SPONSORED

जानें सरकार द्वारा NDTV इंडिया को बैन करने का फैसला किस हद तक है सही

आखिर ऐसी क्या जरुरत पड़ी कि सरकार को बंद करनी पड़ी जनता की आवाज़। 

SPONSORED

- " , " -

एक दिन के लिए ऑफ़ एयर होगा एनडीटीवी 

एक दिन के लिए ऑफ़ एयर होगा एनडीटीवी 

भारत सरकार के प्रसारण मंत्रालय ने आज एनडीटीवी इंडिया को एक दिन के लिए ऑफ एयर करने का फैसला सुना दिया। इस खबर ने जितनी पत्रकारिता के जगत में खलबली मचाई उतना ही शोर राजनैतिक गलियारों में भी किया। हर किसी ने इस आग का बेहतर उपयोग किया और अपनी-अपनी रोटी सेंकने की कोशिश में लग गए।

RELATED STORIES

SPONSORED
SPONSORED

पठानकोट हमले पर कवरेज की मिली सज़ा 

पठानकोट हमले पर कवरेज की मिली सज़ा 
via

सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने एनडीटीवी इंडिया को पठानकोट हमले में गलत तरीके से कवरेज कर संवेदनशील जानकारियों को लीक करने का अपराधी बनाया। साथ ही मंत्रालय ने यह भी आरोप लगाया कि एनडीटीवी की वजह से ही आतंकवादियों को उनके हर मूवमेंट की खबर मिल रही थी।

क्या कहा भारत सरकार ने

क्या कहा भारत सरकार ने

सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने केबल टीवी नेटवर्क (रेगुलेशन) एक्ट का हवाला देते हुए अपने शक्तिपत्र में लिखा "9 नवम्बर 2016 से 10 दिसंबर 2016 तक एक दिन के लिए एनडीटीवी इंडिया को किसी भी मंच पर प्रसारण करने की रोक है।"

यह पहला मामला है जब किसी न्यूज़ चैनल को आतंकवादी हमले की गलत कवरेज की वजह से बैन किया गया हो।

क्या टी.आर.पी. देश की सुरक्षा से भी ज्यादा जरुरी है?

क्या टी.आर.पी. देश की सुरक्षा से भी ज्यादा जरुरी है?
via

इन दिनों एक इल्ज़ाम हमेशा से ही पत्रकारों पर लगता रहता है, लोग तंज़ कसते हैं कि पत्रकारों में अब कोई मानवीय भावना नहीं बची है। आज के दौर में पत्रकारों की नज़र सिर्फ और सिर्फ टी.आर.पी. पर ही रहती है। तो क्या टी.आर.पी. की दौड़ में अंधे हो कर पत्रकार खुद ही पत्रकारिता का गला घोंट रहे हैं? यह पत्रकारों के लिए भी सोचने का विषय है और देश के लिए भी।

जानकारियां कथित तौर पर आतंकवादियों तक पहुंचाई गई 

जानकारियां कथित तौर पर आतंकवादियों तक पहुंचाई गई 
via

एनडीटीवी पर जब जनवरी में यह ऑपरेशन चल रहा था, तब उस दौरान कथित तौर पर आतंकवादियों तक सूचनाएं पहुँचाने का गंभीर आरोप चैनल के ऊपर लगाया गया है। एयर बेस में मौजूद गोला बारूद, मिग, लड़ाकू विमानों, रॉकेट लॉन्चर, मोर्टार, हेलीकॉप्टरों, ईंधन टैंक आदि की जानकारी प्रसारित की गई। साथ ही साथ एनडीटीवी ने वहाँ से भागने के संभावित रास्तों का भी ज़िक्र किया। ज़ाहिर तौर पर यह सूचना आतंकवादियों के लिए मददगार साबित हो सकती थी।

हमने जो जानकारी दी वह तो लोगों तक पहले ही पहुंच गई थी

हमने जो जानकारी दी वह तो लोगों तक पहले ही पहुंच गई थी
via

अपने जवाब में चैनल ने कहा है कि "यह व्यक्तिपरक व्याख्या का एक मामला था। इस मामले में प्रसारित ज्यादातर जानकारी तो हमने सोशल मीडिया और लोकल न्यूज़ पेपरों से उठाई थी।" मतलब इस मामले में एनडीटीवी का साफ़-साफ़ यह कहना है कि उसने कुछ नया नहीं दिखाया, जो सोशल मीडिया या न्यूज़ पेपरों पर चल रहा था वही उन्होनें भी दिखाया।

सिर्फ एनडीटीवी को ही क्यों निशाना बनाया 

सिर्फ एनडीटीवी को ही क्यों निशाना बनाया 
via

मगर यहाँ सवाल यह उठता है कि जब एनडीटीवी ने यह खबर दिखाई तो जाहिर सी बात है और दूसरे न्यूज़ चैनलों ने भी इस तरह की खबर को दिखाया ही होगा। तो यह इतना बड़ा फैसला, इतना कड़ा रुख सरकार ने सिर्फ एनडीटीवी पर ही क्यों दिखाया? क्या सरकार का यह फैसला पक्षपातपूर्ण है या मीडिया को सरकार की शक्ति दिखाने का महज़ एक कदम है। 

एनडीटीवी इंडिया बनाम भारत सरकार  

एनडीटीवी इंडिया बनाम भारत सरकार  

सरकार का दावा है कि पठानकोट हमले पर एनडीटीवी इंडिया की कवरेज से संवदेनशील सूचनाएं आतंकवादियों के पास पहुंचीं वहीं एनडीटीवी ने अपने जवाब में कहा कि उसने कोई भी गोपनीय सूचना सार्वजनिक नहीं की है।

SPONSORED

क्या आपकी नज़र में NDTV इंडिया के खिलाफ भारतीय सरकार का यह फैसला एक सही कदम है?