मनाया जा रहा है। 

"Statue of Unity" 

via

भारत के पहले गृह मंत्री सरदार पटेल के सम्मान में गुजरात सरकार द्वारा 'स्टेच्यु ऑफ़ यूनिटी' का निर्माण किया जा रहा है। यह विश्व की सबसे ऊँची मूर्तियों में शामिल है। यह अभी निर्माणाधीन है जिसकी शुरुआत 7 अक्टूबर 2010 को की गई थी।  

विश्व की सबसे ऊँची स्टेच्यु होगी "Statue of Unity"

विश्व की सबसे ऊँची स्टेच्यु होगी
via

मतलब विश्व की सबसे ऊँची स्टेच्यु भारत में बन रही है। यह स्टेच्यु , सरदार वल्लभ भाई पटेल को समर्पित है। 

आखिर क्यों कहा जाता है सरदार पटेल को "आयरन मैन ऑफ़ इंडिया" 

आखिर क्यों कहा जाता है सरदार पटेल को
via

सरदर पटेल जैसा कहते थे वैसा ही करते थे। वे एक राष्ट्रवादी नेता थे जिन्होंने राष्ट्रहित में साम-दाम-दंड-भेद की नीति अपनाने में भी कभी गुरेज़ नहीं किया। इन्ही नीतियों के दम पर भारत की 565 रियासतों का एकाकार किया, जिसके कारण भारत एक सम्पूर्ण संप्रभुता राष्ट्र बन सका। 

भारत की एकता और अखंडता 

भारत की एकता और अखंडता 
via

कई धर्मो, कई जातियों, कई संस्कृतियों और कई क्षेत्रों में कई अलग-अलग समुदायों के लोगों से मिलकर बनता है हमारा भारत। विश्व का एकमात्र ऐसा देश है जहाँ इतनी विभिन्नता होने के बाद भी सब लोग शांति और सद्भाव से रहते हैं। 

राष्ट्रीय एकता दिवस का महत्त्व 

राष्ट्रीय एकता दिवस का महत्त्व 
via

आज देश के युवाओं को यह समझने की ज़रुरत है कि यूनिटी किसी भी देश के लिए क्यों जरुरी है। ऐसे में राष्ट्रीय एकता दिवस जैसे कार्यक्रम और दिवस देश के लोगों में एक नई जान फूंकने का काम करेगा। 

"Run for Unity"

via

राष्ट्रीय एकता दिवस के उपलक्ष्य में ही रन फॉर यूनिटी का आयोजन किया जाता है जिसमे सभी लोग एक साथ मैराथन में भाग लेते हैं। 

IAS और IPS की शुरुआत करने का श्रेय.

IAS और IPS की शुरुआत करने का श्रेय.
via

सरदार पटेल को देश में केन्द्रीय सेवाओं का जनक कहा जाता है। उन्होंने ही IAS, IPS और केंद्रीय सेवाओं की शुरुआत करवाई थी। 

सरदार पटेल को भारत का एंग्री-मैन भी कहा जाता है 

सरदार पटेल को भारत का एंग्री-मैन भी कहा जाता है 
via

"विनम्रता अक्सर बाधक बन जाती है, इसलिए अपनी आँखों को गुस्से से लाल होने दीजिये और अन्याय का सामना मजबूत हाथों से कीजिये"- सरदार पटेल.