SPONSORED

यहां हुआ था सबसे पहला श्राद्ध, जानिए इससे जुड़ी मान्यताएं

दोपहर 12 बजे से पहले न करें श्राद्ध। 

यहां हुआ था सबसे पहला श्राद्ध, जानिए इससे जुड़ी मान्यताएं
SPONSORED

माता-पिता और बुजुर्गों की सेवा करना तो हमारा धर्म है। मगर ऐसा भी नहीं है कि उनकी मृत्यु के बाद हम उन्हें भूल जाए। हमारा फर्ज है कि हम समय-समय पर अपने पितरों को याद करें। 'पितृपक्ष' एक ऐसा ही समय होता है, जब हम अपने पितरों की आत्मा की शांति और मोक्ष के लिए श्रद्धापूर्वक श्राद्ध और पिंडदान जैसे कर्मकांड करते हैं। 

'पितृपक्ष' 6 सितम्बर यानि भाद्रपद महीने की पूर्णिमा को शुरू हो चुका है। ये 15 सितम्बर यानि अश्विन महीने की अमावस्या तक चलने वाला है। आपको बता दें कि मनुष्य पर मुख्य रूप से तीन तरह के ऋण होते हैं। पहला 'पितृ ऋण', दूसरा 'देव ऋण' और तीसरा 'ऋषि ऋण'। 

वैसे इन सभी ऋणों में 'पितृ ऋण' को सर्वोपरि माना जाता है। पितरों में सिर्फ माता-पिता ही नहीं बल्कि हमारे परिवार के बुजुर्ग और पूर्वज भी आते हैं। पितृपक्ष के दौरान ब्राह्मण को भोजन करवाना, पिंड दान करना, शुभ कार्य न करना आदि बातें तो आपको पता ही होंगी। 

लेकिन क्या आप जानते हैं कि पितृपक्ष की शुरुआत कब हुई थी? कहां पिंडदान करना सबसे पुण्यकारी होता है और क्यों? शायद नहीं। तो फिर देर किस बात की है। आइए आज हम आपको बताते हैं पितृ पक्ष से जुड़ी कथाओं और मान्यताओं के बारे में। 

SPONSORED

पूर्वजों को शांति

पूर्वजों को शांति

पितृपक्ष के दौरान श्राद्ध करने के साथ ही पिंड दान और तर्पण करने से पूर्वजों की सोलह पीढ़ियों को शांति और मुक्ति की प्राप्ति होती है। ऐसा करना व्यक्ति को पितृऋण से भी मुक्ति दिलवाता है। इसका खासा महत्व है।

RELATED STORIES

पिंडदान का महत्व 

पिंडदान का महत्व 
via

हिन्दू धर्म के पिंडदान को मोक्ष प्राप्ति का सबसे आसान और सीधा तरीका माना जाता है। देशभर में कई धार्मिक स्थलों में श्रद्धापूर्वक पिंडदान किया जाता है। मगर इनमें से 'गया' में किया गया पिंडडान सबसे ज्यादा फलदायी माना जाता है।

राम ने किया था पिंडदान 

राम ने किया था पिंडदान 
via

बिहार के फल्गु तट पर स्थित 'गया' में पिंडदान करना यूं ही सबसे पुण्यकारी नहीं माना जाता है। मान्यता है कि भगवान राम ने पत्नी सीता के साथ पिता दशरथ की मौत के बाद 'गया' में ही उनकी आत्मा की शांति के लिए पिंडदान किया था। 

Source 

कर्ण की कहानी 

कर्ण की कहानी 
via

सूर्यपुत्र कर्ण का भी श्राद्धपक्ष से संबंध है। महाभारत के युद्ध में मृत्यु के बाद कर्ण जब स्वर्ग में गए तो उन्हें सोने-चांदी के गहने आदि दिए गए, लेकिन खाने को कुछ नहीं दिया गया। उन्होंने जब भगवान इंद्र से इस संबंध में पूछा तो जवाब मिला,"आपने ताउम्र सोना आदि ही दान किया है, अपने पूर्वजों का कभी श्राद्ध नहीं किया।" कर्ण ने कहा कि उन्हें पता ही नहीं था उनके पूर्वज कौन थे? इसलिए उन्होंने ऐसा नहीं किया। 

