अगर WhatsApp का डिलीट मैसेज फीचर नहीं होता, तो इन लोगों की बज गई होती बारह

आपको गुदगुदाएंगे ये स्क्रीनशॉट्स। 

अगर WhatsApp का डिलीट मैसेज फीचर नहीं होता, तो इन लोगों की बज गई होती बारह
SPONSORED

अक्सर गुस्से में, शराब के नशे में, किसी के उकसाने पर, इमोशनल होकर या जोश में, इंसान वो कर बैठता है जो उसे नहीं करना चाहिए। इसी हरकत को सरल शब्दों में 'भावनाओं में बह जाना' कहा जाता है। WhatsApp पर लगभग हर इंसान ने भावनाओं में बहते हुए ऐसे मैसेज किये हैं, जिन्हें भेजने के बाद उसे बहुत पछताना पड़ा है। इस बात को लेकर सोशल मीडिया पर कहावत भी बनाई गई है कि 'हमें अपने शब्दों का इस्तेमाल संभलकर करना चाहिए क्योंकि मुंह से निकले शब्द और WhatsApp पर भेजे गए मैसेज कभी वापस नहीं आते।' 

मगर शुक्र है WhatsApp वो फीचर लेकर आ गया है, जिसका हमें सालों से इन्तजार था। अब आप अपने द्वारा भेजे गए मैसेजेस को सीन होने से पहले डिलीट कर सकते हैं। WhatsApp का ये क्रांतिकारी फीचर कई लोगों की जिंदगी में मसीहा की तरह साबित हो रहा है। यकीन नहीं तो चलिए हम कुछ मजेदार स्क्रीनशॉट्स आपको दिखाते हैं।

बच गया बेचारा पति

बच गया बेचारा पति

अगर ये मैसेज इस आदमी की बीवी ने देख लिया होता तो खाने में सब्जी-रोटी नहीं बल्कि झरिया और बेलन मिलते। 

RELATED STORIES

ये दारू जो न बुलवाए वो कम है 

ये दारू जो न बुलवाए वो कम है 

जरा सोचिये अगर WhatsApp का नया फीचर नहीं आया होता तो इन महाशय का क्या हाल होता। 

मौत के मुंह से वापस आना

मौत के मुंह से वापस आना

इस लवर बॉय का ब्रेकअप लगभग हो ही गया था, मगर भला हो इस फीचर का जिसने इसे बचा लिया। 

तुमको कौन देखेगा?

तुमको कौन देखेगा?

अगर इनकी बीवी ने ये मैसेज देख लिया होता तो इनकी शक्ल देखने लायक नहीं बचती। 

क्रश के सामने हर कदम फूंक-फूंक कर रखना पड़ता है

क्रश के सामने हर कदम फूंक-फूंक कर रखना पड़ता है

क्रश से की गई एक बेवकूफी की बात आपका पूरा स्कोप खत्म कर सकती है। इसलिए कदम फूंक-फूंक कर रखने में ही समझदारी है। 

अरे! ये क्या बक दिया

अरे! ये क्या बक दिया

अगर पापा को पता चल जाता कि बेटे ने पैसे किसलिए मांगे हैं तो अगले दिन बेटे का भंडारा कर दिया जाता। 

गालियों की सुनामी आ जाती

गालियों की सुनामी आ जाती

जरा सोचिये, अगर इन महाशय ने ये तस्वीर न डिलीट की होती तो इनका दोस्त इन्हें गालियों की सुनामी में डुबाकर मार देता। 

ये ठरक का मामला है

ये ठरक का मामला है

जब इंसान ठरक में होता है तो उतनी देर के लिए अपनी अक्ल खो बैठता है। इनके साथ भी ऐसा ही हुआ मगर मैसेज सेंट होते ही इनकी अक्ल वापस आ गई। 

इनके पास होता है सुपर पावर 

इनके पास होता है सुपर पावर 

टीचर के पास हमारी गलतियां पकड़ने का सुपर पावर होता है। आपकी गलती कितनी भी छोटी हो मगर इनकी आँखों से नहीं बच सकती। 

इसे कहते हैं बाल-बाल बचना 

इसे कहते हैं बाल-बाल बचना 

एक मैसेज कितना हानिकारक हो सकता है, शुक्र है इन्होंने वक्त रहते समझ लिया। 

अगर आपको इन स्क्रीनशॉट्स ने गुदगुदाया तो इन्हें अपने करीबियों के साथ भी शेयर करें। 

मेरे और आर्टिकल्स पढ़ने के लिए, यहाँ क्लिक करें।

क्या आपके साथ भी कभी ऐसी कोई घटना हुई है?