SPONSORED

99 प्रतिशत लोग नहीं जानते टी-शर्ट्स से जुड़े यह तथ्य

जानिए कहाँ से हुई टी-शर्ट्स की शुरुआत। 

99 प्रतिशत लोग नहीं जानते टी-शर्ट्स से जुड़े यह तथ्य
SPONSORED

छोटे हों या बड़े सभी को अपनी पसंद की टी-शर्ट चाहिए। प्रिंटेड, बिना प्रिंट वाली, कॉलर वाली, वी आकर की टी-शर्ट और न जाने कितनी तरह की टी-शर्ट्स बाज़ार में उपलब्ध हैं। ये टी-शर्टस किसी का भी मन मोह सकती हैं। टी-शर्ट आज के समय में इतनी आम हो गई है कि हम इससे जुड़े तथ्यों पर कभी गौर ही नहीं करते।
इसलिए यहाँ आपके लिए ऐसे तथ्य पेश किये जा रहे हैं जिनके बारे में आपने शायद ही कभी सोचा हो। 

SPONSORED

हम इसे टी-शर्ट क्यों कहते हैं?

हम इसे टी-शर्ट क्यों कहते हैं?

इसे 'टी-शर्ट' इसलिए कहा जाता है क्योंकि इसका आकर अंग्रेज़ी के T की तरह होता है।

RELATED STORIES

कहाँ से हुई थी इसकी शुरुआत?

कहाँ से हुई थी इसकी शुरुआत?
via

टी-शर्ट पहनने की शुरुआत अमरिकी नौसेना के द्वारा की गई थी। 1898 में स्पेनिश-अमेरिका युद्ध के दौरान अमरिकी नौसेना ने टी-शर्ट पहनने की शुरुआत की थी।

किसानों ने भी अपनाया

किसानों ने भी अपनाया
via

हांलाकि किसानों की टी-शर्ट्स इतनी फ़ैशन वाली नही थी, लेकिन उन दिनों किसानों के बीच टी-शर्ट्स की लोकप्रियता बहुत ज़्यादा थी।

दूसरे विश्व युद्ध के समय सैनिक पहनते थे टी-शर्ट

दूसरे विश्व युद्ध के समय सैनिक पहनते थे टी-शर्ट
via

द्वितीय विश्व युद्ध के समय सैनिक जगह-जगह टी-शर्ट में आराम करते हुए देखे जा सकते थे। इस तरह की टी-शर्ट्स बहुत आराम दायक होती थीं।

विश्व युद्ध के बाद

विश्व युद्ध के बाद
via

दूसरे विश्व युद्ध के बाद टी-शर्ट का चलन बहुत बड़ गया था। अब लोग टी शर्ट को अपनी आज़ादी और अभिव्यक्ति का माध्यम मानने लगे थे।

किशोर युवकों ने किया प्रचलित

किशोर युवकों ने किया प्रचलित
via

इस पहनावे को सबसे ज़्यादा सर्मथन, किशोर और युवा वर्ग से मिला। युवा नहीं चाहता थे कि कोई अपनी सोच उस पर थोपे। इस सोच को दर्शाने के लिए इससे बेहतर और कोई माध्यम नहीं था।

SPONSORED

टी-शर्ट अभियानों और जुलूसों की जान है

टी-शर्ट अभियानों और जुलूसों की जान है
via

आजकल लोगों के द्वारा जो भी अभियान चलाए जाते हैं उनमें टी-शर्ट का उपयोग एक आम बात हो गई है।

बड़ी कंपनियां टी-शर्ट्स के माध्यम से अपनी मार्केटिंग करती हैं

बड़ी कंपनियां टी-शर्ट्स के माध्यम से अपनी मार्केटिंग करती हैं
via

टी-शर्ट को शामिल किये बगैर कोई भी प्रमोशनल इवेंट अधूरी ही मानी जाएगी। आज आप जहाँ भी देखेंगे वहां आपकों अलग-अलग कंपनियों की टी-शर्ट्स देखने को मिल जाएगी।

रचनात्मकता की कोई सीमा नहीं है

रचनात्मकता की कोई सीमा नहीं है
via

आज टी–शर्ट्स के डिज़ाइन की कोई कमी नहीं है। फ़ैशन डिज़ाइनर्स हर दिन नए लुक और स्टाइल की टी शर्ट लॉन्च करते हैं जो सबका दिल जीत लेती है।

ख़ुद की अभिव्यक्ति

ख़ुद की अभिव्यक्ति
via

आप अपने आप में कितने ख़ास हैं ये अहसास ये टी शर्ट्स आपको देती हैं। आपको अपने व्यक्तित्व की अभिव्यक्ति के लिए इससे सशक्त माध्यम नहीं मिलेगा।

SPONSORED

क्या आपको भी टी-शर्ट्स पहनना पसंद है?