नोट बदलने के लिए महिला भिखारी पहुँची बैंक, खाली हाथ होना पड़ा वापस

महिला को लाइन में लगा देख लोग हुए हैरान। 

नोट बदलने के लिए महिला भिखारी पहुँची बैंक, खाली हाथ होना पड़ा वापस
SPONSORED

पहले तो वह महिला एक कोने में खड़ी संकोच कर रही थी। फिर हिम्मत जुटाकर सिक्योरिटी गार्ड से पूछ बैठी " भैया ये नोट कैसे बदलेंगे?" यह वाकया है यूपी के सहारनपुर जिले का जहाँ ₹1000-₹500 का नोट बंद होने पर लोगों का हुजूम बैंक की ओर चल दिया है। इस प्रतिस्पर्धा में भिखारी भी पीछे नहीं है। आम जनता और भिखारी दोनों एक ही काम कर रहे हैं, सबको अपने नोटों की पड़ी है।
आइये जानते हैं पूरा किस्सा। 

महिला ₹500 का नोट लिए खड़ी थी 

महिला ₹500 का नोट लिए खड़ी थी 

सहारनपुर की कोर्ट रोड स्थित एसबीआई की ब्रांच में यह महिला ₹500 का नोट लिए खड़ी हुई थी। यह महिला उसी इलाके में भीख मांगने का काम करती है। 

RELATED STORIES

महिला को नोट बदलवाने थे 

महिला को नोट बदलवाने थे 

महिला लोगों की क़तार देखकर घबरा गई और फिर वापस पलटने लगी। फिर थोड़ी देर बाद हिम्मत जुटाकर बैंक के गेट पर खड़े सुरक्षा गार्ड से पूछा कि उन्हें अपने नोट बदलवाने हैं, और इसकी क्या प्रक्रिया है। 

महिला की बात सुनकर सिक्योरिटी गार्ड भी हैरत में पड़ गया 

महिला की बात सुनकर सिक्योरिटी गार्ड भी हैरत में पड़ गया 
via

महिला की बात सुनकर बैंक में खड़ा सुरक्षा गार्ड भी हैरत में पड़ गया। लेकिन इसमें हैरत की क्या बात है, जहाँ बड़े-बड़े लोगों के काले धन के भांडे फूटे हैं वहाँ आम इंसान पर तो प्रभाव पड़ेगा ही। फिर चाहे वह भिखारी ही क्यों ना हो।

महिला भिखारी भी कतार में लग गई 

महिला भिखारी भी कतार में लग गई 
via

सिक्योरिटी गार्ड से जानकारी लेने के बाद यह महिला भी क़तार का हिस्सा बन गई। आस-पास के लोगों को यह देखकर बहुत हैरत हुई लेकिन पैसे की ज़रूरत तो सभी को होती है। 

कई लोग हो रहे हैं समस्या का शिकार 

कई लोग हो रहे हैं समस्या का शिकार 
via

कई लोग हैं जो इस समस्या का शिकार हो रहे हैं। पढ़े-लिखे तबके के लिए तो फिर भी यह कर पाना ज़्यादा मुश्किल नहीं है, लेकिन ग़रीबों के लिए यह बहुत कठिन समय है।

आखिरकार खाली हाथ लौटना पड़ा 

आखिरकार खाली हाथ लौटना पड़ा 
via

आखिरकार इस महिला को खाली हाथ ही लौटना पड़ा। क्योंकि नोट बदलने के लिए आईडी प्रूफ का होना जरूरी है, जो इन दोनों के पास नहीं था। ऐसी स्थिति में सोचने वाली बात यह है कि इस महिला की तरह कितने ही लोग होंगे जो इस समस्या से जूझ रहे होंगे। अब देखना यह है कि सरकार इनके लिए क्या कदम उठाती है।

क्या सरकार के द्वारा ऐसे निचले तबके के लोगों के लिए नोट बदलने की उचित व्यवस्था की जाने की जरूरत है?