कर्ण को मिला दूसरा मौका 

कर्ण को मिला दूसरा मौका 
via

कर्ण को अपनी गलती सुधारने के लिए 15 दिन के लिए एक बार फिर धरती पर भेजा गया। कर्ण ने अपने पितरों को याद करते हुए उनका श्राद्ध किया। यही वजह है कि आज भी श्राद्ध 15 दिन के लिए मनाए जाते हैं।


यहां पहला पिंडदान 

यहां पहला पिंडदान 
via

भले ही बिहार के 'गया' में पिंडदान करने का सबसे अधिक महत्व माना जाता है। मगर जब बात पहले पिंडदान की आती है तो जबलपुर नर्मदा के लम्हेटाघाट से कुछ दूरी पर स्थित इंद्रगया का नाम सामने आता है। कहा जाता है कि यहां खुद देवराज इंद्र ने अपने पूर्वजों की आत्मा की शांति और मोक्ष के लिए पिंडदान किया था। 

इतना ही नहीं पहला श्राद्ध भी नर्मदा के तट पर ही हुआ था। यह खुद पितरों ने ही किया था। 

SPONSORED

निशान मौजूद 

निशान मौजूद 
via

कहा जाता है कि यहाँ स्थित 'गया' कुंड में आज भी देवराज इंद्र के वाहन ऐरावत हाथी के पैरों के निशान मौजूद हैं। इसके अलावा धरती के पहले राजा 'राजा मनु' द्वारा भी अपने पूर्वजों का पिंडदान यहां करने की बात भी कही जाती हैं। 

ब्राह्मण भोज क्यों?

ब्राह्मण भोज क्यों?
via

श्राद्ध के दौरान ब्राह्मण भोज का बहुत अधिक महत्व होता है। लेकिन ऐसा क्यों? दरअसल माना जाता है कि ब्राह्मणों के साथ हमारे पूर्वज भी वायु रूप में मौजूद होते हैं। ब्राह्मणों के भोजन करने से वो भी तृप्त हो जाते हैं। साथ ही अपने वंशजों को आशीर्वाद भी देकर जाते हैं। 

Source

12 बजे के बाद श्राद्ध 

12 बजे के बाद श्राद्ध 
via

श्राद्ध यानि श्रद्धा से अर्पित किया हुआ। पितृपक्ष में श्राद्ध करने से पूर्वजों को मुक्ति मिलती हैं। पितृपक्ष के दौरान सूर्य दक्षिणायन होता है और माना जाता है कि यह पूर्वजों को मुक्ति का मार्ग भी दिखाता है। लेकिन इसके लिए दोपहर में 12 बजे के बाद श्राद्ध किया जाना चाहिए। सुबह किया गया श्राद्ध पूर्वजों तक पहुंच ही नहीं पाता है। 

Source 

कौओं का महत्व 

कौओं का महत्व 
via

श्राद्ध के दौरान पहला भाग कौओं को दिए जाने की प्रथा से तो आप परिचित होंगे ही। माना जाता है कि कौओं में हमारे पूर्वज बसते हैं और वो हमसे खाना लेने आते हैं। यदि उन्हें खाना न मिले तो वो नाराज भी हो जाते हैं। इसलिए श्राद्ध के दौरान कौओं को खाना देने का इतना अधिक महत्व होता है। 

ये थी पितृपक्ष से जुड़ी कुछ मान्यतायें। 

Source 

SPONSORED

क्या आप श्राद्ध पक्ष से जुड़ी ऐसी ही कुछ बातें जानना चाहते हैं?