लो जी! यहाँ बिना पेंट पहने ट्रेन में घूमे लड़के और लड़कियां

यहाँ मनाया जाता है 'नो पेंट्स डे'।

लो जी! यहाँ बिना पेंट पहने ट्रेन में घूमे लड़के और लड़कियां
SPONSORED

सरकारी नौकरी की तैयारी कर रहे स्टूडेंट्स को सालभर मनाए जाने वाले जरूरी दिन रटने पड़ते हैं कि फलां दिन फलां बात के लिए मनाया जाता है। मगर आजकल दुनियाभर में इतने दिन मनाए जाने लगे हैं कि एक वक्त ऐसा आ जाएगा कि बेचारे स्टूडेंट्स को साल के पूरे के पूरे 365 दिन रटने पड़ेंगे।

विदेशों में मनाए जाने वाले ऐसे दिनों में कुछ दिन तो इतने अजीबोगरीब होते हैं कि भारतीय तो इनकी कल्पना भी नहीं कर सकते। ऐसा ही एक अजीबोगरीब दिन है 'नो पेंट्स डे'। इसे साल 2002 में मनाना शुरू किया गया था। इस दिन लोग बिना पेंट पहने सार्वजनिक जगहों पर घूमते हैं। जरा सोचिये फिल्म 'PK' के पोस्टर में आमिर खान बिना पेंट पहने नजर आए थे तो इतना हंगामा बरपा था। अगर ऐसा दिन इंडिया में मना लिया जाता तो कितना बवाल होता।

आज बात करते हैं 'नो पेंट्स डे' की, और देखते हैं इस दिन कैमरे में कैद हुई कुछ तस्वीरें।

इन्हें भी चढ़ा नंगे-पुंगे घूमने का शौक

इन्हें भी चढ़ा नंगे-पुंगे घूमने का शौक

न्यूयॉर्क में शुरू हुआ 8 जनवरी को नंगे-पुंगे घूमने का शौक अब 60 शहरों में फैल चुका है। हर साल इन शहरों में लोग सड़कों पर बिना पेंट के घूमते हुए नजर आते हैं।

RELATED STORIES

इन शहरों के लोगों ने किया सेलिब्रेट

इन शहरों के लोगों ने किया सेलिब्रेट
via

इस इवेंट को न्यूयार्क, शिकागो, लॉस एंजिलिस, लंदन, पेरिस समेत कई शहरों के लोगों ने सेलिब्रेट किया। 

लड़कियां भी लेती हैं हिस्सा

लड़कियां भी लेती हैं हिस्सा
via

इसमें सिर्फ लड़के ही नहीं बल्कि लड़कियां भी बढ़-चढ़कर हिस्सा लेती हैं। हमें उम्मीद है ये जानकर काफी लोग यहाँ जाने की ख्वाहिश करेंगे।

ठण्ड भी नहीं रोक पाई इन्हें

ठण्ड भी नहीं रोक पाई इन्हें
via

लन्दन में 'नो पेंट्स डे' को 800 से ज्यादा लोगों ने सेलिब्रेट किया। आपको जानकर हैरानी होगी कि उस दिन लन्दन का तापमान 3 डिग्री तक पहुंच गया था। इसलिए इन लोगों को 'खतरों के खिलाड़ी' कहना गलत नहीं होगा।

सात लोगों ने की थी शुरुआत

सात लोगों ने की थी शुरुआत
via

कहते हैं ना कि चिंगारी ही आगे चलकर आग बनती है। उसी तरह 'नो पेंट्स डे' की शुरुआत भी 'इवप्रोव' नाम के मशहूर थिएटर ग्रुप के सात लोगों ने की थी। 

पूरा दिन गुजारा सब-वे में 

पूरा दिन गुजारा सब-वे में 
via

उन्होंने अपना पूरा दिन बिना पेंट 'सब-वे' में गुजारा। फिर धीरे-धीरे ये न्यूयॉर्क में शुरू हुआ इवेंट अमेरिका और यूरोप में भी फेमस हो गया। 

ये था मकसद

ये था मकसद
via

इस इवेंट की शुरुआत बड़े ही नेक मकसद से हुई थी। इसका मकसद था लोगों को हँसाना। आखिर हंसी से बड़ा तोहफा और होता है क्या?

अजनबी की तरह करते हैं बर्ताव

अजनबी की तरह करते हैं बर्ताव
via

इस इवेंट में हिस्सा लेने वाले लोग एक-दूसरे से अजनबी की तरह बर्ताव करते हैं। इसकी वजह से इस इवेंट का मजा दोगुना हो जाता है।

कपल्स भी आते हैं नजर

कपल्स भी आते हैं नजर
via

इस इवेंट में कई कपल्स भी हिस्सा लेते हैं जो एक-दूसरे से प्यार जताते हुए नजर आते हैं।

वर्किंग क्लास के लोग भी लेते हैं हिस्सा

वर्किंग क्लास के लोग भी लेते हैं हिस्सा
via

इस इवेंट में वर्किंग क्लास के लोग भी बढ़-चढ़कर हिस्सा लेते हैं। इसमें हिस्सा लेने वाले लोग जैकट, मफलर, स्‍कार्व और ग्‍लव्‍स जैसी सभी चीजें पहने हुए नजर आते हैं सिवाय पेंट के। तो मौका मिले तो आप भी एक बार यहाँ जरूर घूमकर आइयेगा। 

Source

अगर आपको ये आर्टिकल पसंद आया तो इसे अपने करीबियों के साथ शेयर करना ना भूलें। 

मेरे और आर्टिकल्स पढ़ने के लिए, यहाँ क्लिक करें।

क्या आपने आज से पहले ऐसा कोई काम करते हुए किसी को देखा है?