SPONSORED

एक दिया उन शहीदों के नाम जो रोशन कर गए हमारी दिवाली

चलो इस दीपावली कुछ ऐसा करें। 

एक दिया उन शहीदों के नाम जो रोशन कर गए हमारी दिवाली
SPONSORED

दिल में आज कल एक टीस सी उठ रही है, देश के ऐसे हालत में मैं कैसे कोई त्यौहार मना सकता हूँ।एक तरफ जहाँ सरहद पर गोले दागे जा रहे हैं वहाँ दूसरी तरफ मैं कैसे कोई पटाखा जला सकता हूँ।एक तरफ जहाँ किसी आँगन का कोई चिराग बुझ गया हो वहीँ दूसरी तरफ मैं कैसे अपने आँगन को चिरागों से रोशन कर सकता हूँ।मैं जानता हूँ वो सरहद पर जो खड़ा अपने सीने पर गोलियाँ झेल रहा है वो इसी लिए झेल रहा है ताकी हम खुशियाँ मना सके, मगर उसे खून की होली खेलता देख मैं कैसे दीवाली मना सकता हूँ।     

SPONSORED

क्यों न इस बार कुछ ऐसा करें 

क्यों न इस बार कुछ ऐसा करें 

हम धूम-धाम से दीवाली मनाते हैं, हर घर दियों से जगमगाता है। अमावस्या की काली घनेरी रात के होते हुए भी अँधेरा कोसों दूर रहता है।तो क्या इस दीवाली एक दिया हम उन शहीदों के नाम नहीं जला सकते जो असल मायने में सारा अँधियारा खुद सह कर हमारे जीवन में रोशनी लाते हैं।   

RELATED STORIES

एक पल के लिए सोचो उनके घरों पर क्या बित रही होगी  

एक पल के लिए सोचो उनके घरों पर क्या बित रही होगी  
via

किसी महान कवी ने अपनी इन पंक्तियों में उन शहीदों के परिवार के दर्द को अपने शब्दों में बयान करने की कोशिश की है "सुख भरपूर गया, मांग का सिंदूर गया, नन्हे नो निहालों की लंगोतियाँ चली गई। बाप की दवाई गई, भाई की पढाई गई, छोटी-छोटी बेटियों की चोटियाँ चली गई।ऐसा विस्फोट हुआ जिस्म का पता ही नहीं पुरे ही शरीर की बोटियाँ चली गई। आपके लिए तो एक आदमी मरा है साहब मेरे घर की तो रोटियाँ चली गई।"     

क़र्ज़ है उनका हमारे उपर 

क़र्ज़ है उनका हमारे उपर 
via

आज मुस्कुराने में भी होंठो पर भार महसूस हो रहा है क्योंकि यह मुस्कुराहट उन शहीदों के बलिदान से क़र्ज़ में मिली है।मैं जानता हूँ एक दिया जलाने से या चंद मिनिट मौन रख लेने से उस क़र्ज़ को चुकाया नहीं जा सकता मगर मैं यह भी जानता हूँ कदम चाहे छोटा ही क्यों न हो वह बड़े से बड़ा बदलाव करने के लिए सक्षम होता है।इस एक दिये को जला कर आप और मैं उसी बदलाव का हिस्सा बनेंगे।  

शहीद कभी मरता नहीं है 

शहीद कभी मरता नहीं है 
via

अगर दुनिया में कोई सबसे बड़ा त्याग है तो वह है शहादत, यह सबसे बड़ा दान भी है।अपनी मातृभूमी के लिए अपने जीवन को समर्पित कर देने का हुनर सिखाते हैं शहीद।खुद को बलि-बेदी पर न्यौछावर कर देना ही शहादत की असली परिभाषा कहलाती है। कहा जाता है समर्पण, त्याग,दान तभी देना चाहिए जब उसकी जरुरत हो जैसे हमारे शहीदों ने अपने प्राणों की आहुती तब दी जब राष्ट्र को उसकी आवश्यकता थी आज वह मौका हमे भी मिला है।   

SPONSORED

यह सिर्फ मौसमी देश भक्ति नहीं है 

यह सिर्फ मौसमी देश भक्ति नहीं है 
via

मेरा सभी से यह करबद्ध निवेदन है कि इसे सिर्फ मौसमी देशभक्ति न समझा जाए। अपने आँगन में जब आप शहीदों के नाम का एक दिया जलाओगे तब उस दिए की रोशनी सिर्फ आपके आँगन तक ही सिमित नहीं होनी चाहिए बल्कि उसका प्रकाश आपके मन के उस अँधेरे कौने में भी पड़ना चाहिए जिस कौने में राष्ट्र भक्ति अँधेरी कौठरी में पड़ी है।   

जब भी मौका मिले इसे जाने न दें 

जब भी मौका मिले इसे जाने न दें 
via

हमारा यह एक छोटा सा प्रयास एक शहीद के परिजनों का धन्यवाद कहता है, शहीद के बच्चों में उसके पिता के प्रति सम्मान बढ़ाता है और संभव है आज शहीदों का अनुश्रवण कर सीमा की रक्षा के लिए एक नहीं दस कदम आगे बड़े। सैनिक और शहीद के प्रति सम्मान प्रकट करने का जब भी अवसर मिले, उसे निभाया जाए तो फिर ना किसी आक्रांता का भय होगा और ना किसी भेदिए का डर।

एक दिया उन शहीदों के नाम 

एक दिया उन शहीदों के नाम 
via

इस दीवाली एक दिया उन शहीदों के नाम ताकी हमारे अन्दर एक आज़ादी की लो जलती रहे।एक दिया इस लिए ताकि वह लो हमसे कहती रहे कि "तुम न सोचो यह स्वाधीनता तुम्हें यूँ ही मिली है, हर कलि इस बाग़ की कुछ खून पी कर ही खिली है।"    

जय हिन्द....जय हिन्द की सेना!

SPONSORED
-->