जब द्रौपदी ने सत्यभामा को बताए खुशहाल वैवाहिक जीवन के ये खास रहस्य 

श्रीकृष्ण के साथ पहुंची थीं सत्यभामा। 

जब द्रौपदी ने सत्यभामा को बताए खुशहाल वैवाहिक जीवन के ये खास रहस्य 
SPONSORED

'महाभारत' के बारे में कुछ-कुछ बातें तो सभी लोग जानते हैं, लेकिन पूरी कहानी अधिकांश को नहीं पता है। ज्यादातर लोगों के लिए 'महाभारत', केवल दो भाइयों में संपत्ति को लेकर हुआ विवाद मात्र है। जबकि इसी बहाने श्रीकृष्ण ने दुनिया को कल्याण के कई मार्ग बताए। यह और बात है कि उन पर कोई ध्यान नहीं देता। 

वैसे 'महाभारत' में कुछ और भी किरदार थे जिन्होंने महत्वपूर्ण भूमिका अदा की थी। हम बात कर रहे हैं द्रौपदी की। लोगों के लिए द्रौपदी केवल पांच पतियों वाली स्त्री थीं जबकि द्रौपदी का विवाह केवल अर्जुन के साथ हुआ था। पांडवों की मां ने ऐसी आज्ञा दी थी, इसलिए द्रौपदी को पांचों भाइयों की पत्नी बनना पड़ा। 

हालांकि पुराणों के मुताबिक ऋषि वेद व्यास ने सुखी वैवाहिक जीवन के लिए द्रौपदी को कुछ शर्तों का पालन करने को कहा था। इन्हीं के बूते आगे चलकर द्रौपदी बेहतर पत्नी बन पाई। यही तमाम बातें द्रौपदी ने सत्यभामा के साथ भी साझा की। आज बात उन्हीं चंद बातों की। 

श्रीकृष्ण की लीलाएं 

श्रीकृष्ण की लीलाएं 

श्रीकृष्ण की लीलाएं उन्हीं के समान अनंत है। तभी तो एक तरफ जहां उनके मन में राधा रानी थीं तो दूसरी तरफ रुक्मणी उनकी अर्धांगिनी थीं। बावजूद इसके उनकी दूसरी पत्नियां भी थीं। 

RELATED STORIES

सत्यभामा 

सत्यभामा 
via

श्रीकृष्ण की 16,000 रानियां थीं, जिसमें से 8 रानियां उनकी खास पत्नियों में से एक थीं। इन 8 पत्नियों में से ही एक पत्नी का नाम सत्यभामा था। वैसे उनकी पत्नी के रूप में पहला नाम रुक्मणी का आता है मगर उन्हें सत्यभामा भी उतनी ही प्रिय थीं।

द्रौपदी और श्रीकृष्ण की दोस्ती

द्रौपदी और श्रीकृष्ण की दोस्ती
via

श्रीकृष्ण और द्रौपदी के बीच बहुत अच्छी दोस्ती थी। एक बार जब श्रीकृष्ण अपनी पत्नी सत्यभामा के साथ द्रौपदी और पांडवों से मिलने पहुंचे तो श्रीकृष्ण तो पांडवों के साथ काम में व्यस्त हो गए और सत्यभामा की द्रौपदी के साथ बातें शुरू हो गई।

सत्यभामा के सवाल 

सत्यभामा के सवाल 
via

बातों-बातों में सत्यभामा ने द्रौपदी से पूछा, "आप कैसे अपने पांच पतियों को समान रूप से खुद से जोड़कर रखती हैं। कैसे आप उन सभी को अच्छा वैवाहिक जीवन दे पाती हैं।"  
आगे जानिए द्रौपदी ने कैसे दिया इन सवालों का जवाब। 

द्रौपदी के जवाब 

द्रौपदी के जवाब 
via

द्रौपदी पांडवों की पत्नी थीं। किसी भी स्त्री के लिए पांच पतियों के साथ रहकर सभी को खुश रखना किसी चुनौती से कम नहीं है। मगर द्रौपदी ने यह करके दिखाया। 

सम्मान करें 

सम्मान करें 
via

द्रौपदी ने पहला नियम बताते हुए कहा, "स्त्री को कभी ऐसी कोई बात नहीं करनी चाहिए, जिससे किसी का अपमान हो।" द्रौपदी ने कहा, "मैं पांडव परिवार के सभी सदस्यों का पूरा सम्मान करती हूँ।"    

पति की आजादी 

पति की आजादी 
via

"किसी भी स्त्री को अपने पति को वश में करने की कोशिश नहीं करनी चाहिए। यदि कोई पत्नी अपने पति को वश में रखने के लिए तंत्र-मन्त्र या किसी और चीज का उपयोग करती है तो ऐसा करके वो पति के साथ अपने रिश्ते को और बिगाड़ लेती है।"

बुरे चरित्र वाली स्त्रियों से दूरी  

बुरे चरित्र वाली स्त्रियों से दूरी  
via

सुखी वैवाहिक जीवन के लिए पत्नी को बुरे चरित्र वाली स्त्रियों से दूर रहना चाहिए। गलत आचरण वाली स्त्रियों से मेल-जोल होने पर जीवन में परेशानियां बढ़ जाती है।

रिश्तों की जानकारी 

रिश्तों की जानकारी 
via

समझदारी पत्नी होने के नाते एक स्त्री को अपने पति के परिवार की पूरी जानकारी होनी चाहिए। एक भी रिश्ते में खटास आ जाए तो उसे तुरंत दूर करना चाहिए और परिवार को एक सूत्र में पिरोए रखना चाहिए।

आलस का करें त्याग 

आलस का करें त्याग 
via

किसी भी स्त्री को आलस नहीं करना चाहिए। जो भी काम हो, उसे बिना देर किए पूरा करना चाहिए। इससे पति और पत्नी के बीच हमेशा प्रेम बना रहता है। 

दरवाजे पर ना रहे खड़े 

दरवाजे पर ना रहे खड़े 
via

द्रौपदी ने आगे बताया, "किसी भी स्त्री को बार-बार दरवाजे की दहलीज या खिड़की पर नहीं खड़े होना चाहिए। इससे समाज में उसकी छवि खराब होती है।"   

क्रोध पर नियंत्रण 

क्रोध पर नियंत्रण 
via

"स्त्री को अपने क्रोध पर नियंत्रण रखना चाहिए। क्रोध की वजह से ही बड़ी परेशानियां उत्पन्न होती है। ऐसे में स्त्री को क्रोध पर नियंत्रण रखने की कोशिश करना चाहिए।"

पति की जरूरतों की पूर्ति 

पति की जरूरतों की पूर्ति 
via

द्रौपदी ने कहा,"सुखद वैवाहिक जीवन का सबसे बड़ा रहस्य ये है कि पत्नी को अपने पति की हर जरूरत का पूरा खयाल रखना चाहिए और उन्हें संतुष्ट रखना चाहिए।"

पति भी रखें इन बातों का ध्यान

पति भी रखें इन बातों का ध्यान
via

पतियों को भी अपनी पत्नी की छोटी-छोटी जरूरतों का खयाल रखना चाहिए। साथ ही उनका सम्मान करना चाहिए। किसी भी मौके पर अपनी पत्नी का असम्मान करने से बचना चाहिए।

Source  

क्या आप मानते हैं कि पुराणों में भी स्त्री-पुरुष के संबंधों को लेकर कई उपयोगी बातें कही गई हैं?