SPONSORED

नासा ने दिये सबूत, धरती का अन्त है करीब, कभी भी हो सकती है दुनिया ख़त्म

जानें क्या होगी दुनिया के विनाश की वजह। 

नासा ने दिये सबूत, धरती का अन्त है करीब, कभी भी हो सकती है दुनिया ख़त्म
SPONSORED

NASA NASA , NASA

NASA ने एक एनीमेशन रिलीज़ किया जो की काफी चौकाने वाला है

NASA ने एक एनीमेशन रिलीज़ किया जो की काफी चौकाने वाला है

नासा के अनुसार गर्मियों के दौरान प्रशांत महासागर में बर्फ के स्तर में भारी उथल-पुथल होने वाली है I जैसे ही तापमान में बदलाव आता है वैसे ही बर्फ के स्तर में भी बदलाव आता रहता है। 

RELATED STORIES

SPONSORED
SPONSORED

सितम्बर 2014 की यह तस्वीर 

सितम्बर 2014 की यह तस्वीर 
via

तस्वीर में दर्शाए गए सफ़ेद हिस्से को पेरेनियल आइस बोलते हैं I पेरेनियल आइस बर्फ की सबसे मोटी परत होती है जो गर्मियों के दिनों में भी कम पिघलती है I पेरेनियल आइस 4-9 सालों तक बिना पिघले रह सकती है I

सितम्बर 2016 में प्रशांत महासागर में बर्फ़ 

सितम्बर 2016 में प्रशांत महासागर में बर्फ़ 
via

2 सालों में बर्फ के स्तर में ज़बरदस्त परिवर्तन हुआ है, जिससे गर्मियों के दिनों में बर्फ की पिघलने की मात्रा बढ़ सकती है। 

10 सितम्बर 2016

10 सितम्बर 2016
via

नारंगी लाइन 1981 से 2018 तक के लिए बर्फ के स्तर की औसत हद है। NASA के अनुसार प्रशांत महासागर सदी के मध्य तक बर्फ से मुक्त हो जायेगा I

देखिए यह वीडियो

NASA की ओर से आए संकेत पर बनी यह वीडियो आपकी आँखें खोल देगीI

यदि आइस मेल्ट होती है तो क्या होगा?

यदि आइस मेल्ट होती है तो क्या होगा?
via

हम जानतें हैं कि आपने इस विषय में अधिक नहीं सोचा होगा। लेकिन अब समय आ गया है जब इन सब बातों की चर्चा की जाए। यदि ऐसा होता है तो सर्दियों के दिनों में ज़्यादा ठण्ड बढ़ने का अंदेशा है। 

वाइल्ड लाइफ को होगा खतरा

वाइल्ड लाइफ को होगा खतरा
via

बर्फ के स्तर की वजह से वैसे ही हर साल वाइल्ड लाइफ को बहुत नुकसान पहुँचता हैI यदि ऐसा हुआ तो सबसे ज़्यादा नुकसान वाइल्ड लाइफ को ही होगाI

पानी की मात्रा में भी पड़ सकता है फर्क

पानी की मात्रा में भी पड़ सकता है फर्क
via

धरती पर फ्रेश पानी की मात्रा बस 1 परसेंट ही है, ऐसा हुआ तो यह परसेंट और भी घट सकता हैI

अमेरिका और फ्लोरिडा के लिए हो सकती है सबसे बुरी स्थिति

अमेरिका और फ्लोरिडा के लिए हो सकती है सबसे बुरी स्थिति
via

वैज्ञानिकों के अनुसार यदि ग्रीनलैंड की बर्फ पिघलती है तो वैश्विक समुद्र के जल स्तर में 7.3 मीटर की बढ़ोत्तरी हो सकती है। यदि पूरा अंटार्कटिका पिघलता है तो जल के स्तर में 61 मीटर की बढ़ोत्तरी हो सकती है। 

ग्लोबल वार्मिंग की वजह से एक और विनाश के संकेत

ग्लोबल वार्मिंग की वजह से एक और विनाश के संकेत
via

इस स्थिति में अमेरिका जल में डूब सकता है और पूरा फ्लोरिडा तबाह हो सकता हैI साथ ही इस स्थिति से पूरी दुनिया के जलवायु में भारी परिवर्तन आ सकता है। जो धरती को एक बड़े विनाश की ओर ले जाने वाला साबित होगा। 

यह वीडियो देखना ना भूलें

SPONSORED

क्या आपको लगता है कि सचमुच धरती का अंत निकट है?