इन मजेदार तस्वीरों को देखकर आप भी कहेंगे कि 'संगठन में शक्ति है'

'टीम वर्क' और 'जुगाड़' बना देते हैं हर काम आसान। 

इन मजेदार तस्वीरों को देखकर आप भी कहेंगे कि 'संगठन में शक्ति है'
SPONSORED

बचपन में शायद आपने स्कूल में एक नारा सुना होगा कि 'संगठन में शक्ति है'। मगर इस नारे का मतलब तब समझ आता है, जब बाइक का टायर पंक्चर हो जाए और दोस्त अपनी बाइक की मदद से हमारी बाइक को पंक्चर सुधारने वाली दुकान तक पहुंचा दे। जब गर्लफ्रेंड की बालकनी पर जाना हो और दोस्त हमें अपने कन्धों पर चढ़ाकर वहां पहुंचा दे। जब अगले दिन एग्जाम हो और 5 दोस्त एक-एक चैप्टर पढ़कर एक-दूसरे को समझा दें। इस तरह मिल-जुलकर किए गए कामों को 'टीम वर्क' कहा जाता है। 

वैसे भी जब 'टीम वर्क' और 'जुगाड़' आपस में मिलते हैं तो मुश्किल से मुश्किल काम भी आसानी से किया जा सकता है। आज हम आपके सामने ऐसे ही कुछ कामों को तस्वीरों के जरिए पेश करने जा रहे हैं। जरा गौर से देखिएगा। यकीनन ये तस्वीरें आपको गुदगुदाएंगी।

ऐतिहासिक अटैक

ऐतिहासिक अटैक

आपने लोगों को जुएं निकालते हुए तो कई बार देखा होगा मगर क्या कभी उन पर इतना बड़ा अटैक होते हुए देखा है?

RELATED STORIES

सबसे जबरदस्त ग्रुप स्टडी

सबसे जबरदस्त ग्रुप स्टडी
via

ग्रुप स्टडी करने के पीछे सबसे बड़ा मकसद ये होता है कि सब एक-दूसरे की मदद कर सकें। यहाँ देखिये कितनी अच्छी तरह एक-दूसरे की मदद की जा रही है। 

ये हैं सच्चे दोस्त

ये हैं सच्चे दोस्त
via

जब दोस्त को जरूरत हो तो उसके सच्चे दोस्त किसी न किसी तरह जुगाड़ बैठाकर उसकी मदद कर ही देते हैं।

जय-वीरू की जोड़ी 

जय-वीरू की जोड़ी 
via

इनकी दोस्ती भी जय-वीरू से कम नहीं है। वरना साइकिल से बाइक भी खींची जा सकती है, ऐसा शायद ही किसी ने सोचा होगा।

जुगाड़ बना देती है जिंदगी आसान

जुगाड़ बना देती है जिंदगी आसान
via

अगर आपको जुगाड़ करनी आती है तो आपके लिए जिंदगी में कोई काम मुश्किल नहीं हो सकता। 

क्या अापने किया है कभी ऐसा?

क्या अापने किया है कभी ऐसा?
via

हम सभी को अपने स्कूल और कॉलेज के दिनों में कभी न कभी ऐसा करने की जरूरत पड़ ही जाती है। 

इसे कहते हैं हटकर सोचना

इसे कहते हैं हटकर सोचना
via

एक तरफ जहाँ भीड़ अपना काम करवाने के लिए पागल हुई जा रही है वहीं इन्होंने अपना काम करवाने का कितना जबरदस्त तरीका खोज निकाला है।

'लव के लिए साला कुछ भी करेगा'

'लव के लिए साला कुछ भी करेगा'
via

प्यार में इंसान कुछ भी कर सकता है। यकीन ना हो तो इस तस्वीर को देख लीजिये।

हम साथ-साथ हैं

हम साथ-साथ हैं
via

जब दोस्त साथ हों तो मुश्किल से मुश्किल काम करना भी मुमकिन हो जाता है। 

जब एक दोस्त हो अमीर

जब एक दोस्त हो अमीर
via

जब एक दोस्त अमीर हो तो उसे बाकी लोगों को किस तरह साथ लेकर चलना पड़ता है, आप खुद देख लीजिये।

ऐसा नजारा तो पहले कभी नहीं देखा होगा

ऐसा नजारा तो पहले कभी नहीं देखा होगा
via

दो लोग चार बाइक चला रहे हैं। ये वाक्य सुनने में कितना अटपटा लग रहा है मगर इंडिया में कुछ भी नामुमकिन नहीं है मेरे दोस्त।

ये हैं सच्चे जुगाड़ू

ये हैं सच्चे जुगाड़ू
via

दो लोगों का ऑटो एक साथ खराब हो गया मगर सच्चे जुगाड़ू होने के नाते उन्होंने हार नहीं मानी। वो तीसरे की मदद लेकर मंजिल तक पहुंचे।

जुगाड़ के मामले में पुलिस वाले भी कम नहीं

जुगाड़ के मामले में पुलिस वाले भी कम नहीं
via

 चाहे पुलिस हो या आम आदमी, इंडिया में जुगाड़ करना हर इंसान को बखूबी आता है। 

 आपातकालीन खिड़की का दूसरा उपयोग

 आपातकालीन खिड़की का दूसरा उपयोग
via

आपातकालीन खिड़की सिर्फ बाहर निकलने के लिए नहीं होती बल्कि इसका दूसरा उपयोग भी सीख लीजिये।

जब सिर्फ रूमाल से बात न बन रही हो

जब सिर्फ रूमाल से बात न बन रही हो
via

वैसे तो ट्रैन में सीट पर रूमाल रखकर उसे रिजर्व कर लिया जाता है मगर जब उससे भी बात ना बन रही हो तो ये तरीके अपनाए जाते हैं।

जरा संभलकर

जरा संभलकर
via

खंबे पर चढ़े इस आदमी को कितना खतरा है, आप समझ ही गए होंगे।

जब डेडलाइन नजदीक हो

जब डेडलाइन नजदीक हो
via

जब डेडलाइन नजदीक हो और रिसोर्सेस उपलब्ध न हों तो इस तरह काम पूरा किया जाता है। 

अगर आपको इन तस्वीरों ने गुदगुदाया तो इन्हें अपने करीबियों के साथ भी शेयर करें। 

मेरे और आर्टिकल्स पढ़ने के लिए, यहाँ क्लिक करें।

क्या इन तस्वीरों को देखकर आपको भी अपना कोई किस्सा याद आया?