SPONSORED

भारत की दिग्गज महिला शूटर हीना सिंधु ने लिया ईरान में होने वाली चैंपियनशिप के बहिष्कार का निर्णय 

इस फैसले की वजह जानकर हो जाएंगे आप हैरान। 

भारत की दिग्गज महिला शूटर हीना सिंधु ने लिया ईरान में होने वाली चैंपियनशिप के बहिष्कार का निर्णय 
SPONSORED

खेलों की अपनी एक अलग ही दुनिया होती है। कोई खेल अगर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर खेला जाता है तो उसके नियम-कायदे सभी देशों और खिलाड़ियों के लिए एक से ही होते है। लेकिन अगर कोई धर्म या देश अपने खिलाड़ियों के ड्रेस कोड को लेकर कुछ अलग नियम बनाए तो इस बारे में ज्यादा कुछ नहीं कहा जा सकता है। लेकिन क्या कोई देश अन्य देशों के खिलाड़ियों को भी अपने हिसाब से ड्रेस कोड का पालन करने के लिए मजबूर कर सकता है? 
किसी भी देश के नियम कायदे या धार्मिक मान्यताए किसी भी खेल से ऊपर नहीं हो सकते हैं। लेकिन ऐसा कुछ मुस्लिम देश ईरान में हो रहा है। यहाँ एक शूटिंग चैंपियनशिप में महिला खिलाड़ियों के लिए हिजाब पहनना अनिवार्य किया गया है। लेकिन एक भारतीय शूटर इस कदम का पुरजोर विरोध कर रही है।
आइये जानते है क्या है पूरा मामला

SPONSORED

  क्या होता है हिजाब



 

क्या होता है हिजाब

हिजाब एक तरह का कपड़ा होता है जो मुस्लिम महिलाए घर से बाहर के वयस्क पुरुषों के सामने पहनती है। हिजाब आमतौर पर सर और छाती को ढ़कता है। कई देशों में मुस्लिम महिलाओ के लिए हिजाब पहनना अनिवार्य है।

RELATED STORIES

भारत की नंबर वन शूटर ने उठाया है यह कदम

भारत की नंबर वन शूटर ने उठाया है यह कदम
via

हिना सिंधु भारत की पहली महिला पिस्तौल शूटर है जो शूटिंग में वर्ल्ड नंबर वन रह चुकी है।भारत की यह महिला खिलाड़ी दिसम्बर में ईरान में होने वाली 9वी एशियाई एयरगन शूटिंग चैम्पयनशिप का बहिष्कार कर रही है। जिसकी वजह इस चैंपियनशिप में महिला खिलाड़ियों के लिए हिजाब पहनना जरुरी होना है।

16 साल की उम्र में शुरू किया खेलना

16 साल की उम्र में शुरू किया खेलना
via

27 वर्षीय हीना सिंधु बचपन से ही शूटिंग का शौक रखती थी, पर उन्होंने 16 बरस की उम्र तक आते-आते शूटिंग करना शुरू किया। वे डेंटल सर्जरी में बैचलर डिग्री भी ले चुकी है। 2013 में उन्होंने ISSF World Cup Finals में सोना जीतकर भारतीय महिला शूटिंग के इतिहास में नया कीर्तिमान रच दिया। 2014 में उन्हें भारत के राष्ट्रपति द्वारा अर्जुन अवार्ड से भी सम्मानित किया जा चुका

ट्वीट के जरिए की भावनाए व्यक्त

हीना ने ट्विटर पर ट्वीट कर कहा कि मैं कोई क्रन्तिकारी कदम नहीं उठा रही हूँ, पर मुझे लगता है कि किसी खिलाड़ी को खेल के दौरान हिजाब पहनने के लिए मजबूर करना खेल भावना के विरुद्ध है।

