SPONSORED

पंजाब जेल से फरार हुआ आतंकी हरमिंदर मिंटू थाईलैंड से चलाता था गिरोह, जानें इससे जुड़ी कुछ और बातें 

नाभा जेल से फरार अहम् आतंकी 'मिंटू' से जुड़े कुछ तथ्य। 

SPONSORED

, 6 47

साल 2014 में हुआ था गिरफ्तार

साल 2014 में हुआ था गिरफ्तार

आतंक के कई केस में फरार हरमिंदर को दिल्ली के आईजीआई एयरपोर्ट से वर्ष 2014 में उस वक़्त गिरफ्तार किया गया था जब वो थाईलैंड से वापस भारत लौट रहा था। हरमिंदर ने अपना ठिकाना थाईलैंड को ही बना रखा था, जहाँ से वो अपने सारे ऑपरेशऩ चलाया करता था।

RELATED STORIES

SPONSORED
SPONSORED

गुरमीत राम रहीम पर हमले का आऱोपी

गुरमीत राम रहीम पर हमले का आऱोपी
via

हरमिंदर पर डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम पर भी जानलेवा हमले का आरोप है। साथ ही शिवसेना के तीन कार्यकर्ताओं की हत्या की साजिश रचने का आरोप भी हरमिंदर पर है।

कुल 10 आतंकी गतिविधियों में शामिल

कुल 10 आतंकी गतिविधियों में शामिल
via

साल 2010 में हलवाड़ा एयरफोर्स स्टेशन पर विस्फोटक बरामद हुआ था। जिसका आरोप हरमिंदर सिंह मिंटू पर ही लगा। ऐसी कुल 10 आतंकी गतिविधियां चलाने का आरोप है मिंटू पर।

खालिस्तान लिबरेशन फोर्स का चीफ है मिंटू 

खालिस्तान लिबरेशन फोर्स का चीफ है मिंटू 
via

सिक्खों के लिए अलग खालिस्तान देश की मांग करने वाले आतंकी संगठन खालिस्तान लिबरेशन फोर्स का जन्म 1986 में हुआ था। जिसका मौजूदा सरगना है हरमिंदर मिंटू। इससे पहले वो बब्बर खालसा इंटरनेशनल का सदस्य भी रह चुका है। 

आईएसआई मिंटू की मददगार है

आईएसआई मिंटू की मददगार है
via

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार साल 2014 के स्वतंत्रता दिवस पर पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई पंजाब में आतंकी हमला करने की साजिश में थी। जिसके लिए हरमिंदर मिंटू को चुना गया था। लेकिन उसके पहले ही हरमिंदर गिरफ्तार हो गया।

आईएसआई से ट्रेनिंग ले चुका है हरमिंदर

आईएसआई से ट्रेनिंग ले चुका है हरमिंदर
via

मीडिया रिपोर्ट्स में यह दावा भी किया जाता है कि हरमिंदर सिंह मिंटू को पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ने ट्रेनिंग दी थी। इसके अलावा मिंटू को आईएसआई से और भी अन्य मदद प्राप्त होती है। 

क्या है खालिस्तान विवाद

क्या है खालिस्तान विवाद
via

सिक्ख सम्प्रदाय के कुछ लोग अपने समुदाय के लिए पाकिस्तान की ही तरह एक अलग देश की मांग को लेकर अड़ गए थे। साल 1980 में अलग खालिस्तान की मांग अपने चरम पर थी। इस आंदोलन की अगुवाई कर रहा था जरनैल सिंह भिंडरावाले।

ऑपरेशन ब्लू स्टार

ऑपरेशन ब्लू स्टार
via

साल 1984 में ये आतंकी स्वर्ण मंदिर में घुस गए। उनका कब्जा हटाने के लिए ऑपरेशन ब्लू स्टार चलाया गया था। जिसके बाद यह आंदोलन और भी हिंसक हो गया। और इसी हिंसा के दौर ने पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की जान ले ली थी।

कई आतंकी संगठन मौजूद

कई आतंकी संगठन मौजूद
via

फिलहाल दुनिया के कई देशों में अलग-अलग नाम से खालिस्तानी लड़ाई के नाम पर आतंकी संगठन बने हुए हैं, उदाहरण के तौर पर बब्बर खालसा इंटरनेशन, भिंडरावाले टाइगर फोर्स, खालिस्तान टाइगर फोर्स, खालिस्तान कमांडो फोर्स। ये संगठन अक्सर ही तरह-तरह की आतंकी गतिविधियों को अंजाम दिया करते हैं।

SPONSORED

क्या पुलिस विभाग हरमिंदर सिंह मिंटू को दोबारा पकड़ने में कामयाब रहेगी?