SPONSORED

नेहरू जी की मनपसंद सिगरेट लाने के लिए 200 कि.मी. दूर भेजा गया था विमान 

पंडित नेहरू की भोपाल यात्रा के दौरान घटित हुई थी यह मजेदार घटना। 

नेहरू जी की मनपसंद सिगरेट लाने के लिए 200 कि.मी. दूर भेजा गया था विमान 
SPONSORED

एक दिन पहले ही 'Heart of India' मध्यप्रदेश ने 60 बरस पूरे कर लिए हैं। मध्य प्रदेश का जन्म 1 नवम्बर 1956 को हुआ था। देश के अन्य राज्यों के निर्माण की तरह ही मध्य प्रदेश के निर्माण में भी देश के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू और लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल का विशेष योगदान था।

इतना ही नहीं, पंडित जवाहरलाल नेहरू ने मध्यप्रदेश को इससे भी कई महत्वपूर्ण सौगाते दी हैं। पंडित नेहरू का मध्यप्रदेश खासतौर पर भोपाल से बहुत ही ख़ास नाता था। आज हम आपके साथ नेहरू जी की भोपाल यात्रा के ही कुछ मजेदार किस्से साझा करने वाले हैं। तो आइए डालते हैं इन किस्सों पर एक नज़र।

SPONSORED

अपने कार्यकाल में लगभग 18 बार भोपाल आए थे नेहरू जी

अपने कार्यकाल में लगभग 18 बार भोपाल आए थे नेहरू जी

नेहरू जी 1947 में देश की आजादी के बाद से 1964 तक देश के प्रधानमंत्री रहे। अपने इस 17 साल के कार्यकाल के दौरान उन्होनें लगभग 18 बार भोपाल की यात्रा की। गौरतलब है कि 1949 से 1956 तक भोपाल मध्यप्रदेश का हिस्सा न होकर एक अलग राज्य था।

RELATED STORIES

शंकर दयाल शर्मा थे इसकी वजह

शंकर दयाल शर्मा थे इसकी वजह
via

शंकर दयाल शर्मा मध्यप्रदेश की राजनीति के वरिष्ठ राजनेता रहे हैं। वे 1992-1997 तक भारत के नौवें राष्ट्रपति भी थे। उनका जन्म भोपाल में हुआ था और वे 1952-1956 तक भोपाल के मुख्यमंत्री भी रहे थे। शंकर दयाल शर्मा का नेहरू जी से बहुत ही गहरा रिश्ता था। यह उनका प्यार और दोस्ती ही थी जो नेहरू जी को बार-बार भोपाल खींच लाती थी।

भोपाल के नवाब के महल में ठहरते थे नेहरू जी

भोपाल के नवाब के महल में ठहरते थे नेहरू जी
via

आजादी के बाद भी कुछ समय तक हमारे देश में नवाबों और राजघरानों का ही दबदबा था। उस दौर में जब प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू भोपाल आते थे तो यहाँ के नवाब के महल या चिकलोद स्थित कोठी पर ही ठहरते थे।

राज्यपाल हो गए नाराज़

राज्यपाल हो गए नाराज़
via

इस दौरान हरि विनायक पाटस्कर भोपाल के दूसरे राज्यपाल हुआ करते थे। उन्हें जब नेहरू जी के महल में ठहरने की बात का पता चला तो वे बहुत नाराज हो गए। उन्होनें तो पंडित नेहरू से साफ़-साफ़ कह भी दिया कि आप आधिकारिक यात्रा पर भोपाल आते हैं तो उचित है कि आप राजभवन में ही ठहरें।

नेहरू जी की फेवरेट सिगरेट ने पचाया सबको

नेहरू जी की फेवरेट सिगरेट ने पचाया सबको
via

एक बार पंडित नेहरू की भोपाल यात्रा के दौरान बहुत ही मजेदार घटना घटित हुई। इस घटना का जिक्र मध्यप्रदेश राजभवन की वेबसाइट पर किया गया है। नेहरू जी खासतौर पर 555 ब्रांड की ही सिगरेट पीते थे। उन्हें खाने के बाद सिगरेट लगती थी, पर बहुत ढूँढने के बाद भी भोपाल में उनका यह फेवरेट ब्रांड मिल नहीं पा रहा था। पूरे राजभवन में भूचाल सा आ गया। किसी को समझ नहीं आ रहा था कि इतने कम समय में सिगरेट लाएं कहाँ से?

SPONSORED

इंदौर में बना काम

इंदौर में बना काम
via

बहुत सोच विचार करने के बाद एक विमान को सिगरेट लेने इंदौर भेजा गया। इंदौर एयरपोर्ट पर कुछ सिगरेट के पैकेट्स की व्यवस्था की गई और उन्हें विमान से भोपाल पहुँचाया गया। है न कितनी मजेदार बात? आप इसकी कल्पना करके देखिए, एक सिगेरट के लिए पूरा विमान भेजा गया। गज़ब है न?

इस वर्ष भी उत्साह के साथ मना मध्यप्रदेश स्थापना दिवस

इस वर्ष भी उत्साह के साथ मना मध्यप्रदेश स्थापना दिवस
via

मध्यप्रदेश के सभी शहरों और जिलों में बहुत ही उत्साह के साथ राज्य का 61वा स्थापना दिवस मनाया गया, कई तरह के राजनीतिक और सांस्कृतिक कार्यक्रम हुए। कई स्थानों पर बड़े कलाकारों ने भी अपनी प्रस्तुति दी।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दिया राज्य की जनता को सन्देश

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दिया राज्य की जनता को सन्देश
via

इस ख़ास दिन पर राज्य के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने राज्य की जनता को सन्देश दिया ,''अब समय आ गया है कि राज्य के 7.5 करोड़ लोग मिलकर राज्य को दुनिया में सबसे बेहतर बनाएं। हम अपने आने वाली पीढ़ी को ऐसा राज्य देंगे जिस पर उन्हें गर्व हो। हम लगातार हर क्षेत्र में उन्नति कर रहे हैं।" इसके साथ ही उन्होनें यह भी कहा कि देश और जनता की सुरक्षा हमारे लिए सबसे महत्वपूर्ण है।

SPONSORED