केवल लड़कियां ही समझ सकती हैं इन तस्वीरों में छुपा दर्द, लड़कों की भलाई तो इन्हें ना देखने में है

पांचवें नंबर की बात आपको हैरान कर देगी। 

केवल लड़कियां ही समझ सकती हैं इन तस्वीरों में छुपा दर्द, लड़कों की भलाई तो इन्हें ना देखने में है
SPONSORED

"अरे ये लड़कियां तैयार होने में कितना वक्त लगाती हैं यार...। इन्हें कहीं बाहर ले जाना मतलब मुसीबत को गले लगाना। इससे तो अच्छा होता हम दोनों दोस्त ही बाहर चले जाते। हुह।" इस तरह मुँह बनाते हुए उसने अपनी भड़ास निकाली। बातों से तो आप ये जान ही गए होंगे कि दोनों लड़के अपनी गर्लफ्रेंड्स का इंतजार कर रहे थे और जैसे ही उनकी गर्लफ्रेंड्स तैयार होकर आईं वो दोनों उन पर बरस पड़े। बेचारी लड़कियां करती भी क्या, चुपचाप उनकी डांट सुनती रही।

ये आपकी या मेरी नहीं बल्कि हर लड़की की कहानी है। अब इन लड़कों को कैसे समझाया जाए कि लड़कों और लड़कियों के तैयार होने में कितना फर्क होता है। इसी बीच अगर कुछ ऐसा हो जाए जिसकी उम्मीद ही ना हो तो लड़कियों के 2 मिनट 2 घंटे में तब्दील हो जाते हैं। 

खैर! बेचारी लड़कियों के इस दुःख को केवल लड़कियां ही समझ सकती हैं। अगर आप लड़के हैं तो भूल ही जाइए कि आप इस दर्द को समझ पाएंगे। यकीन ना हो तो यह तस्वीरें भी देख लो। 

अचानक जीन्स का फटना 

अचानक जीन्स का फटना 

लड़के चाहे फटी जीन्स पहनकर घर से निकले तो भी उन्हें कोई देखेगा नहीं। वहीं अगर किसी लड़की की जीन्स फट जाए वो भी प्राइवेट पार्ट्स वाली जगह से तो लड़कियों के लिए ये सबसे बड़ी मुसीबत बन जाती है।

RELATED STORIES

लिपस्टिक खराब होना 

लिपस्टिक खराब होना 
via

बेचारी लड़कियां, एक तो लिपस्टिक लगाने में इतना टाइम लग जाता है कि ऊपर से कुछ खाना हो तो लिपस्टिक बिगड़ने का डर। बताइए भला लड़कियों की इन तकलीफों को लड़के कभी समझ पाएंगे क्या?

कुछ एक चुनना 

कुछ एक चुनना 
via

आई शैडो का कलर चुनना कितना मुश्किल काम है। इसे केवल लड़कियां ही समझ सकती हैं। किसी एक कलर को चुनने के लिए उन्हें अवॉर्ड दिया जाना चाहिए।

उफ्फ़! ये निशान 

उफ्फ़! ये निशान 
via

इन निशानों को देखकर तो आप समझ ही गए होंगे कि ये निशान कैसे हुए हैं? जी हाँ! अब आप खुद ही बताइए क्या लड़कों को इन निशानों और तकलीफों का सामना करना पड़ता है?

 नेल पॉलिश का बिगड़ना 

 नेल पॉलिश का बिगड़ना 
via

सबसे पहले तो नेल पॉलिश लगाना उसके बाद सलामती के साथ उसे सुखाना। ये दोनों काम लड़कियों के लिए किसी टास्क से कम नहीं होते। अगर ऐसे में नेल पॉलिश के साथ कुछ ऐसा हो जाए तो लड़कियों की छाती पर जैसे सांप लौटने लगते हैं।

नेल पॉलिश की बॉटल टूटना 

नेल पॉलिश की बॉटल टूटना 
via

जरा सोचिए। आप शानदार वाइन की बॉटल लेकर आए और वो पीने से पहले ही टूट जाए तो कैसा महसूस होगा? बस ऐसा ही दर्द नेल पॉलिश की बॉटल टूटने पर होता है। 

नेल्स का टूटना 

नेल्स का टूटना 
via

नेल्स टूटने का दर्द किसी से ब्रेकअप के दर्द से भी ज्यादा होता है। ब्रेकअप के बाद पेचअप होने की संभावना रहती है लेकिन अगर नेल्स एक बार टूट जाए तो फिर फेवीक्विक से भी नहीं जुड़ते रे बाबा।   

क्या कोई इसे समझेगा?

क्या कोई इसे समझेगा?
via

जब लड़कियों के फेवरेट फेस पाउडर का ये हाल हो जाए तो इससे ज्यादा तकलीफदेह उसके लिए और कुछ नहीं हो सकता। कुछ भी नहीं। 

इचिंग 

इचिंग 
via

लड़कों को खुला सांड कहा ही इसलिए जाता है क्योंकि वो पब्लिकली कुछ भी करने से नहीं हिचकते। वहीं लड़कियां अपने हर मूव को लेकर बड़ी सचेत रहती हैं। ऐसे में अगर उनके प्राइवेट पार्ट में इचिंग होने लगे तो वो बेचारी क्या करे?

बाल-बाल-बाल 

बाल-बाल-बाल 
via

लड़कियों की माँ को अक्सर ये शिकायत रहती है कि बाथरूम से लेकर बिस्तर और किचन तक उनके बाल पूरे घर में बिखरे पड़े होते हैं। लेकिन बेचारी लड़कियां अपने इतने लंबे बालों को संभाले भी तो कैसे?

हाय राम। 

हाय राम। 
via

इस तकलीफ से तो आप भी कभी ना कभी दो-चार हुए ही होंगे। रिप्ड जीन्स आजकल खूब चलन में है लेकिन इसे पहनकर जितना कूल और स्टाइलिश दिखते हैं। पहनते समय इतनी ही मेहनत भी लगती है। 

रबर बैंड्स का ये हाल 

रबर बैंड्स का ये हाल 
via

हर लड़की जानती है कि एक बार पोनीटेल बाँधने के बाद रबर बैंड्स की क्या हालत होती है? उसी दर्द का एक नमूना आपके सामने है।

मेरा साइज 

मेरा साइज 
via

लड़कियों की एक परेशानी यह भी होती है कि जब भी वो शॉपिंग करने जाती हैं, उनके साइज की चीजें बिक चुकी होती हैं। आखिर में मन मारकर उन्हें थोड़ा छोटा या बड़ा साइज खरीदना पड़ता है।

कुछ ज्यादा ही छोटी है 

कुछ ज्यादा ही छोटी है 
via

अगर गलती से आप छोटी साइज की जीन्स ले आई तो फिर ये दिन देखने के लिए तैयार रहिएगा। 

कुछ ज्यादा ही बड़ा है 

कुछ ज्यादा ही बड़ा है 
via

छोटे साइज वाली लड़कियों के लिए बड़ी चीज आ जाए तो मुसीबत। अब बताइए लड़कियां आखिर करे तो करे क्या?

ये आर्टिकल्स अपनी फीमेल फ्रेंड्स के साथ शेयर करें और उनका दुःख बांटने में उनकी मदद करें। अन्य आर्टिकल्स पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें। 

क्या आपने भी कभी ऐसी ही किसी समस्या का सामना किया है?