तो इस वजह से खड़े होते हैं रोंगटे और पानी में सिकुड़ जाती है उँगलियाँ

छींक आने के पीछे भी होते हैं ये कारण। 

तो इस वजह से खड़े होते हैं रोंगटे और पानी में सिकुड़ जाती है उँगलियाँ
SPONSORED

अक्सर आपने बुजुर्गों को यह बात कहते सुना होगा कि स्वास्थ्य ही हमारी संपत्ति है। यही हमारा सबसे बड़ा धन है। वाकई हमारा शरीर एक ऐसी मशीन की तरह काम करता है जो स्वास्थ्यवर्धक चीजों काे ग्रहण कर हमें फायदा पहुँचाती है। वहीं वे चीजें जिससे शरीर को नुकसान होगा उसके प्रति शरीर एक प्रतिरोधी तंत्र की तरह काम करता है। 

आपने अक्सर देखा होगा कि जब हमें बहुत ज्यादा ठंड लगती है या फिर हम अधिक देर तक पानी में रहते हैं तो हमारी उँगलियों की त्वचा सिकुड़ने लगती है या जब भी हम इमोशनल होते हैं तो हमारी आँखों में आंसू आने लगते हैं। ये सारी चीजें कभी ना कभी हमेशा हमारे साथ हुई है लेकिन हमने कभी इन बातों पर गौर नहीं किया होगा। 

लेकिन क्या कभी आपने सोचा कि ऐसा क्यों होता है? इसके पीछे क्या वजह हो सकती है? तो चलिए हम आपको बताते हैं।

रोंगटे खड़े होना 

रोंगटे खड़े होना 

जब भी हमें बहुत ठंड लग रही होती है तो हमारे रोंगटे खड़े हो जाते हैं। इसके अलावा यदि किसी चीज के डर के हमारे रोंगटे खड़े होने की संभावना रहती है। ठंड से बचाव के लिए हमारी त्वचा, बालों को खड़ाकर स्किन को गर्म रखने का काम करती है।

RELATED STORIES

एड्रेनालाईन हार्मोन  

एड्रेनालाईन हार्मोन  
via

रोंगटे खड़े होने की मुख्य वजह एड्रेनालाईन हार्मोन होता है। इस हार्मोन की वजह से हमारी त्वचा में खिंचाव पैदा होता है। जिससे त्वचा में मौजूद रोमछिद्रों में उभार आ जाता है। 

चमड़ी का सिकुड़ना 

चमड़ी का सिकुड़ना 
via

बचपन में जब आप पानी में खेलते होंगे या फिर देर तक पानी में काम करने पर आपकी हाथों और पैरों की उंगलियां सिकुड़ जाती होगी। 

चिकनाहट है वजह 

चिकनाहट है वजह 
via

दरअसल पानी में रहने से आपकी हाथों और पैरों की उंगलियों में चिकनाहट आ जाती है, इसलिए पानी के अंदर चीजों पर पकड़ मजबूत करने के लिए आपकी उंगलियों में सिकुड़न आ जाती है।  

आंसू का आना 

आंसू का आना 
via

जब भी हम दुखी होते हैं तो हमारी आँखें आंसुओं से भर जाती है। ठीक उसी तरह जब किसी मौके पर हम इमोशनल हुए तब भी हमारी आँखों में पानी आ जाता है।

सफाई का नेचुरल तरीका 

सफाई का नेचुरल तरीका 
via

लेकिन असल वजह तो ये है कि आंसू का आना एक नेचुरल प्रोसेस है। इससे आँखों में नमी बनी रहती है, जिससे देखने में परेशानी महसूस नहीं होती।

छींक आना 

छींक आना 
via

ऐसा नहीं है कि केवल सर्दी या जुकाम होने पर ही हमें छींक आती है। इसके अलावा भी कई बार हमें जोरदार छींक का सामना करना पड़ता है।

वेस्ट को करती है बाहर 

वेस्ट को करती है बाहर 
via

जो भी धूल, मिट्टी, कचरा, जीवाणु सांस के द्वारा हमारे शरीर में प्रवेश करते हैं। छींक एक फिल्टर की तरह उन्हें प्रवेश करने से रोकती है और उन्हें बाहर निकाल फेंकती है।

जम्हाई का आना 

जम्हाई का आना 
via

सामान्य तौर पर ऐसा माना जाता है कि जब व्यक्ति बोर हो जाता है या फिर जब उसे बहुत गहरी नींद आ रही होती है तब वह जम्हाई लेता है।  

दिमाग का टेम्प्रेचर 

दिमाग का टेम्प्रेचर 
via

2014 में हुई स्टडी के मुताबिक, जब बॉडी को दिमाग का टेम्प्रेचर कम करना होता है तो शरीर जम्हाई लेने लगता है।तो देखा आपने हमारा शरीर वाकई अद्भुद है वो बदलावों के अनुरूप किस तरह खुद को ढाल लेता है।

Source 

क्या आपने कभी इन लक्षणों को नोटिस किया है?