ये हैं बॉलीवुड के 10 डबल मीनिंग गाने जिन्हें सुनकर घूम जाएगा आपका दिमाग

सेंसर बोर्ड ने भी नहीं दिया था ध्यान। 

ये हैं बॉलीवुड के 10 डबल मीनिंग गाने जिन्हें सुनकर घूम जाएगा आपका दिमाग
SPONSORED

शायद आपको वो वक्त याद होगा जब स्कूल में हिंदी की किताब में मौजूद कुछ महान कवियों की कविताओं की हम व्याख्या करते थे। साथ ही हम उसका सन्दर्भ और प्रसंग भी लिखा करते थे। हम एक-एक शब्द का अर्थ खोजते थे। इसके बाद विस्तार से लिखते थे। शुरुआत कुछ इस तरह से होती थी कि, "इस पंक्ति से कवि का आशय है कि...।"

याद आया। अब आज के दौर में बनने वाले गानों के साथ आप ऐसा ही कुछ करना चाहेंगे तो आपका दिमाग घूम जाएगा। जैसे "दिल डिस्को डिस्को बोले सारी रात सजना" गाना, अब इसका क्या मतलब है यार। ऐसा लगता है मानो लिखने वाले ने पहले दो पैग लगाए। इसके बाद जो मन में आया वो लिख दिया। इसके उलट कुछ गाने ऐसे भी होते हैं जिनका अर्थ निकाला भी जाए तो इतना गंदा निकलेगा कि हम किसी को बता भी नहीं पाएंगे। 

तो फिर देर किस बात की है। आइए जानते हैं पूरा मामला। 

"मूँ में ले" ( जीना हो तो ठोक डाल)

RELATED STORIES

इस गाने में जिस तरह लॉलीपॉप लेकर सिंगर ने रिपीट मोड पर 'मूँ में ले' गाया है, उससे गीतकार का क्या आशय है आप समझ ही गए होंगे। 

'तेरी ले लूँ' (तेरे मेरे बीच में)

घबराइए मत गीतकार इस गाने में सिर्फ लड़की की बाहें अपनी बाहों में लेना चाहता है। लोग खामखां इस गाने का मजाक उड़ाते रहते हैं। 

'दिन में लेती है, रात में लेती है' (अमानत)

'दिन में लेती है, रात में लेती है' गाने की शुरुआती सेकण्ड्स में लगता है कि ये निहायती अश्लील गाना है। मगर आगे लाइन आती है अपने "साजन का, अपने प्रीतम का अपने बालम का नाम" वैसे "नाम" शब्द काफी देर में आता है। तब तक हम अपने मन में पता नहीं क्या-क्या सोच चुके होते हैं। 

"खड़ा है खड़ा है" (अंदाज)

"खड़ा है खड़ा है" इस लाइन को सुनकर मन में ख्याल आता है कि ऐसा गाना सेंसर बोर्ड ने पास कैसे किया मगर अगली लाइन में वो 'दर पे तेरे आशिक खड़ा है' बोलकर गीतकार अपने इरादे पाक होने का सबूत दे देता है। 

"मैं माल गाड़ी तू धक्का लगा" (अंदाज)

इस गाने में गीतकार की भावनाओं को बिलकुल भी नेक नहीं कहा जा सकता। इसमें जूही चावला अनिल कपूर से मालगाड़ी बनकर धक्का लगवा रही हैं। इस गाने से तो कोई संस्कारी इंसान भी डबल मीनिंग निकाल सकता है। 

"हम तो तम्बू में बम्बू लगाए बैठे" (मर्द)

इस गाने में बीच में एक लाइन है कि "मैंने जोर से लगाया हाथ से भी दबाया" इन पंक्तियों में गीतकार क्या दबाना चाहता है? वो तो गीतकार ही जाने। 

"भाग डीके बोस" (डेल्ही बेली)

"भाग डीके बोस, बोस डी के बोस" इस लाइन को जितनी रफ़्तार से गाया गया है, उससे पहली बार में समझना मुश्किल हो जाता है कि गीतकार गाली देना चाह रहा है या डीके बोस को भगाना चाह रहा है। 

आय एम अ हंटर (गैंग्स ऑफ़ वासेपुर)

"आय एम अ हंटर, यू वांट टू सी माय गन" इन पंक्तियों में गीतकार अपनी गन दिखाने के लिए कह रहा है, मगर गाना सुनते समय फीलिंग कुछ और ही आती है। 

"चोली के पीछे क्या है" (खलनायक)

'चोली के पीछे क्या है, चुनरी के नीचे क्या है' इन पंक्तियों के माध्यम से गीतकार चाहता है कि हम कुछ अश्लील सोचें मगर आगे वो क्लियर कर देता है कि "चोली में दिल है मेरा"।

लैला तेरी ले लेगी (शूट आउट एट वडाला)

"लैला तेरी ले लेगी, तू लिख के ले ले" इस गाने में गीतकार ने अच्छी तरह व्याख्या कर दी है कि लैला कितनी खतरनाक है। अगर आपके फ्रेंड्स बॉलीवुड की इन महान रचनाओं से अनजान हैं तो इस आर्टिकल को अपने फ्रेंड्स के साथ शेयर कर उन्हें भी इनसे रूबरू करवाइये। 

मेरे और आर्टिकल्स पढ़ने के लिए, यहाँ क्लिक कर मुझे सब्सक्राइब करें।