क्या आपने मोदी जी का डिजिटल गाँव देखा है? यहाँ होती है किराने के सामान से ले कर शेविंग तक के लिए डिजिटल पेमेंट!

चलिए मोदी जी के अनोखे गाँव। 

क्या आपने मोदी जी का डिजिटल गाँव देखा है? यहाँ होती है किराने के सामान से ले कर शेविंग तक के लिए डिजिटल पेमेंट!
SPONSORED

यहाँ पूरा देश नोटबंदी में आये कैश के संकट से जूझ रहा है। वहीं दूसरी ओर गुजरात में एक गाँव है, जहाँ पर इस फैसले का कोई प्रभाव नहीं पड़ा। क्या आप सोच रहे हैं कि यहाँ के लोग सामान नहीं खरीदते? ऐसा नहीं है, यहाँ के लोग भी सामान खरीदते हैं। मगर जहाँ पूरा देश नोटबंदी का रोना रो रहा था वहीं इस गाँव के लोगों ने टेक्नोलॉजी को अपना साथी बना लिया और हर मुसीबत, हर दर्द से इन्हें छुटकारा मिल गया।

यह है अकोदरा गाँव 

यह है अकोदरा गाँव 

अहमदाबाद से 90 किलोमीटर दूर बसे इस गाँव का नाम है अकोदरा। आपको जानकर और भी हैरानी होगी कि यह देश का पहला डिजिटल गाँव है। गाँव की जनसँख्या लगभग 1200 है। जहाँ पूरे देश में कैश को ले कर मारा-मारी चल रही है वहीं इस गाँव में इस फैसले का कोई असर नहीं हुआ।    

RELATED STORIES

आईसीआईसीआई बैंक ने लिया है इस गाँव को गोद 

आईसीआईसीआई बैंक ने लिया है इस गाँव को गोद 
via

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के मार्गदर्शन में आईसीआईसीआई बैंक ने इस गाँव को गोद लिया और इस गाँव को डिजिटल बनाया। इस गाँव के रहवासी बैलेंस डालने से लेकर रोज मर्रा की सारी चीजों, जैसे किराना या अन्य किसी जरुरी सामान का लेन-देन नेट बैंकिंग, मोबाइल बैंकिंग या डेबिट कार्ड से करते हैं। 

यहाँ बैंक में लाइन नहीं लगती है 

यहाँ बैंक में लाइन नहीं लगती है 
via

आईसीआईसीआई बैंक के द्वारा इस गाँव के डिजिटलाइज़ेशन हो जाने के बाद यहाँ अब बैंकों में लाइन नहीं लगती है। गाँव का पूरा ट्रांसेक्शन स्वीप कार्ड के ज़रिये होता है, लिहाज़ा यहाँ एटीएम पर भी भीड़ नहीं होती। सच-मुच टेक्नोलॉजी कितनी मुसीबतों को हल कर देती है।

देश का पहला डिजिटल गाँव होने का गौरव प्राप्त 

देश का पहला डिजिटल गाँव होने का गौरव प्राप्त 
via

इस गाँव को देश का पहला डिजिटल गाँव होने का गौरव प्राप्त है। गाँव-गाँव को डिजिटल बनाने के मोदी जी के सपने को पूरा करने की शुरुआत इस गाँव से ही हुई थी। मोदी जी के सपने को साकार करने में आईसीआईसीआई बैंक ने भी इस गाँव में एक अहम भूमिका निभाई है। 

इस कदम से काले धन में कमी आएगी 

इस कदम से काले धन में कमी आएगी 
via

गाँव वालों का मानना है मोदी जी के इस कदम से काले धन में कमी आएगी तथा देश की प्रगति में डिजिटल इंडिया एक अहम भूमिका निभाएगा। अकोदरा गाँव की महिलाएं मुख्य रूप से दूध का व्यापार करती हैं और उनका भी पूरा व्यापार डिजिटल ट्रांजेक्शन से होता है।

यहाँ के गाँव वाले पर्स नहीं बस मोबाइल रखते हैं 

यहाँ के गाँव वाले पर्स नहीं बस मोबाइल रखते हैं 
via

यहाँ के गाँव वाले अपने पास पर्स नहीं रखते, बल्कि इनका सारा काम मोबाइल से ही हो जाता है। यही तो है सपनों का भारत, जिसे आप मैं और हम सब सालों से देख रहे थे। यह एक नया कदम है जिसकी सराहना आज पूरा देश कर रहा है।

पूरा भारत डिजिटल होना चाहता है 

पूरा भारत डिजिटल होना चाहता है 
via

अभी तो यह अंगड़ाई है, आगे और भी लड़ाई है। जिस तरह गुजरात के इस छोटे से गाँव ने अपने आप को टेक्नोलॉजी में ढाल लिया है, उमीद है आगे आने वाले दिनों में देश का हर गाँव डिजिटल हो सके। ताकि जिस सपनों के भारत की कल्पना हमारे बुजुर्ग देख कर गए थे उस भारत में हमारी आने वाली पीढ़ी जी सके। 

क्या देश के अन्य गांवों को भी अब डिजिटल बन जाना चाहिए?