SPONSORED

जापान में आया 7.4 तीव्रता का जोरदार भूकंप

स्थानीय समयानुसार सुबह 6 बजे महसूस हुए झटके। 

जापान में आया 7.4 तीव्रता का जोरदार भूकंप
SPONSORED

7.4

अलसुबह महसूस हुए झटके, उठी 1 मीटर से ऊँची सुनामी की लहरें 

अलसुबह महसूस हुए झटके, उठी 1 मीटर से ऊँची सुनामी की लहरें 

स्थानीय समय के अनुसार सुबह लगभग 6 बजे देश के पूर्वी तट पर भूकंप के झटके महसूस किये गए। यह भूकंप फुकुशिमा तट पर महसूस किये गए, जहाँ 2011 में 8.1 मैग्नीट्यूड का विध्वंसकारी भूकंप और उसके बाद सुनामी आयी थी। 

आज सुबह आये भूकंप के झटकों के बाद कुछ जगहों पर सुनामी की 1 मीटर ऊंची लहरों के उठने की खबर भी सामने आई है। 

RELATED STORIES

SPONSORED
SPONSORED

सुनामी की चेतावनी जारी होने के बाद कर दी गई है रद्द 

सुनामी की चेतावनी जारी होने के बाद कर दी गई है रद्द 

इतनी तीव्रता के भूकम्प के बाद जापान में सुनामी की संभावनाएं काफी बढ़ गई थी। इस सम्बन्ध में चेतवानी भी जारी की जा चुकी थी। परंतु बाद में जापानी मौसम विभाग नें जापान के विभिन्न तटीय क्षेत्रों में सुनामी की चेतावनी को रद्द कर दिया है। 

फ्लाइट्स कर दी गई है निरस्त 

इस घटना के मद्देनज़र कुछ फ्लाइट्स भी डिले और कैंसिल कर दी गई हैं। लोगों को तटीय क्षेत्रों से दूर रहने की हिदायत दी गई है। अभी तक इस भूकम्प की वजह से किसी गम्भीर दुर्घटना की खबर नहीं आई है। 

लग गया है लंबा जाम 

लग गया है लंबा जाम 

भूकंप आने के बाद जापान के लोगों को कई दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। जापान के कई रास्तों में लंबे जाम लग गए हैं साथ ही लोगों के बीच काफी दहशत भी फैली हुई है। 

प्रधानमंत्री ने जारी किया सन्देश 

प्रधानमंत्री ने जारी किया सन्देश 

जापान के प्रधानमंत्री शिंज़ो आबे ने घटना के बारे में जानकारी देते हुए देश के नाम जारी किये सन्देश में कहा है कि 'मैं चाहता हूँ कि इस घटना के बारे में सही जानकारी जारी की जाए। ताकि हम इस स्थिति को जल्द से जल्द समझ सकें और इसे सुधारने के लिए सही कदम उठा सके।'

आप भी महसूस कर सकते हैं क्या है स्थिति 

इस वीडियो में साफ-साफ़ नज़र आ रहा है कि भूकम्प के झटके कितने भयानक थे। वैसे तो स्थिति अब भी सामान्य नहीं है, सभी उम्मीद कर रहे हैं कि हमें किसी बड़ी दुर्घटना का सामना ना करना पड़े। 

SPONSORED

क्या विश्व भर में भूकंप की बढ़ रही घटनाओं के पीछे मनुष्यों के द्वारा पर्यावरण को पहुंचाए जा रहे नुकसान जिम्मेदार हैं?