SPONSORED

आखिर क्या थी वजह जो रानी लक्ष्मी बाई को देख सका था केवल एक ही अंग्रेज़, जानें पूरी कहानी 

रानी लक्ष्मी बाई को देखने वाले बैरिस्टर जॉन लैंग की उस मुलाकात की कहानी। 

आखिर क्या थी वजह जो रानी लक्ष्मी बाई को देख सका था केवल एक ही अंग्रेज़, जानें पूरी कहानी 
SPONSORED

खूब लड़ी मर्दानी वो झांसी वाली रानी थी... ये लाइन सुन-पढ़कर ही हम सब बड़े हुए हैं। 1857 के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम की बात आती है तो रानी लक्ष्मीबाई का नाम सबसे आगे होता है। झांसी की रानी की वो तस्वीर हम सबके ज़ेहन में है जिसमें घोड़े पर बैठी रानी पीठ पर अपने बच्चे को बांधे अंग्रेजों से लड़ रही हैं। आपको बता दें कि दावा किया जाता है कि रानी लक्ष्मीबाई को सिर्फ एक ही अंग्रेज शख्स देख पाया था। लक्ष्मीबाई के जन्मदिवस पर आइए मिलाते हैं आपको उसी शख्स से और बताते हैं पूरी कहानी। 

SPONSORED

वकील जॉन लैंग

वकील जॉन लैंग

ऑस्ट्रेलिया के रहने वाले जॉन लैंग ब्रिटेन में रहते थे। और ब्रिटेन की सरकार के खिलाफ कोर्ट में मुकदमें भी लड़ा करते थे। रानी लक्ष्मीबाई ने जॉन को अपना केस लड़ने के लिए नियुक्त किया था।

RELATED STORIES

सोने की पट्टी पर लिखी थी चिठ्ठी

सोने की पट्टी पर लिखी थी चिठ्ठी
via

रानी लक्ष्मी बाई को जब मेजर एलिस ने किला छोड़ने का फरमान सुनाया। उसके बाद रानी लक्ष्मीबाई किला छोड़कर दूसरे महल में रहने लगी। ऐसे में किला वापस पाने के लिए उन्होंने केस लड़ने का सोचा और अंग्रेजों से बैर रखने वाले जॉन लैंग को सोने की पट्टी में पत्र लिखकर मिलने को बुलवाया।

जॉन लैंग ने लिखी है इस बारे में किताब

जॉन लैंग ने लिखी है इस बारे में किताब
via

जॉन को केस लड़ने के लिए रानी से मिलना पड़ा। इसलिए वो भारत आए। जॉन ने अपनी भारत यात्रा को एक किताब में समेट दिया। जिसमें रानी लक्ष्मीबाई की खूबसूरती व उनसे मिलने का संदर्भ भी है। जॉन की किताब का नाम है- 'वांडरिंग्स इन इंडिया'

बेटे की वजह से लैंग रानी को देख पाए थे 

बेटे की वजह से लैंग रानी को देख पाए थे 
via

रानी लक्ष्मीबाई ने महल के ऊपरी कक्ष में लैंग को बुलवाया। रानी और लैंग के बीच में एक पर्दा जिसमें से रानी की शक्ल बिल्कुल भी नहीं दिख रही थी। तभी अचानक रानी लक्ष्मीबाई के दत्तक पुत्र दामोदर राव ने पर्दा हटा दिया। और लैंग ने रानी का दीदार कर लिया।

रानी की खूबसूरती के कायल हो गए लैंग

रानी की खूबसूरती के कायल हो गए लैंग
via

अपनी किताब में लैंग ने रानी की खूब तारीफ की है। लैंग ने रानी के चेहरे की बनावट और नाक नख्श को बेहतरीन बताया। साथ ही ये भी लिखा है कि रानी की आवाज रूआंसी और जरा फटी हुई सी थी।

SPONSORED

ऑस्ट्रेलिया दौरे में पीएम ने लैंग का किया था ज़िक्र

ऑस्ट्रेलिया दौरे में पीएम ने लैंग का किया था ज़िक्र
via

साल 2014 के ऑस्ट्रेलिया दौरे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी लैंग का ज़िक्र किया था। पीएम ने लैंग का ज़िक्र कर बताया कि लैंग की मदद ने भारत-ऑस्ट्रेलिया के संबंधों को पुराने दौर से ही काबिलेतारीफ बनाया था।

रस्किन बॉन्ड ने ढूँढ़ी लैंग की कब्र

रस्किन बॉन्ड ने ढूँढ़ी लैंग की कब्र
via

मशहूर लेखक रस्किन बॉन्ड ने लैंग की कब्र 1964 में मसूरी में ढूँढ़ी थी। जिसके बाद भारत में लैंग के बारे में लोगों को पता चल पाया था।

मसूरी आए थे इसकी पुष्टि नहीं

मसूरी आए थे इसकी पुष्टि नहीं
via

जॉन लैंग कभी मसूरी आए भी थे या नहीं इसकी अभी कोई पुष्टि नहीं हुई है। और इससे संबंधित कोई दस्तावेज भी नहीं मिल सके हैं।

सैल्यूट- मिस्टर लैंग

सैल्यूट- मिस्टर लैंग
via

जॉन लैंग ने एक तरफ तो रानी लक्ष्मीबाई की मदद की, उसके लिए देश उनका शुक्रगुजार है। वहीं दूसरी तरफ आज के समय में रानी लक्ष्मीबाई के व्यवहार, खूबसूरती और साहस के बारें में भी लैंग की किताब बहुत कुछ बताती है। इसके लिए इतिहास उन्हें हमेशा याद रखेगा।

SPONSORED

क्या रानी लक्ष्मी बाई जितने सम्मान की हक़दार हैं, वह उन्हें आज के समय में मिल रहा है?