यह भी कहा उन्होंने

यह भी कहा उन्होंने
via

उन्होंने अपने बयान में यह भी जताया है कि उन्हें किसी धर्म विशेष से कोई समस्या नहीं है।उनका सिर्फ इतना कहना है कि 'आप अपने धर्म का पालन कर रहे है, तो मुझे भी मेरे धर्म का पालन करने दीजिए।अगर आप मुझे आपके धर्म का पालन करने के लिए मजबूर करते है तो मैं इस प्रतियोगिता का हिस्सा ही नहीं बनना चाहती।

SPONSORED

पहले भी कर चुकी है विरोध

पहले भी कर चुकी है विरोध
via

इससे पहले भी ईरान में आयोजित हुई  6वी एशियाई एयरगन चैंपियनशिप का भी हीना ने ड्रेस कोड के कारण बहिष्कार किया था। उस समय हीना अपनी गर्दन और कंधे कि चोट से उबर रही थी।तब उन्होंने अपने बयान में कहा था कि 'ईरान में होने वाली इस चैंपियनशिप में महिला शूटर्स को हिजाब पहनकर खेलना होगा, जिसके लिए अलग तरह की प्रैक्टिस की जरुरत होती है।मुझे इस तरह से खेलने की आदत नहीं है और मुझे खेलना पड़ा तो मुझे इसके लिए दो से तीन हफ़्तों की ख़ास ट्रेनिंग लेनी होगी।इसलिए ईरान में होने वाली इस चैंपियनशिप में अपना समय और शक्ति बर्बाद करने से बेहतर है मैं अपनी चोट से उबरने पर ध्यान दूँ।'

अमेरिकी चैस चैंपियन ने भी कर चुकी है विरोध

अमेरिकी चैस चैंपियन ने भी कर चुकी है विरोध
via


सिंधु इस नियम का विरोध करने वाली अकेली खिलाड़ी नहीं है। कुछ दिनों पहले ही अमेरिकी चैस चैंपियन Nazi Paikidze-Barnes ने ईरान में होने वाली चैस चैंपियनशिप से हिजाब की अनिवार्यता के चलते अपना नाम वापस ले लिया था। उन्होंने इस बारे में विरोध जताते हुए कहा था 'मुझे लगता है कि जिस जगह पर महिलाओं के लिए मौलिक अधिकार नहीं है और जहाँ उन्हें दोयम दर्जे का समझ जाता है, उस जगह पर पर वर्ल्ड वीमेन चैंपियनशिप का आयोजन करना बिलकुल अस्वीकार्य है।'

इस तरह के शर्मनाक वाकये भी हो चुके है चैंपियनशिप के दौरान

इस तरह के शर्मनाक वाकये भी हो चुके है चैंपियनशिप के दौरान
via

इस मामले में भारत की पूर्व टेबल-टेनिस चैंपियन पॉलोमी घटक ने एक इंटरव्यू के दौरान एक अपमानजनक वाकये का जिक्र करते हुए बताया था कि ईरान में एक चैंपियनशिप के दौरान जब महिला खिलाड़ी शॉट्स पहनकर कोर्ट पर खेलने उतरी तो वहां मौजूद अधिकारियों ने इसका विरोध किया और महिला खिलाड़ियों से कहा कि वे खुद को पूरी तरह ढककर खेले।महिला खिलाड़ियो को यह गवारा नहीं हुआ क्योकि उन्हें उस तरह खेलने की आदत नहीं थी और उन्होंने इससे इनकार कर दिया। इसके बाद वहां मौजूद सभी पुरुषों को बाहर भेजकर और सारे दरवाजे बंद करके खेल शुरू किया गया।

हीना के ट्वीट की हो रही है चर्चा

हीना के ट्वीट की हो रही है चर्चा
via

हीना के चैंपियनशिप के बहिष्कार के फैसले पर कई लोग अपनी राय दे रहे है।ईरान की अवार्ड विनिंग पत्रकार मसीह अलीनेजाद ने ट्वीट किया है ' हीना सिंधु ने अपनी गरिमा की रक्षा के लिए एक बहुत सही कदम उठाया है।'

SPONSORED